आयकर विभाग ने एक बार फिर आरसीए पर कसा शिकंजा, करीब 42 लाख किए अटैच

आयकर विभाग ने एक बार फिर आरसीए पर कसा शिकंजा, करीब 42 लाख किए अटैच

आयकर विभाग ने एक बार फिर आरसीए पर कसा शिकंजा, करीब 42 लाख किए अटैच

जयपुर: आयकर विभाग ने एक बार फिर राजस्थान क्रिकेट संघ पर शिकंजा कस लिया है. विभाग ने आरसीए को करीब 8 करोड रुपए के बकाया का नोटिस थमा दिया है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार आरसीए को 31 जनवरी तक का अल्टीमेटम दिया गया था, लेकिन आरसीए ने बकाया जमा नहीं कराया. इसके बाद सोमवार को कार्रवाई करते हुए आयकर विभाग ने आरसीए के खाते से करीब 42 लाख रुपये अटैच कर लिए. 

2012 का बकाया:
हालांकि इस बारे में आरसीए  कोषाध्यक्ष कृष्ण निमावत ने पूरी तरह से चुप्पी साध रखी है. वही आरसीए सचिव महेंद्र शर्मा ने कहा कि अभी खाते अटैच करने की आधिकारिक जानकारी हमारे पास नहीं आई है, लेकिन ऐसा हुआ है तो हम कोर्ट में अपील करेंगे. आयकर विभाग व आरसीए के सूत्रों के अनुसार यह बकाया वर्ष 2012 का बताया जा रहा है. पिछले दिनों ही आरसीए अध्यक्ष वैभव गहलोत के प्रयासों से बीसीसीआई से संघ को पैसा मिलना शुरू हुआ था और करीब 10 करोड रुपए की राशि आरसीए को मिली थी. आरसीए के खाते में पैसे आने के कुछ समय बाद ही आयकर विभाग ने नोटिस थमा दिया. 

आरसीए की कोर्ट में जाने की प्लानिंग:
हालांकि जानकारी यह भी मिली है कि नोटिस मिलते ही आरसीए ने त्वरित कार्यवाही करते हुए इन 10 करोड रुपए में से अधिकांश पैसे का भुगतान संघ के पुराने बकायादारों को कर दिया है. आरसीए के कोषाध्यक्ष कृष्ण निमावत 3 दिन तक आरसीए में ही डटे रहे और पुराने अधिकांश भुगतान कर दिया, ताकि यदि आयकर विभाग खाते अटैच भी करे तो ज्यादा पैसे आयकर विभग को न मिल सके. अब खाते में महज दो ढाई करोड रुपए ही बचे हैं. आयकर विभाग की कार्रवाई के बाद अब आरसीए ने कोर्ट में जाने की प्लानिंग कर ली है और एक-दो दिन में ही इस बारे में कार्यवाही शुरू हो जाएगी. 

और पढ़ें