गढ़चिरौली : IED ब्लास्ट में C-60 फोर्स के 16 कमांडो शहीद, ऐसे तैयार होती है ये फोर्स

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/05/01 03:13

गढ़चिरौली। महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में IED ब्लास्ट से C-60 कमांडो की टीम को निशाना बनाया गया है। इसमे 16 जवानों के शहीद होने की खबर मिल रही है। नक्सलियों ने 24 घंटे में यह दूसरा बढ़ा धमका किया है।

इससे पहले लोकसभा चुनाव के लिए होने वाले पहले चरण के मतदान से एक दिन पहले महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में CRPF की पेट्रोलिंग टीम पर नक्सलियों ने हमला किया था। नक्सलियों द्वारा CRPF की पेट्रोलिंग टीम पर किए गए IED ब्लास्ट की चपेट में कई जवान आए थे। हालांकि अभी तक घटना के बारे में पूरी जानकारी नहीं मिल पाई है। 

ऐसे तैयार होती है सी-60 कमांडो फोर्स 

नक्सली खतरों को ध्यान में रखते हुए 1992 में सी-60 कमांडो फोर्स तैयार की गई थी। इसमें पुलिस फोर्स के खास 60 जवान शामिल होते हैं। यह काम गढ़चिरौली के तब के एसपी के.पी. रघुवंशी ने किया था। सी-60 में शामिल पुलिसवालों को गुरिल्ला युद्ध के लिए भी तैयार किया जाता है। इनकी ट्रेनिंग हैदराबाद, बिहार और नागपुर में होती है। 

फोर्स को महाराष्ट्र की उत्कृष्ट फोर्स माना जाता है। रोजाना सुबह खुफिया जानकारी के आधार पर यह फोर्स आसपास के क्षेत्र में ऑपरेशन को अंजाम देती है। सी-60 के जवान अपने साथ करीब 15 किलो का भार लेकर चलते हैं। 

जिसमें हथियार के अलावा, खाना, पानी, फर्स्ट ऐड और बाकी सामान शामिल होता है। यह इकलौती ऐसी फोर्स है जो जिला स्तर पर तैयार की गई है। इसके लिए वहीं की जनजातीय आबादी से लोगों को लिया जाता है। क्योंकि नक्सलियों की तरह वे भी उस इलाके से परिचित होते हैं।
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in