यूपी में एक बेटी ने सोशल ​मीडिया पर योगी को दी चुनौती, लिखा- मेरे पापा को नहीं मिल रही ऑक्सीजन, हिम्मत हो तो गिरफ्तार करिए    

यूपी में एक बेटी ने सोशल ​मीडिया पर योगी को दी चुनौती, लिखा- मेरे पापा को नहीं मिल रही ऑक्सीजन, हिम्मत हो तो गिरफ्तार करिए    

यूपी में एक बेटी ने सोशल ​मीडिया पर योगी को दी चुनौती, लिखा- मेरे पापा को नहीं मिल रही ऑक्सीजन, हिम्मत हो तो गिरफ्तार करिए    

लखनऊ: पिछले दिनों सरकार द्वारा सोशल मीडिया (Social Media) पर कोरोना की व्यवस्थाओं को लेकर सोशल मीडिया पर पोस्ट करने पर कार्रवाई करने के निर्देशों के बाद भी लखनऊ की एक बेटी ने सोशल मीडिया पर लिखा- मेरे पापा को नहीं मिल रही ऑक्सीजन हिम्मत है तो गिरफ्तार कीजिए.

कुछ ऐसा है बेटी के द्वारा पोस्ट करने का मामला: 
बात 28 अप्रैल की है. रात के 10:30 बज रहे थे. अचानक सोशल मीडिया के जरिए एक मैसेज वायरल हुआ कि टेंडर पाम हॉस्पिटल (Tendor Palm Jospital) में ऑक्सीजन खत्म हो गई है. अस्पताल के संचालक ऑक्सीजन के लिए लाइन में लगे रहे और उधर करीब 100 मरीजों की सांस अटकी रही. अस्पताल में अफरा-तफरी मच गई. अस्पताल के संचालक अफसरों को फोन करते रहे, मगर उन्हें कोई मदद नहीं मिली थी.

एक मरीज की बेटी नेहा सिंह ने अस्पताल प्रशासन पर लगाए गंभीर आरोप:
इसी हॉस्पिटल में भर्ती लखनऊ के एक मरीज की बेटी नेहा सिंह (Daugther Neha Singh) का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. जिसमें नेहा ने अस्पताल प्रशासन पर बेहद गंभीर आरोप लगाए. साथ ही योगी सरकार को भी ऑक्सीजन की कमी की दावा करने के लिए गिरफ्तार करने की चुनौती भी दी.

मैं यहीं खड़ी हूं, हिम्मत हो तो आकर अपना मुंह दिखाओ:
नेहा सिंह ने कहा, दूसरे हॉस्पिटल में अपने पिता को शिफ्ट कराना चाह रही हूं तो मुझे यहां से निगेटिव रिपोर्ट चाहिए. इन लोगों (अस्पताल के डॉक्टर) को पता भी नहीं है कि मेरे पिता का टेस्ट हुआ है कि नहीं. इन लोगों ने मेरे पिता को कोविड वार्ड से बाहर निकाल दिया. मैं अस्पताल में 4 लाख 70 हजार रुपए जमा कर चुकी हूं. इन लोगों को पता नहीं है कि मेरे पिता का कौन सा टेस्ट हुआ है और कौन सा नहीं? इस अस्पताल में आज सुबह से दो बार ऑक्सीजन पूरी तरह से खत्म हो चुकी है.

आरोप: सरकार के अधिकारी अपने घरों में बैठे हैं
अस्पताल में कई लोगों का ऑक्सीजन लेवल सिंगल डिजिट में 1 से 9 के बीच चल रहा है. मेरे पिता का ऑक्सीजन 6 है. इस अस्पताल में मरीजों को हाथ के जरिए इस्तेमाल किए जाने वाले पंप से ऑक्सीजन दी जा रही है. जिसके लिए 1 दिन का 40 हजार रुपए लिया जा रहा है. आगे नेहा सिंह ने प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सीधी चुनौती देते हुए कहा कि उन्होंने (CM) ने ऐलान किया है कि ऑक्सीजन को लेकर अफवाह फैलाने वाले लोगों पर कार्रवाई की जाएगी. मैं यहां पर खड़ी हूं. मुझ पर कार्रवाई करके दिखाएं. मेरे पिता अस्पताल में ऊपर भर्ती हैं. सरकार के अधिकारी अपने घरों में बैठे हैं. अगर किसी में हिम्मत है तो यहां मेरे सामने आए. मैं यहां खड़ी हूं मेरे पापा ऊपर भर्ती हैं. आओ दिखाओ, वो CM अपने घर पर बैठे हैं, हिम्मत हो तो अपना मुंह लेकर दिखाओ.


बता दें कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पिछले हफ्ते दावा किया था कि प्रदेश में न तो बेड की कमी न ही ऑक्सीजन की. कुछ लोग राजनीति करने के लिए अफवाह फैला रहे हैं. ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई होगी.

पूर्व कैबिनेट मंत्री के बेटी का है हॉस्पिटल:
राजधानी लखनऊ के शहीद पथ पर स्थित टेंडर पाम हॉस्पिटल पूर्व कैबिनेट मंत्री शिवपाल सिंह यादव की बेटी का है. यह हॉस्पिटल बीते साल मार्च माह में कोविड-19 महामारी शुरू होने से पहले चालू हुआ था. इस अस्पताल में 28 अप्रैल को ऑक्सीजन की कमी से 5 मरीजों की मौत की बात भी सामने आई थी. हालांकि अस्पताल प्रशासन ने ऑक्सीजन की कमी को एकसिरे से खारिज कर दिया है. यह भी कहा कि मरीजों की मौत ऑक्सीजन की कमी से नहीं बल्कि वे बेहद गंभीर हालत में थे. इसलिए उनकी मौत हुई है.

 
 

और पढ़ें