अभी नहीं जागे तो तीव्र जलवायु परिवर्तन के गंभीर होंगे परिणाम : आईपीसीसी

अभी नहीं जागे तो तीव्र जलवायु परिवर्तन के गंभीर होंगे परिणाम : आईपीसीसी

 अभी नहीं जागे तो तीव्र जलवायु परिवर्तन के गंभीर होंगे परिणाम : आईपीसीसी

केनबरा: इंटरगवर्नमेंटल पैनल ऑन क्लाइमेट चेंज (आईपीसीसी) की एक बहुप्रतीक्षित रिपोर्ट के अनुसार, ऑस्ट्रेलिया एक ऐसे व्यापक और तीव्र जलवायु परिवर्तन का अनुभव कर रहा है, जैसा पिछले हजारों सालों में नहीं देखा गयाह है और इसके प्रभाव से सदी में 4 डिग्री सेल्सियस या उससे अधिक गर्म हो सकता है. सोमवार को जारी किए गए आकलन में जंगलों में आग, बाढ़ और सूखे जैसी चरम सीमाओं में अभूतपूर्व वृद्धि की भी चेतावनी दी गई है, लेकिन इसका कहना है कि उत्सर्जन में गहरी और तीव्र कटौती करने से ऑस्ट्रेलिया और दुनिया को सबसे गंभीर पृथ्वी ताप और इससे जुड़े नुकसान से बचाया जा सकता है.

1988 में आईपीसीसी की स्थापना के बाद से यह इसकी छठी रिपोर्ट है और किसी भी पिछले संस्करण की तुलना में अधिक क्षेत्रीय जानकारी प्रदान करती है. यह हमें एक स्पष्ट तस्वीर देती है कि विशेष रूप से ऑस्ट्रेलिया में जलवायु परिवर्तन कैसे होगा. यह रिपोर्ट इस बात की पुष्टि करती है कि मानव-जनित जलवायु परिवर्तन के प्रभाव ऑस्ट्रेलिया में वास्तविक रूप से सामने आए हैं. इसमें पूर्वी ऑस्ट्रेलिया करंट का क्षेत्र शामिल है, जहां महासागर वैश्विक औसत से चार गुना से अधिक की दर से गर्म हो रहा है. हम ऐतिहासिक जलवायु परिवर्तन, जलवायु अनुमानों, जलवायु प्रभावों और कार्बन बजट में विशेषज्ञता वाले जलवायु वैज्ञानिक हैं. हम पिछले तीन वर्षों में आईपीसीसी रिपोर्ट तैयार करने के अंतर्राष्ट्रीय प्रयास का हिस्सा रहे हैं. रिपोर्ट में पाया गया है कि मध्यम उत्सर्जन होने पर भी, आने वाले वर्षों और दशकों में जलवायु परिवर्तन के वैश्विक प्रभाव काफी खराब होंगे. ग्लोबल वार्मिंग की एक डिग्री का हर अंश कई चरम सीमाओं की आशंका और गंभीरता को बढ़ाता है. इसका मतलब है कि ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को कम करने का हर प्रयास मायने रखता है.

ऑस्ट्रेलिया नि:संदेह गर्म हो रहा है:
1910 के बाद से ऑस्ट्रेलिया लगभग 1.4 डिग्री सेल्सियस तक गर्म हो गया है. आईपीसीसी के आकलन का निष्कर्ष है कि मानव गतिविधियों से वातावरण में अतिरिक्त ग्रीनहाउस गैसों के हिसाब के बिना ऑस्ट्रेलिया और विश्व स्तर पर वार्मिंग की सीमा को समझाना असंभव है. रिपोर्ट जलवायु प्रभाव-चालकों (सीआईडी) की अवधारणा के बारे में बताती है: 30 जलवायु औसत, चरम सीमाएं और घटनाएं जो जलवायु प्रभाव पैदा करती हैं. इनमें गर्मी, सर्दी, सूखा और बाढ़ शामिल हैं.

