नई दिल्ली IT मिनिस्टर रविशंकर प्रसाद बोले, Covid Pandemic में सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र बेहद मददगार रहा

IT मिनिस्टर रविशंकर प्रसाद बोले, Covid Pandemic में सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र बेहद मददगार रहा

IT मिनिस्टर रविशंकर प्रसाद बोले, Covid Pandemic में सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र बेहद मददगार रहा

नई दिल्लीः केन्द्र सरकार ने हाल ही में कहा है कि कोविड काल में सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र बेहद मददगार रहा है क्योंकि महामारी के संकटकाल में जब सब कुछ बंद हो गया था तब आईटी क्षेत्र ही एक ऐसा क्षेत्र था जिसके माध्यम से बच्चों की पढ़ाई, अदालतों में मामलों की सुनवाई और लोगों का कामकाज निर्बाध रूप से चला था. इलेक्ट्रॉनिकी एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने राज्यसभा में प्रश्नकाल के दौरान यह जानकारी दी है. 

आईटी क्षेत्र का जीडीपी में आठ फीसदी योगदान

उन्होंने राकांपा की फौजिया खान के पूरक प्रश्न के उत्तर में यह भी बताया है कि आईटी क्षेत्र का जीडीपी में आठ फीसदी योगदान है. उन्होने बताया है कि 46 लाख लोग इस क्षेत्र में कार्यरत हैं जिनमें से 14 लाख महिलाएं हैं. 2019 के बाद से दो लाख और लोगों को आईटी में नई नौकरी मिली है. प्रसाद ने कहा है कि कोविड काल में सब कुछ बंद रहा था लेकिन आईटी के जरिए सब कुछ चलता रहा था. काम आईटी के जरिए हुआ था और बच्चों ने भी इसके माध्यम से शिक्षा प्राप्त की थी.

डिजिटल भुगतान के मामले में भारत अग्रणी

प्रसाद ने बताया है कि महामारी के एक साल के दौरान बच्चों की पढ़ाई निर्बाध रूप से चली है. उच्चतम न्यायालय, उच्च न्यायालयों और अधीनस्थ अदालतों में करीब 70 लाख मामलों की डिजिटल माध्यम से सुनवाई हुई है.  यूपीआई, डिजिटल भुगतान के मामले में भारत अग्रणी रहा है. यह सब कुछ आईटी, इंटरनेट मोबाइल के माध्यम से ही हो पाया है. 

सरकारी स्कूलों के बच्चों को इसका पूरा लाभ मिले

उन्होंने बताया है कि ब्रॉड बैंड के विस्तार में यह बात हमें ध्यान में रखनी है कि सरकारी स्कूलों के बच्चों को इसका पूरा लाभ मिले. बड़े स्कूलों की तुलना में सरकारी स्कूलों की चिंता कम हो पाती है. हमें उन पर ध्यान देना है. प्रसाद ने यह भी बताया है कि भारत नेट परियोजना पर तेजी से काम चल रहा है. 

और पढ़ें