Covid-19: अमिताभ बच्चन की हेल्प से तैयार मुंबई के एक कोविड-19 केंद्र का संचालन शुरू

Covid-19: अमिताभ बच्चन की हेल्प से तैयार मुंबई के एक कोविड-19 केंद्र का संचालन शुरू

Covid-19: अमिताभ बच्चन की हेल्प से तैयार मुंबई के एक कोविड-19 केंद्र का संचालन शुरू

मुंबई: देश में कोरोना की दूसरी लहर (Second Wave) जमकर कहर बरपा रही है. देश इस समय भारी संकट (Severe Crisis) से जूझ रहा है. इस संकट काल में बॉलिवुड भी मदद को सामने आ रहा है. अभिनेता अमिताभ बच्चन (Actor Amitabh Bachan) की मदद से तैयार एक कोविड-19 देखभाल केंद्र ने मंगलवार से संचालन शुरू कर दिया है. इस केंद्र में 25 बिस्तर हैं और यहां ऑक्सीजन की उपलब्धता भी है. फिल्मनिर्माता आनंद पंडित ने यह जानकारी दी.

केंद्र को शुरू करने के लिए BMC ने दी अनुमति:
पंडित ने बताया कि बच्चन ने जुहू स्थित ऋतंभरा विश्व विद्यापीठ केंद्र (Ritambhara University Center) को जरूरी उपकरण और इसे तैयार करने से संबंधित अन्य जरूरी चीजें मुहैया कराई है. चेहरे फिल्म में बच्चन के साथ काम करने वाले पंडित ने एक बयान में कहा कि इस केंद्र को चलाने के शुरुआती प्रयोग के बाद अब इस केंद्र ने 18 मई, मंगलवार सुबह 10 बजे से संचालन शुरू कर दिया है. बच्चन ने इस केंद्र को उपकरण और अन्य ढांचागत चीजें मुहैया (Provided Infrastructure) कराई है. इस केंद्र को BMC (Brihanmumbai Municipal Corporation) से जरूरी अनुमति मिल गई है.

देश को बच्चन ने दान दी 15 करोड़ की राशी :
बच्चन ने 16 मई को अपने ब्लॉग में बताया था कि 25 बिस्तरों (25 Beds) वाला एक केंद्र मंगलवार से संचालन शुरू करेगा. बच्चन ने कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ लड़ाई में देश को करीब 15 करोड़ रुपये की राशि दान में दी है, जिसमें दिल्ली में गुरुद्वारा रकाब गंज साहिब (Gurudwara Rakaab Ganja Sahib) में श्री गुरु तेग बहादुर (Shri Guru Tegh Bahadur) कोविड देखभाल केंद्र और बंगला साहिब गुरुद्वारा जाँच केंद्र को दिया गया दान शामिल है.

 

इसी बीच बच्चन ने सोमवार रात एक ब्लॉग पोस्ट में बताया कि कल रात मुंबई में चक्रवात ताउते (Cyclone Toute) की वजह से आई बाढ़ के कारण उपनगरीय जुहू में स्थित उनके कार्यालय जनक (Office Janak) में पानी भर गया. उन्होंने लिखा कि चक्रवात के बीच एक अजीब तरह की शांति है. जनक कार्यालय में पानी भर गया और मानसून की बारिश से जो बचने के लिए प्लास्टिक शीट की तैयार हो रहे थे, वह भी फट गए.

और पढ़ें