बिना पट्टे के ही निर्माण स्वीकृति के नाम पर ग्राम पंचायत ने वसूल लिए लाखों रूपये

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/02/10 12:30

सिरोही। सिरोही जिले के वासा ग्राम पंचायत में सनसनीखेज भूमि घोटाला सामने आया हैं। ग्राम पंचायत की आबादी भूमि पर बिना पट्टो के ही कछ खास व अपने चेहते पचास से अधिक लोगों को निर्माण व परकोटा निर्माण स्वीकृति के नाम पर वासा ग्राम पंचायत ने 5100-5190 वसूल कर उन्हें इसकी रसीद भी पकड़ा दी। इस भूमि घोटाले में इस कदर डूब चुके थे कि ग्राम पंचायत के सचिव ने राजस्व बनानाम भूमि में भी परकोट निर्माण की रसीद काट कर पकड़ा दी। लोगों ने इस निर्माण स्वीकृति रसीद को ही पट्टा समझ कर ग्राम पंचायत की आबादी भूमि पर एक साथ परकोटे निकाल कर कब्जे कर लिये। वासा के जाबेजी रोड पर करोड़ो रूपयों की इस आबादी भूमि पर वासा ग्राम पंचायत के कर्मचारियों व जनप्रतिनिधियों ने मिलीभगत व पद का दुरूपयोग कर अपने मिलने वालों को बिना निलामी प्रक्रिया अपनाये कब्जे करवा दिये। अवैध तरीके से करोड़ो की भूमि पर लोगों को कब्जा करवाने के मद में इस तरह लिप्त हो गये कि राजस्व विभाग की बिलानाम जमीन व मगरी पर भी निर्माण करने की स्वीकृति की रसीदें काट दी। 

शिकायत पर राजस्व विभाग ने की कार्यवाही
करोड़ो के इस भूमि घोटाला प्रकरण में राजस्व विभाग की भूमि पर कब्जे होने की सूचना पर राजस्व विभाग ने तो कार्यवाही कर बिनानाम भूमि से कब्जे हटा दिये। लेकिन पंचायती राज विभाग हाथ पर हाथ धरे बैठा रहा व बिना पट्टे नियम विरूद्ध रसीद काटने वालों के विरूद्ध कोई कार्यवाही अमल में नहीं लाई गई। जिससे अतिक्रमियों के हौंसले बुलंद हो गये हैं।

राजस्व विभाग ने मौकाफर्द में बताया ग्राम पंचायत को दोषी
ग्राम पंचायत वासा द्वारा लालीमाता मगरी खसरा नंबर 896/1 में नियम विरूद्ध प्लाट काट कर जारी की निर्माण स्वीकृति के मामले में राजस्व बिलानाम भूमि से अतिक्रमण हटाने के दौरान 25 अक्टूबर को तैयार की गई मौका फर्द में ग्राम पंचायत को दोषी माना हैं। जिलकालक्टर के निर्देशानुसार तहसीलदार बृजेश गुप्ता ने राजस्व विभाग की टीम के साथ अतिक्रमण हटवा कर मौके पर पड़े पत्थर और टेंकर को जब्त किये थे।

इसी जगह पर अतिक्रमण के मामले में पूर्व में सरपंच को हटाया था पद से
ग्राम पंचायत वासा में लालीमाता मगरी खसरा नंबर 896/1 व 926 में तत्कालीन सरपंच गौरीशंकर प्रजापत के कार्यकाल में अतिक्रमण होने की शिकायत पर संभागीय आयुक्त ने तत्कालीन सरपंच गौरीशंकर को पद से अयोग्य घाषित कर पद रिक्त कर दिया था। लेकिन कुछ ही समय बाद वर्तमान ग्राम पंचायत के कर्मचारियों व जनप्रतिनिधियों ने अपने पद का दुरूपयोग कर बेशकिमती जमीन को अपने मिलने वालों को गैर कानूनी रूप से  काबिज करवा दिया।

जरूरतमंद तरसे, सांठगांठ वालों की मिले भूखंड
ग्राम पंचायत वासा में आबदी विस्तार के लिए सुरक्षित इस भूमि में जरूरतमंद भूमिहीन लोगों प्राथमिकता से भूखंड आवंटित होने थे। लेकिन ग्राम पंचायत के जनप्रतिनिधियों ने अपने चेहतो व रिश्तेदारों को बिना निलामी प्रक्रिया अपना कर केवल इन भूखंडो पर निर्माण स्वीकृति की रसीद काट कर काबिज करवा दिये। जबकि भूमिहीन ववास्तविक जरूरत मंद तरसते रह गये। बताया जा रहा हैं कि इस भूमि पर कुछ लोगों का पुराना कब्जा चला आ रहा था। उन्हें ग्राम पंचायत ने बेदखल कर अपने लोगों को काबिज करवा दिया। सूत्र बताते हैं कि इस भूमि पर कब्जे करवाने के एवज में रसीद के अलावा भी भ्रष्टाचार हुआ हैं।

...कमलेश प्रजापत फर्स्ट इंडिया न्यूज सिरोही

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

तो फिर किसका करेंगे सलमान खान प्रचार ?

प्रियंका की बोट यात्रा के सियासी मायने
Arrest Warrant Issued Against Nirav Modi By London Court: Sources
प्रियंका गांधी का वोट के लिए बोट का सहारा
Jodhpur : वृद्धाश्रम में मनाई लोगों ने होली
चुनाव के चलते निर्वाचन विभाग में अटकी ट्रेन संचालन की अनुमति
VHP ने फिर अलापा \'राम राग\'
Pramod Sawant Set to be Next Goa CM