चंडीगढ़ Punjab: भ्रष्टाचार के आरोप में गिरफ्तार आईएएस अधिकारी के बेटे की गोली लगने से मौत

Punjab: भ्रष्टाचार के आरोप में गिरफ्तार आईएएस अधिकारी के बेटे की गोली लगने से मौत

Punjab: भ्रष्टाचार के आरोप में गिरफ्तार आईएएस अधिकारी के बेटे की गोली लगने से मौत

चंडीगढ़: भ्रष्टाचार के आरोप में गिरफ्तार भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी संजय पोपली के 27 वर्षीय बेटे की यहां शनिवार को गोली लगने से मौत हो गयी. पुलिस का कहना है कि उसने आत्महत्या की है जबकि परिवार ने साजिश का अंदेशा जताया है.

पंजाब पुलिस के सतर्कता विभाग ने नवांशहर में सीवेज पाइपलाइन बिछाने के लिए निविदा को मंजूरी देने के एवज में कथित रूप से रिश्वत मांगने के मामले में आईएएस अधिकारी संजय पोपली को गिरफ्तार किया था. चंडीगढ़ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कुलदीप सिंह चाहल ने कहा कि जांच में सामने आया है कि 27 साल के युवक ने खुद को गोली मार ली. एसएसपी ने कहा कि जांच जारी है. उन्होंने कहा कि घटना में लाइसेंसी पिस्तौल का इस्तेमाल किया गया था. मृतक के एक पारिवारिक मित्र और पड़ोसी ने संवाददाताओं से कहा कि भ्रष्टाचार के मामले की जांच के संबंध में सतर्कता विभाग का एक दल पोपली के घर आया था और घटना के वक्त वहां मौजूद था. पोपली की पत्नी ने संवाददाताओं को बताया, “सतर्कता विभाग के अधिकारी हम पर दबाव डाल रहे थे और उन्होंने जो मामला दर्ज किया था उसके संबंध में गलत बयान देने के लिए मेरे घरेलू सहायक तक को परेशान कर रहे थे. मेरा 27 साल का बेटा चला गया. वह एक अच्छा वकील था. उन्होंने उसे मुझसे छीन लिया.”

अपने बेटे के रक्त के धब्बे हाथ पर दिखाते हुए, पोपली की पत्नी ने कहा, “गलत मामला बनाने के लिए, उन्होंने मेरा बेटा छीन लिया, कार्तिक पोपली चला गया.” उन्होंने कहा कि मुझे न्याय चाहिए. मैं अदालत जाउंगी. (पंजाब के मुख्यमंत्री) भगवंत मान को इसका जवाब देना होगा.” उन्होंने कहा कि उनके पति संजय को अदालत में पेश होना था कि सतर्कता विभाग का दल उनके घर आ धमका. उन्होंने कहा कि सतर्कता विभाग के लोग कार्तिक को ऊपर के कमरे में ले गए और जब मैं ऊपर गई तो वे मेरे बेटे को मानसिक प्रताड़ना दे रहे थे. हमारे मोबाइल फोन भी ले लिए गए थे. पोपली परिवार की पड़ोसी 51 वर्षीय एक महिला ने कहा कि संजय पोपली पर आरोपों को स्वीकार करने के लिये सतर्कता आयोग का दबाव था.” महिला ने कहा कि कार्तिक पोपली को घंटों तक हिरासत में रखा गया. सोर्स- भाषा

और पढ़ें