जुगाड़ पर आयकर विभाग, राज्य में 2821 में से 961 पद पड़े हैं रिक्त

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/11/12 10:11

जयपुर: केन्द्र सरकार के खजाने में सर्वाधिक राजस्व जुटाने वाले विभागों में से एक आयकर विभाग में कर्मचारियों का टोंटा है. राजस्थान में विभाग की हालत यह है कि यहां स्वीकृत पदों में से एक तिहाई पद रिक्त पड़े हैं. नतीजा यह कि कर्मचारियों को न केवल देर रात तक काम करना पड़ रहा है. बल्कि अवकाश के दिन भी आयकर कर्मचारी व अधिकारी काम करने के लिए पहुंच रहे हैं. 

तीन मुख्य आयकर आयुक्त कार्यालयों में बांटा हुआ: 
आयकर विभाग को राजस्थान में तीन मुख्य आयकर आयुक्त कार्यालयों में बांटा हुआ है. जयपुर की प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त केडर कंट्रोलिंग ऑथोरिटी होने के कारण इन तीनों मुख्य आयकर आयुक्त कार्यालयों की मुखिया है. लेकिन सेवानिवृति व तबादलों के कारण राज्य में तीन में से दो मुख्य आयकर आयुक्त यथा उदयपुर व जोधपुर के पद रिक्त पड़े हैं. स्थिति यह है कि जयपुर की प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त के पास मुख्य आयुक्त उदयपुर व जोधपुर का भी अतिरिक्त प्रभार है. इससे जयपुर की PCCIT श्रीमती नीना निगम को अकेले तीन मुख्य आयकर आयुक्त कार्यालयों का काम देखना पड़ रहा है. हालांकि तीन पदों की जिम्मेदारी के बावजूद वे राज्य में आवंटित आयकर राजस्व के लक्ष्य को प्राप्त करने का दावा तो करती हैं, लेकिन एक व्यक्ति के पास तीन पदों की जिम्मेदारी होने के बावजूद वे कितना काम कर पाएंगी यह आसानी से समझा जा सकता है. 

जिम्मेदारी व काम का दवाब काफी अधिक: 
केवल मुख्य आयकर आयुक्त पद ही नहीं आयकर विभाग में छापेमारी करने वाली अन्वेषण शाखा में राज्य में नम्बर दो की कमान संभालने वाले प्रधान निदेशक आयकर अन्वेषण के पद की भी कमोबेश यहीं स्थिति है. PDI Inv. पद पर वर्तमान में श्याम कुमार नियुक्त है. लेकिन अजमेर के PCIT के रूप में कार्यरत श्याम कुमार को यह जिम्मेदारी इस पद से 31 अगस्त को सेवानिवृत हुए PDI Inv. गजानन्द मीना के स्थान पर मिली है. अब मौजूदा स्थिति यह है कि दोहरी जिम्मेदारी के कारण श्याम कुमार तीन दिन अजमेर और दो दिन जयपुर में मौजूद रहते हैं. चूंकि दोनों ही पदों पर जिम्मेदारी व काम का दवाब काफी अधिक है. अत: श्याम कुमार की स्थिति को आसानी से समझा जा सकता है. कमोबेश यहीं स्थिति राज्य में स्वीकृत 12 प्रधान आयकर आयुक्त पदों पर नियुक्त 8 अधिकारियों की भी है. इनमें से चार के पास अतिरिक्त प्रभार है. इसी तरह अतिरिक्त व संयुकत आयुक्त पद पर कार्यरत 46 अधिकारियों के पास 57 पदों की जिम्मेदारी है. हालांकि आयकर विभाग में उपायुक्त व सहायक आयुक्तों की स्थिति काफी खराब तो नहीं पर फिर भी 68 उपायुक्त व सहायक आयुक्तों के पास 74 पदों की जिम्मेदारी है.

