जयपुर टीकम अनजाना के काव्य संग्रह रज भारत की चंदन सी का हुआ विमोचन, निरंजन आर्य ने किया लोकार्पण

टीकम अनजाना के काव्य संग्रह रज भारत की चंदन सी का हुआ विमोचन, निरंजन आर्य ने किया लोकार्पण

टीकम अनजाना के काव्य संग्रह रज भारत की चंदन सी का हुआ विमोचन, निरंजन आर्य ने किया लोकार्पण

जयपुर: कवि और साहित्यकार टीकम अनजाना के काव्य संग्रह रज भारत की चंदन सी का शनिवार को विमोचन किया गया. अजमेरी गेट स्थित भैरों सिंह शेखावत सभागार चेम्बर भवन में आयोजित समारोह में राज्य के मुख्य सचिव निरंजन आर्य, साहित्यकार शारदा कृष्ण, लोकेश कुमार सिंह साहिल, फारुख आफरीदी और समालोचक डॉ दुर्गा प्रसाद अग्रवाल ने इसका विमोचन किया. टीकम चंद बोहरा भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी हैं जो काव्य और साहित्य जगत में टीकम अनजाना’ के नाम से जाने जाते हैं. रज भारत की चंदन सी टीकम अंजाना का पांचवा कविता संग्रह है.

समारोह की अध्यक्षता मशहूर शायर लोकेश कुमार सिंह साहिल ने की. डॉ. शारदा कृष्ण  प्रमुख अतिथि वक्ता रहीं, शिक्षाविद् एवं विचारक डॉ. दुर्गा प्रसाद अग्रवाल और मुख्यमंत्री के विशेषाधिकारी फारूक़ आफ़रीदी समारोह के  विशिष्ट अतिथि थे. कार्यक्रम का संयोजन कवयित्री डॉ. सुशीला शील ने किया.

पुस्तक में शामिल टीकम अनजाना की कविताएं जन जागृति और सामाजिक सद्भाव के लिए लिखी और प्रकाशित करवाई गई हैं. ये कविताएं विद्यालयी विद्यार्थियों की आवश्यकता को ध्यान में रखकर रची गई हैं ताकि विद्यार्थी विभिन्न कार्यक्रमों में इनका पाठ, वाचन या गायन कर सकें. इस पुस्तक में महात्मा गांधी, नेहरू, इंदिरा गांधी, बाबा साहेब डॉ. अंबेडकर, लाल बहादुर शास्त्री, अटल बिहारी वाजपेयी, एपीजे अब्दुल कलाम, महाराणा प्रताप, पन्नाधाय, मीरा बाई सहित अनेक महापुरूषों पर आधारित रचनाएं पढ़ने योग्य हैं.

और पढ़ें