जयपुर कोर्ट ने IPS मनीष अग्रवाल को पांच फरवरी तक के लिए एसीबी रिमांड पर सौंपा

कोर्ट ने IPS मनीष अग्रवाल को पांच फरवरी तक के लिए एसीबी रिमांड पर सौंपा

जयपुरः भ्रष्टाचार के मामले में गिरफ्तार किए गए आईपीएस अधिकारी और दौसा के पूर्व एसपी मनीष अग्रवाल को बुधवार को कोर्ट में पेश किया गया. कोर्ट ने आरोपी आईपीएस अधिकारी मनीष अग्रवाल को पांच फरवरी तक के लिए एसीबी रिमांड पर भेज दिया है.

बचाव पक्ष ने लगाया जबरन फंसाने का आरोपः
जानकारी के अनुसार एसीबी की टीम ने रिश्वत मामले में गिरफ्तार आईपीएस अधिकारी मनीष अग्रवाल को बुधवार को भ्रष्टाचार निरोधक मामलों की विशेष अदालत क्रम संख्या 1 में पेश किया. मामले में एसीबी की ओर से आरोपी को पूछताछ के लिए रिमांड पर लेने का अनुरोध किया. वहीं बचाव पक्ष ने मामले में मनीष अग्रवाल को जबरन फंसाने का आरोप लगाते हुए कहा गया कि एसीबी की टीम को जांच में अभी तक कुछ भी साक्ष्य हाथ नहीं लगे है, जबकि दलाल द्वारा भी उनका नाम नहीं लिया गया है. उन्होंने कोर्ट से कहा कि एसीबी के अधिकारी मनीष अग्रवाल के मीडिया ट्रायल के जरिए जबरन दबाव बना रहे.  

कोर्ट ने दो दिन की रिमांड पर सौंपाः
वहीं कोर्ट ने दोनों पक्षों की दलीले सुनने के बाद आईपीएस अधिकारी मनीष अग्रवाल को 5 फरवरी तक एसीबी रिमांड पर सौंप दिया. एसीबी मुख्यालय में आरोपी मनीष अग्रवाल से पूछताछ की जाएगी. एसीबी को आशंका है कि पूछताछ में कई अहम और खुलासे सामने आ सकते है.

रिश्वत मामले में मंगलवार को किया गया था गिरफ्तारः 
उल्लेखनीय है कि मंगलवार को मनीष अग्रवाल को एसीबी ने गिरफ्तार किया था.  आईपीएस अधिकारी मनीष अग्रवाल पर सड़क निर्माण कंपनी से 31 लाख रुपए रिश्वत वसूलने का आरोप भी है. वहीं एक केस को रफा-दफा करने के घूस मांगने के मामला समेत भ्रष्टाचार के कई आरोप है.

और पढ़ें