रिपोर्ट इस बात की पुष्टि करती है कि ग्लोबल वार्मिंग ऑस्ट्रेलिया में अत्यधिक गर्म तापमान की तीव्रता और आवृत्ति में उल्लेखनीय वृद्धि कर रही है, साथ ही लगभग सभी तरह के शीत चरम में कमी आई है. आईपीसीसी ने पूरे विश्वास के साथ इस बात का उल्लेख किया है कि हाल ही में ऑस्ट्रेलिया में अत्यधिक गर्मी की घटनाएं, मानवीय प्रभाव के कारण अधिक संभावित या अधिक गंभीर बनीं.

इन घटनाओं में शामिल हैं:
-2012-13 की ऑस्ट्रेलियाई गर्मी, जिसे एंग्री समर के रूप में भी जाना जाता है, जब ऑस्ट्रेलिया के 70% से अधिक लोगों ने अत्यधिक तापमान का अनुभव किया.
-2014 में ब्रिस्बेन हीटवेव
-2018 क्वींसलैंड की आग से पहले की अत्यधिक गर्मी
-2019-20 की भीषण गर्मी जो ब्लैक समर झाड़ियों में आग का कारण बनी.

आईपीसीसी की रिपोर्ट में इस बात का उल्लेख पूरे विश्वास के साथ किया गया है कि 21वीं सदी के दौरान गर्मी और अधिक बढ़ेगी और यह कितनी बढ़ेगी इसकी सीमा ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को कम करने के वैश्विक प्रयासों पर निर्भर करती है. अगर इस सदी में वैश्विक औसत वार्मिंग 1.5 डिग्री सेल्सियस तक सीमित रही, तो ऑस्ट्रेलिया 1.4 डिग्री सेल्सियस से 1.8 डिग्री सेल्सियस के बीच गर्म हो जाएगा. अगर इस सदी में वैश्विक औसत वार्मिंग 4 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाती है, तो ऑस्ट्रेलिया 3.9 डिग्री सेल्सियस और 4.8 डिग्री सेल्सियस के बीच गर्म हो जाएगा.

आईपीसीसी का कहना है कि जैसे-जैसे ग्रह गर्म होगा, ऑस्ट्रेलिया में भविष्य की हीटवेव - और विश्व स्तर पर - अधिक गर्म और लंबे समय तक चलेगी. इसके विपरीत, ठंडे चरम कम तीव्र और लगातार दोनों होंगे. गर्म तापमान, कम वर्षा के साथ, ऑस्ट्रेलिया के कुछ हिस्सों को और अधिक शुष्क बना देगा. शुष्क जलवायु से नदी का प्रवाह कम हो सकता है, मिट्टी सूख सकती है, बड़े पैमाने पर पेड़ों की मौत हो सकती है, फसल को नुकसान हो सकता है, झाड़ियों में आग लग सकती है और सूखा पड़ सकता है. पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया का दक्षिण-पश्चिमी भाग मानव प्रभाव के कारण शुष्क होता जा रहा है और यह विश्व स्तर पर उल्लेख का केंद्र बना हुआ है. आईपीसीसी का कहना है कि इस क्षेत्र के सूखने का यह क्रम उत्सर्जन में वृद्धि और जलवायु के गर्म होने के कारण जारी रहने का अनुमान है. दक्षिणी और पूर्वी ऑस्ट्रेलिया में, सर्दियों और वसंत ऋतु में भी खुश्की जारी रहने की संभावना है.

जलवायु चरम पर बढ़ रहा है:
-आने वाले दशकों में ऑस्ट्रेलिया में गर्मी और खुश्की ही एकमात्र जलवायु चरम सीमा नहीं है. रिपोर्ट में यह भी नोट किया गया है:
-ऑस्ट्रेलिया के खतरनाक आग के मौसम में पहले से महसूस की गई और अनुमानित वृद्धि
-ऑस्ट्रेलिया में अधिकांश स्थानों पर भारी और अत्यधिक वर्षा में अनुमानित वृद्धि, विशेष रूप से उत्तर में
-ऑस्ट्रेलिया में लगभग हर जगह नदियों में बाढ़ के जोखिम में अनुमानित वृद्धि.
-गर्म जलवायु होने पर, एक घंटे या दिन में अत्यधिक वर्षा अधिक तीव्र या अधिक बार-बार हो सकती है, यहां तक ​​कि उन क्षेत्रों में भी जहां औसत वर्षा में गिरावट आती है.