यह रहा राज्य में आयकर अधिकारियों के खाली पदों का हाल:

पद का नाम                                                                      स्वीकृत पद          कार्यरत अधिकारी         रिक्त पद
मुख्य आयुक्त / महानिदेशक आयकर अन्वेषण                       3                       1                               2
प्रधान आयकर आयुक्त / निदेशक आयकर अन्वेषण                12                      8                              4 
अतिरिक्त आयकर आयुक्त / संयुक्त आयकर आयुक्त             57                     46                            11
आयकर उपायुक्त / सहायक आयकर आयुक्त                          74                     68                            6  

आयकर विभाग के फील्ड अधिकारियों की स्थिति भी काफी अच्छी नहीं है. विभाग में आम करदाताओं के कर निर्धारण व रिफण्ड जैसे मामलों का निपटारा करने व आयकर वसूली के लिए सक्रिय रहने वाले आयकर अधिकारी पद पर राज्य में 240 पद स्वीकृत है. इनमें से 233 पदों पर ITO मौजूद है. लेकिन फिर भी 7 ITO तो ऐसे हैं, जिन पर अतिरिक्त प्रभार है. आयकर विभाग राजस्थान में सबसे दयनीय स्थिति यदि किसी पद पर है तो वह प्राइवेट सैकेट्री पद की है, जहां राज्य में स्वीकृत 19 पदों में से शत-प्रतिशत पद रिक्त पड़े हैं. हालांकि वरिष्ठ प्राइवेट सैकेट्री पद की स्थिति को भी अच्छा नहीं कहा जा सकता. इस पद पर राज्य में 16 पद स्वीकृत हैं, लेकिन इस पद की जिम्मेदारी निभाने के लिए राज्य में केवल 9 अधिकारी ही मौजूद है. आयकर विभाग में कर सहायक व वरिष्ठ कर सहायक भी अतिरिक्त जिम्मेदारी से कार्य कर रहे हैं. राज्य में वरिष्ठ कर सहायकों के 423 पद स्वीकृत हैं, लेकिन इनमें से 258 अधिकारी ही राज्य में मौजूद हैं. अर्थात 165 वरिष्ठ कर सहायकों का राजस्थान को इंतजार है. इसी तरह कर सहायकों के राज्य में 445 पद स्वीकृत है. पर राज्य में 122 कर सहायक ही उपलब्ध है. अर्थात 323 कर सहायकों के आगमन की राजस्थान के आयकर विभाग को प्रतीक्षा है.  

यह रहा राज्य में आयकर B व C श्रेणी के खाली पदों का हाल:

पद का नाम                                                                      स्वीकृत पद       कार्यरत अधिकारी         रिक्त पद
आयकर अधिकारी                                                              240                   233                           7
प्रशासनिक अधिकारी - ग्रेड-2                                               32                     14                            18 
वरिष्ठ निजी सचिव                                                            16                      9                               7
निजी सचिव                                                                      19                      0                               19
कार्यालय अधीक्षक                                                              148                    70                             78  
वरिष्ठ कर सहायक                                                             423                   258                           165  
कर सहायक                                                                       445                   122                           323  

राज्य में कुल आयकर कर्मचारी/अधिकारी                          2821                  1860                           961

आयकर विभाग में कर्मचारियों को A, B, व C वर्गों में बांटा जाता है. आयकर विभाग में कर्मचारियों की नियुक्ति SSC व UPSC के माध्यम से होती है. सूत्रों का कहना है कि विभाग की ओर से जितने कर्मचारियों की मांग की जाती है, उतने नहीं मिलते जो मिलते हें उनमें से भी एक बड़ा हिस्सा ज्वाइन करने से पूर्व ही अन्यत्र चला जाता है. बताया जाता है कि विभाग में कर्मचारियों की नियुक्ति प्रक्रिया काफी लम्बी है, अत: जब तक परीक्षा में सफल होने वाला युवा विभाग में नियुक्ति के लिए तेयार होता है, तब तक विभाग के मौजूदा कर्मचारियों की सेवानिवृति हो जाती है. इससे आयकर विभाग में रिक्तियां पूरी ही नहीं हो पाती और कर्मचारियों की कमी समाप्त ही नहीं होती.
 
...विमल कोठारी, फर्स्ट इण्डिया न्यूज, जयपुर

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in