कोलकाता एक ऐसे राष्ट्र का निर्माण करना चाहती हूं, जहां कोई भूखा नहीं रहे- ममता बनर्जी

एक ऐसे राष्ट्र का निर्माण करना चाहती हूं, जहां कोई भूखा नहीं रहे- ममता बनर्जी

एक ऐसे राष्ट्र का निर्माण करना चाहती हूं, जहां कोई भूखा नहीं रहे- ममता बनर्जी

कोलकाता: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार को कहा कि वह एक ऐसे राष्ट्र का निर्माण करना चाहती हैं, जहां कोई भूखा नहीं रहे, जहां कोई महिला असुरक्षित महसूस नहीं करे और जहां कोई दमनकारी ताकत लोगों को बांटने का काम नहीं करे. स्वतंत्रता दिवस के मौके पर एक के बाद एक ट्वीट करते हुये ममता ने कहा कि भारतीयों को देश के लोकतांत्रिक मूल्यों की गरिमा को बनाए रखना चाहिए.

उन्होंने ट्वीट में कहा कि भारत के लिये मेरा एक सपना है, मैं एक ऐसे देश का निर्माण करना चाहती हूं, जहां कोई भूखा नहीं रहे, जहां कोई महिला स्वयं को असुरक्षित महसूस नहीं करे, जहां प्रत्येक बच्चे को शिक्षा मिले, जहां सबके साथ समान व्यवहार हो और जहां कोई दमनकारी ताकत लोगों को बांटने का काम नहीं करे. लोगों से देश के लिये उनके सपनों के बारे में पूछते हुये ममता ने कहा, ‘‘इस महान देश के लोगों से मेरा वादा है कि अपने सपनों के भारत के लिए मैं हर रोज प्रयास करूंगी. ममता ने कहा कि आजादी के 75 साल पूरे होने पर देश को स्वतंत्रता के वास्तविक सार के प्रति जागरूक होना चाहिए. उन्होंने कहा कि हम, भारत के लोगों को अपनी पवित्र विरासत को सुरक्षित रखना चाहिए और अपने लोकतांत्रिक मूल्यों तथा लोगों के अधिकारों की गरिमा को बनाए रखना चाहिए. कोलकाता के रेड रोड पर मुख्यमंत्री ने स्वतंत्रता दिवस समारोह के मुख्य कार्यक्रम में आज तिरंगा फहराया .

स्वतंत्रता दिवस पर लगभग दो घंटे तक चले रंगारंग समारोह में पश्चिम बंगाल पुलिस के विभिन्न विभागों और कोलकाता पुलिस ने परेड में हिस्सा लिया . इसके अलावा विभिन्न स्कूल के विद्यार्थियों ने भी स्वतंत्रता दिवस समारोह में हिस्सा लिया. ममता ने 12 पुलिस अधिकारियों को उनकी सेवा के लिए पदक देकर सम्मानित किया . मुख्यमंत्री ने इस मौके पर मणिपुर में भूस्खलन में जान गंवाने वाले पश्चिम बंगाल के 21 लोगों के परिजन को अनुग्रह राशि भी प्रदान की . उन्हें राज्य सरकार में नौकरी के लिए नियुक्ति पत्र भी सौंपे गये . परेड में सरकार की 'लक्ष्मी भंडार', 'दुआरे राशन', 'स्वास्थ्य साथी', 'कन्याश्री', 'कृषक बंधु' और 'सबुज साथी' योजनाओं की झांकियां भी शामिल हुईं. इस समारोह के दौरान मुख्यमंत्री के लिखे गीतों को भी बजाया गया . सोर्स- भाषा

और पढ़ें