आईपीसीसी रिपोर्ट में पहली बार समुद्र के स्तर में वृद्धि, बदलते तटीय तूफान और तटीय क्षरण के कारण तटीय खतरों के क्षेत्रीय अनुमान का उल्लेख किया गया - समुद्र तट से प्यार करने वाले ऑस्ट्रेलिया के लिए यह परिवर्तन बेहद प्रासंगिक हैं. उदाहरण के लिए, इस सदी में पूर्वी ऑस्ट्रेलिया जैसे स्थानों में रेतीली तटरेखा के 100 मीटर से अधिक पीछे हटने का अनुमान है.

गर्म, अधिक अम्लीय महासागर:
आईपीसीसी की रिपोर्ट में कहा गया है कि वैश्विक स्तर पर जलवायु परिवर्तन का मतलब है कि महासागर अधिक अम्लीय होते जा रहे हैं और ऑक्सीजन की कमी हो रही है. महासागरीय धाराएँ अधिक परिवर्तनशील होती जा रही हैं और लवणता के पैटर्न - समुद्र के वे भाग जो सबसे अधिक नमकीन और कम नमकीन हैं - बदल रहे हैं.

इसका मतलब यह भी है कि समुद्र का स्तर बढ़ रहा है और महासागर गर्म हो रहे हैं. इससे समुद्री हीटवेव में वृद्धि हो रही है जैसे कि हाल के दशकों में ग्रेट बैरियर रीफ पर बड़े पैमाने पर कोरल ब्लीचिंग हुई है. विशेष रूप से, पूर्वी ऑस्ट्रेलिया करंट का वह क्षेत्र जो महाद्वीप के पूर्वी तट के साथ दक्षिण में चलता है, वैश्विक औसत से चार गुना से अधिक की दर से गर्म हो रहा है. यह घटनाक्रम तथाकथित पश्चिमी सीमा धाराओं, जो सभी प्रमुख महासागरीय क्षेत्रों में पाई जाने वाली तेज, संकीर्ण महासागर धाराएं हैं, के साथ सभी क्षेत्रों में चल रहा है यह स्पष्ट वार्मिंग समुद्री पारिस्थितिकी तंत्र और जलीय कृषि को प्रभावित कर रही है और इसके जारी रहने का अनुमान है.

अब यहां से कहाँ ?:
दुनिया के सभी क्षेत्रों की तरह, ऑस्ट्रेलिया पहले से ही बदलती जलवायु के प्रभावों को महसूस कर रहा है. आईपीसीसी इस बात की पुष्टि करता है कि जलवायु प्रणाली में कुछ बदलावों से पीछे नहीं हटना है. हालांकि, वैश्विक ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन में मजबूत, तीव्र और निरंतर कटौती के माध्यम से परिणामों को धीमा किया जा सकता है, और कुछ प्रभावों को रोका जा सकता है. और अब समय आ गया है कि इस दिशा में गंभीर योजना और जमीनी कार्रवाई के माध्यम से बड़े पैमाने पर जलवायु परिवर्तन को अनुकूल दिशा में मोड़ा जाए. इस बारे में अधिक जानने के लिए कि जलवायु परिवर्तन ऑस्ट्रेलिया को कैसे प्रभावित करेगा, नवीनतम आईपीसीसी रिपोर्ट में एक इंटरएक्टिव एटलस शामिल है. विभिन्न उत्सर्जन परिदृश्यों के लिए और ग्लोबल वार्मिंग के विभिन्न स्तरों पर दुनिया के लिए पिछले रुझानों और भविष्य के अनुमानों का पता लगाने के लिए इसका इस्तेमाल करें. (भाषा)

और पढ़ें