मैनचेस्टर IND vs ENG: रोहित शर्मा ने वनडे सीरीज जीतने के बाद इन 3 खिलाड़ियों को बताया असली हीरो, जानिए क्या कुछ कहा

IND vs ENG: रोहित शर्मा ने वनडे सीरीज जीतने के बाद इन 3 खिलाड़ियों को बताया असली हीरो, जानिए क्या कुछ कहा

IND vs ENG: रोहित शर्मा ने वनडे सीरीज जीतने के बाद इन 3 खिलाड़ियों को बताया असली हीरो, जानिए क्या कुछ कहा

मैनचेस्टर: भारतीय कप्तान रोहित शर्मा (Rohit Sharma) ने रविवार को यहां तीन मैचों की वनडे श्रृंखला (IND vs ENG 3rd ODI) जीतने के बाद कहा कि कुछ चीजें हैं जिसमें सुधार की जरूरत है लेकिन टीम ने सफेद गेंद के चरण में जिस तरह का प्रदर्शन किया है, वह शानदार है. 

इंग्लैंड को निर्णायक वनडे में पांच विकेट से हराकर श्रृंखला 2-1 से अपने नाम करने के बाद रोहित ने कहा कि नतीजे से काफी खुश हूं. हम बतौर टीम सफेद गेंद के क्रिकेट में कुछ हासिल करना चाहते थे और हमने किया. उन्होंने कहा कि आगे बढ़ते हुए हमें कुछ चीजों में सुधार की जरूरत है लेकिन प्रयासों से खुश हूं. हम पिछली बार यहां हार गये थे. यहां जीतना आसान नहीं है लेकिन हमने जिस तरह से सफेद गेंद का चरण खेला, वह शानदार है.  

रोहित ने कहा कि मध्य के ओवरों में इन बल्लेबाजों ने ज्यादा लंबे समय तक बल्लेबाजी नहीं की थी. हमें ऋषभ (Rishabha Pant) और हार्दिक (Hardik Pandya) से यह देखने को मिली, दोनों शानदार खेले. कहीं भी नहीं लगा कि वे घबरा रहे थे. उन्होंने शानदार शॉट खेले. युजवेंद्र चहल के बारे में उन्होंने कहा कि वह टीम का काफी अहम सदस्य है, उसे इतना अनुभव है और वह सभी प्रारूपों में गेंदबाजी कर रहा है. यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि वह पिछले टी20 विश्व कप में नहीं खेला था. लेकिन उसने जिस तरह वापसी की, उससे खुश हूं.  

विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत को 113 गेंद में 16 चौके और दो छक्के जड़ित नाबाद 125 रन की पारी की बदौलत ‘मैन ऑफ द मैच’ जबकि हार्दिक पंड्या को ‘प्लेयर ऑफ द सीरीज’ चुना गया.  पंड्या ने अपने हरफनमौला प्रदर्शन से भारत को श्रृंखला 2-1 से जीतने में अहम भूमिका निभायी.  पंत ने कहा कि उम्मीद है कि मैं अपने पहले वनडे शतक को पूरी जिंदगी याद रखूंगा. मैं जब बल्लेबाजी करने उतरा (दो विकेट पर 25 रन के स्कोर पर) तो सिर्फ एक गेंद खेलने पर ध्यान दे रहा था क्योंकि जब टीम दबाव में होती है तो आप इसी तरह की बल्लेबाजी करते हो. मुझे इंग्लैंड में खेलना पंसद है.  आप जितना क्रिकेट खेलते हुए, उतने अनुभवी होते हो.  

पंड्या ने कहा कि मुझे सफेद गेंद का क्रिकेट काफी पसंद है. हम सभी जानते हैं कि इंग्लैंड को उसकी सरजमीं पर खेलना मुश्किल है और उनकी टीम काफी अच्छी है.  इसलिये हमारा योजना के अनुसार खेलना अहम था और विश्व कप भी करीब है.  हमारे लिये खुद को दिखाने का आदर्श मौका था. (इंग्लैंड को 259 रन पर रोकना) मेरे लिये रन गति को काफी अहम था. मैं ज्यादा से ज्यादा डॉट गेंदे खेलना चाहता था.  हमने शुरू में दो विकेट जल्दी ले लिये लेकिन उन्होंने वापसी की. जब तक विकेट मिलते रहे तो मुझे मेरी गेंद पर छक्का जड़ने से कोई परेशानी नहीं है.  

पंड्या और पंत ने संकटमोचक की भूमिका निभाते हुए पांचवें विकेट के लिये 133 रन की साझेदारी निभायी:
पंड्या और पंत ने संकटमोचक की भूमिका निभाते हुए पांचवें विकेट के लिये 133 रन की साझेदारी निभायी और टीम को मुश्किल से निकाला.  इस पर पंड्या ने कहा कि हमें उसकी (पंत) की प्रतिभा पता है. आज वह परिस्थितियों के हिसाब से खेला. हमारी भागीदारी ने मैच बदल दिया और जिस तरह से उसने मैच खत्म किया, वह विशेष था. 

इंग्लैंड को 2015 के बाद घरेलू सरजमीं पर तीसरी वनडे श्रृंखला में हार मिली:
इंग्लैंड को 2015 के बाद घरेलू सरजमीं पर तीसरी वनडे श्रृंखला में हार मिली और दिलचस्प बात है कि इन तीनों श्रृंखलाओं का निर्णायक मैच ओल्ड ट्रैफर्ड पर ही हुआ. इंग्लैंड के कप्तान जोस बटलर ने कहा कि मुझे लगता है कि हमने कम रन बनाये.  हमें गेंद से अच्छी शुरूआत की जरूरत थी जो हमने की. हमने मौके बनाये लेकिन इन दोनों (पंड्या और पंत) ने हमसे मैच छीन लिया.  सोर्स- भाषा 

और पढ़ें