Live News »

यदि आप भी है हिल स्टेशन जाने के शौकीन तो लैंसडाउन जाना ना भूलें

यदि आप भी है हिल स्टेशन जाने के शौकीन तो लैंसडाउन जाना ना भूलें

जयपुर: हिल स्टेशन घुमने का शौक हर किसी को होता है. हिल स्टेशन पर जाने से  प्रकृति की खूबसूरती को निहारने का मौका मिलता है. प्रकृति के इस स्वरूप को सोच कर मन ही मन झूम उठता हैं, और यदि आप भी हिल स्टेशन जाने के शौकीन है तो भारत के उत्तराखण्ड राज्य में बसे लैंसडाउन का दौरा करना ना भूलें. 

क्यों खास है यह जगह-
भारत के उत्तराखण्ड राज्य की वादियों में पौड़ी गढ़वाल जिले में बसा एक सैनिक छावनी शहर है-लैंसडाउन. जहां एक बार जाएंगें तो आप भी इसकी खूबसूरती के कायल हो जाएंगें. कमाल की बात तो यह है कि जहां जाने के लिए आपको लम्बी छुट्टीयों की भी आवश्यकता नहीं हैं आप चाहे तो विकेंड़ पर ही 2-3 दिनों का प्लान बना सकते हैं. समुद्र तल से इसकी ऊँचाई 1706 मीटर है और यह शहर चीड़-देवदार के जंगलों के घिरा हुआ हैं जो इसकी सुन्दरता में चार चांद लगाने का काम करते हैं. पूरे साल रहने वाला सुहावना मौसम और चारों ओर फैली हरियाली मानों आपको एक अलग ही दुनिया का अहसास कराती हैं. 

इन जगहों पर जरूर जाएं लैंसडाउन में... 
भुल्ला ताल- गढ़वाल की सुरक्षा के लिए अपनी जान कुर्बान करने वाले जवानों को समर्पित है, यह झील भुल्ला ताल. इसकी लम्बाई 140 मीटर तथा चौडाई 40.5 मीटर है. झील के चारो ओर हट्स बने हुए है. जहां बैठकर आप प्रकृति के दृश्यों का आनंद उठा सकते हैं. हट्स के पास ही बच्चों के खेल कूद और मनोरंजन के लिए झूले, व अन्य उपकरण भी है. 

टिप एन टॉप- बर्फ से ढकी पहाड़ियों के रोमांचक दृश्यों को देखना चाहते हैं तो लैंसडाउन के टिप एन टॉप का दौरा जरूर करें. भुल्ला तिल से टिप एन टॉप की दूरी लगभग 1.5 किलोमीटर है. इस सैन्य क्षेत्र के पहाड की चोटी है, टिप एन टॉप जहां से हिमालय पर्वत की बर्फिली चोटिया देखी जा सकती है. तथा नीचे की ओर दिखती है हजारो फीट गहराई. यहां का सूर्यादय और सूर्यास्त का नज़ारा देखने लायक बनता हैं. यहां पिकनिक और ट्रेकिंग के लिए भी यह स्थान उपयुक्त रहेगा. खासकर फोटोग्राफी के शौकीन पहाड़ों को पीछे उगते सूरत को कैप्चर कर इस अनुभव को यादगार बना सकते है. 
 
भीम पकोरा- भीम पकोरा लैंसडाउन के निकट एक ऐतिहासिक लेकिन आश्चर्यजनक स्थान है. यह दिलचस्प स्थल शहर के बाहरी इलाके की धूरा रोड पर स्थित है. इस स्थान पर दो बड़े पत्थरों को एक के ऊपर एक संपूर्ण संतुलन बनाए देख सकते हैं. ऊपर का पत्थर एक ही उंगली से हिलाया जा सकता है, लेकिन दोनों हाथों से धक्का देने के बाद भी दोनों बड़े पत्थरों को कभी गिर नहीं जा सकता. यह लैंसडाउन सिटी सेंटर से 2 किमी दूर स्थित है.

ताड़केश्वर महादेव- ताड़केश्वर महादेव मंदिर टिहरी गढ़वाल जिले के लैंसडाउन क्षेत्र में स्थित पवित्र धार्मिक स्थान है. यह मंदिर समुद्री तल से 2092 मीटर ऊंचाई पर स्थित है. ताड़केश्वर महादेव देश के सबसे प्राचीन 'सिद्ध पीठों में गिना जाता है. जंगलों के बीच ट्र्रैकिंग करने के शौकीन हैं तो लैंसडाउन भैरवगढ़ी और ताड़केश्वर मंदिर का रास्ता चुन सकते हैं. मंदिर का रास्ता चीड़, देवदार के घनों जंगलों के बीच हो होकर जाता है. 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें
और पढ़ें

Stories You May be Interested in