मुंबई IPL 2022: ‘लाइन-अप’ तैयार करने में कमी के कारण इच्छानुसार नतीजे नहीं मिले- जयवर्धने

IPL 2022: ‘लाइन-अप’ तैयार करने में कमी के कारण इच्छानुसार नतीजे नहीं मिले- जयवर्धने

IPL 2022: ‘लाइन-अप’ तैयार करने में कमी के कारण इच्छानुसार नतीजे नहीं मिले- जयवर्धने

मुंबई: मुंबई इंडियंस के मुख्य कोच महेला जयवर्धने ने गुरूवार को स्वीकार किया कि इस इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) सत्र के दौरान करीबी मैचों में रणनीति के कार्यान्वयन की कमी का कारण ‘ लाइन - अप’ की खराब संरचना था जिसके कारण वे 10 टीम की तालिका में निचले पायदान पर हैं.

मुंबई इंडियंस लगातार आठ मैचों में हार से पहले ही आईपीएल से बाहर हो चुकी है जिसके बाद टीम ने अपना पहला अंक हासिल किया. लेकिन सबसे महत्वपूर्ण बात है कि आलोचक मानते हैं कि नीलामी में खराब रणनीति ही पांच बार की चैम्पियन के इस निराशाजनक प्रदर्शन का कारण थी. घरेलू खिलाड़ी जैसे बासिल थम्पी , जयदेव उनादकट , मुरूगन अश्विन के चयन साथ कीरोन पोलार्ड को रिटेन करना तथा इशान किशन को 15.25 करोड़ रूपये की राशि में खरीदना , इन सभी ने टीम के खराब प्रदर्शन में योगदान दिया.

हमारे पास अंत में उस तरह के फिनिशर  भी नहीं थे जो हमें जीत तक ले जायें:

जयवर्धने से जब नौ मैचों में रोहित शर्मा की खराब फॉर्म के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि एक टीम के लिये कारगर होने के लिये किसी एक का प्रदर्शन मायने नहीं रखता , रणनीति का कार्यान्वयन पूरी टीम को करना होता है. हमने इस सत्र में जिस तरह से अपने लाइन - अप को तैयार किया है , इसमें ही कुछ कमी है. उन्होंने कहा कि साथ ही , हमारे पास अंत में उस तरह के ‘ फिनिशर ’ भी नहीं थे जो हमें जीत तक ले जायें.

साथ ही निरंतरता की कमी थी और हमारे मुख्य बल्लेबाजों को लगातार अच्छा कर रन जुटाने की जरूरत थी:

जयवर्धने ने गुजरात टाइटन्स के खिलाफ होने वाले मैच की पूर्व संध्या पर कहा कि एक मैच में आपके ज्यादातर खिलाड़ी अच्छा क्रिकेट खेलें और यह लय बनी रहे तो टीम के लिये अच्छा होता है. पर हमारी टीम में यही कमी रही. इस सत्र में करीबी मैच नहीं जीत पाना मुंबई इंडियंस के लिये नुकसानदायक रहा. कोच ने कहा कि यह ऐसा सत्र रहा जिसमें हम करीबी मैचों में जीत दर्ज नहीं कर सके और हम मैचों को फिनिश भी नहीं कर सके. उन्होंने कहा कि साथ ही निरंतरता की कमी थी और हमारे मुख्य बल्लेबाजों को लगातार अच्छा कर रन जुटाने की जरूरत थी. यह सिर्फ एक खिलाड़ी का काम नहीं है , यह मिलकर होता है और हम इसमें निरंतर नहीं रहे. सोर्स-भाषा  

और पढ़ें