INX मनी लॉन्ड्रिंग केस, इंद्राणी की गवाही से चिदंबरम पर लटकी गिरफ्तारी की तलवार

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/08/21 10:07

दिल्ली:  हाई कोर्ट से कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम को बड़ा झटका लगा है. आईएनएक्स मीडिया केस में हाई कोर्ट ने चिदंबरम की अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी. साथ ही उन्हें तीन दिन की मोहलत देने से भी इनकार कर दिया है. इसके साथ ही ईडी और सीबीआई जल्द ही चिदंबरम को गिरफ्तार कर सकते हैं. चिदंबरम के बचाव में कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी उतरीं. उन्होंने कहा, "मोदी सरकार राजनीतिक दुर्भावना से काम कर रही है."

पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम पर INX मीडिया केस मामले में शिकंजा कसता जा रहा है. दिल्ली हाई कोर्ट द्वारा इस केस में अग्रिम जमानत की अर्जी खारिज होने के बाद उनपर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है. दरअसल, चिदंबरम पर शिकंजा कसने के पीछे इंद्राणी मुखर्जी और पीटर मुखर्जी के दिए गए बयान हैं. आईएनएक्स मीडिया के प्रमोटर्स मुखर्जी दंपती के बयान कांग्रेस नेता के खिलाफ जांच एजेंसियों का मजबूत आधार बने

इंद्राणी ने जांच एजेंसी को दिए बयान में कहा कि INX मीडिया की अर्जी फॉरेन इनवेस्टमेंट प्रमोशन बोर्ड (FIPB) के पास थी.इस दौरान उन्होंने पति पीटर मुखर्जी और कंपनी के एक वरिष्ठ अधिकारी के साथ पूर्व वित्त मंत्री के दफ्तर नॉर्थ ब्लॉक में जाकर मुलाकात की थी. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को दिए अपने बयान में उन्होंने कहा, 'पीटर ने चिदंबरम के साथ बातचीत शुरू की और INX मीडिया की अर्जी एफडीआई के लिए है और पीटर ने अर्जी की प्रति भी उन्हें सौंपी. FIPB की मंजूरी के बदले चिदंबरम ने पीटर से कहा कि उनके बेटे कार्ति के बिजनस में मदद करनी होगी. इस बयान को ईडी ने चार्जशीट में दर्ज किया और कोर्ट में भी इसे सबूत के तौर पर पेश किया गया

'कार्ति ने 10 लाख रुपये रिश्वत के तौर पर लिए' 

इंद्राणी ने प्रवर्तन निदेशालय को बताया कि कार्ति से उनकी और पीटर की मुलाकात दिल्ली के एक होटल में हुई. इंद्राणी ने अपने बयान में कहा, 'कार्ति ने इस मामले को सुलझाने के लिए 10 लाख रुपये रिश्वत के तौर पर मांगे। कार्ति ने कहा कि उनके किसी ओवरसीज बैंक अकाउंट या असोसिएट के बैंक अकाउंट में यह रकम जमा करनी होगी, ताकि मामले को सुलझाया जा सके. पीटर ने कहा कि ओवरसीज ट्रांसफर संभव नहीं है तो कार्ति ने दो फर्म चेस मैनेजमेंट और अडवांटेज स्ट्रैटिजिक में पेमेंट का सुझाव दिया.

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in