Live News »

VIDEO: बारां जिले की पार्वती नदी उफान पर, तेज बहाव की वजह से 2 ग्रामीण फंसे टापू पर, रेस्क्यू जारी 

बारां: प्रदेश के बारां जिले में भारी बारिश की वजह से नदी और नाले उफान पर है. यहां पर पिछले 18 घंटे से दो ग्रामीण एक टापू पर फंसे हुए है, जिनको बाहर निकालने के लिए रेस्क्यू जारी है. लेकिन पानी के तेज बहाव की वजह से अभी तक सफलता नहीं मिल पाई हैं. आपको बता दें कि 2 ग्रामीण कल देर शा​म मछली पकडने गए थे. जो पार्वती नदी में तेज बहाव आने की वजह से टापू पर फंस गए. 

जेपी नड्डा बोले, अपराध बढ़ रहे राजस्थान की सरकार कुछ नहीं कर रही, 80 प्रतिशत अपराध में हुई बढ़ोतरी 

रेस्क्यू जारी, एनडीआरएफ की टीम मौके पर:
जिसकी सूचना मिलने पर पुलिस और प्रशासन मौके पर पहुंचे. एनडीआरएफ की टीम मौके पर पहुंचकर रेस्क्यू अभियान चलाया. अभी तक 2 ग्रामीणों को बाहर नहीं निकाला जा सका है. रेस्क्यू जारी है. यह मामला बारां के नाहरगढ़ थानाक्षेत्र है. जानकारी के मुताबिक पानी के तेज बहाव की वजह से रेस्क्यू टीम का एक जवान भी फंस जाता. नदी में तेज बहाव को जवान भांप नहीं पाया. लेकिन ग्रामीणों ने मदद कर जवान को पकड़ा. दोनों ग्रामीणों को बाहर निकालने का कार्य जारी है. 

तेज बारिश की वजह से नदियां उफान पर:
आपको बता दें कि बता दें कि बारां जिले में तेज बारिश की वजह से पार्वती, परवन, कालीसिंध नदियां उफान पर है. आधा दर्जन मार्ग बंद है. बारां-झालावाड़,बारां-भोपाल,बारां-जलवाड़ा, छबड़ा-फतेहगढ़ मार्ग अवरूद्ध हो गया. एमपी के मोहनपुरा डेम से पानी छोड़ने के बाद जल स्तर बढ़ा है. प्रशासन ने अलर्ट जारी किया है.

हनुमानगढ़ में अवैध हथियार बनाने की मिनी फैक्ट्री का पर्दाफाश, 3 आरोपी गिरफ्तार

और पढ़ें

Most Related Stories

बारां में एक और आया सामूहिक दुष्कर्म का मामला, 1 माह तक बंधक बनाकर किया दुष्कर्म 

बारां में एक और आया सामूहिक दुष्कर्म का मामला, 1 माह तक बंधक बनाकर किया दुष्कर्म 

सीसवाली (बारां): बारां जिले के सीसवाली थाना क्षेत्र में एक और युवती से 1 माह तक बंधक बनाकर दुष्कर्म करने का मामला सामने आया है. जिले की 19 वर्षीय एक युवती को दो युवकों द्वारा अपने गांव से बाइक पर बिठाकर उसकी मां द्वारा खेत पर बुलाने का बहाना लगाकर घर से मध्य प्रदेश ले गए, जहां पर दोनों युवकों ने एक माह तक बलात्कार किया. उसके बाद उसे वहां से मांगरोल क्षेत्र के एक गांव में ले आए. वहां भी बारी-बारी से दुष्कर्म किया मौका पाकर युवती ने अपने परिजनों को आपबीती सुनाई तो परिजन पुलिस को लेकर मौके पर पहुंचे.

पुलिस ने दोनों युवकों को युवती के साथ एक घर से पकड़ा. पीड़ित युवती और उसके परिजनों का आरोप है कि आरोपियों को पुलिस ने उनके ही सामने छोड़ दिया. जिनके खिलाफ अब तक कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है और आरोपी उन्हें जान से मारने की धमकी दे रहे है. मामला बारां जिले के सीसवाली थाना क्षेत्र के एक गांव का है, जहां से 1 जुलाई को दो युवक एक युवती को बाइक  पर बिठाकर मध्य प्रदेश के स्योपुर जिले के हीरापुर गांव ले गए. जहां 28 जुलाई तक एक मकान में रख दोनों आरोपियों ने उसके साथ मारपीट और दुष्कर्म किया. 

{related}

29 जुलाई को उसे मांगरोल तहसील के रेन गड गांव में ले आए, जहां भी उसे 3 दिन तक एक मकान में रखा और दुष्कर्म किया पीड़िता के परिजनों द्वारा 2 जुलाई को सीसवाली थाने में युवती के गुमशुदगी की रिपोर्ट दी गई. युवती के मिलने के बाद 7 अगस्त को युवती ने उसके साथ हुए दुष्कर्म की रिपोर्ट सीसवाली थाने में दी. परिजनों का आरोप है कि वह मेडिकल टीम से पीड़िता का मेडिकल करवाना चाहते थे. परिजनों का कहना है कि 164 के बयान करा दिए गए उसके बावजूद भी पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर रही है.

अपराधी उन्हें जान से मारने की धमकी दे रहे हैं. इसकी शिकायत वह 14 सितंबर को कोटा रेंज आईजी को भी की गई. वहीं अब 2 अक्टूबर को बारां एसपी को फिर से परिवाद पेश कर न्याय की गुहार लगाई है. पीड़िता ने बताया कि उसके गांव का ही चौथमल और बंटी गुर्जर उसे लेकर गए और उनका एक साथी प्रमोद ने उनका सहयोग किया. जिसने उन्हें पैसे पहुंचाए पीड़ित परिवार न्याय की मांग को लेकर दर-दर भटक रहे हैं, लेकिन फिलहाल उन्हें न्याय नहीं मिल पा रहा है.

फिलहाल पीड़िता और उसके परिजन अन्य गांव में उनके रिश्तेदार के यहां रह रहे हैं. डीवाईएसपी जिनेंद्र जैन ने बताया कि युवती द्वारा दिए परिवाद के बाद जांच पड़ताल की गई सभी जगहों पर जांच कर पूछताछ की जिसके बाद युवती द्वारा शादी करने का प्रमाण पत्र मिला जिसकी पूरी पुष्टि करवाई गयी और युवती के बयान लेकर अनुसंधान जारी है आरोपी अभी फरार है.

...फर्स्ट इंडिया के लिए आलोक बादल की रिपोर्ट

VIDEO: बारां में दो नाबालिग लड़कियों के साथ सामूहिक दुष्कर्म, पुलिस पर लगे गंभीर आरोप

VIDEO: बारां में दो नाबालिग लड़कियों के साथ सामूहिक दुष्कर्म, पुलिस पर लगे गंभीर आरोप

बारां: जिले में दो नाबालिग लड़कियों से गैंगरेप का मामला सामने आया है. आरोपियों ने नाबालिग का अपहरण कर जयपुर, कोटा और अजमेर ले जाकर गैंगरेप किया. दरिंदों ने लगातार तीन दिन नाबालिगों से गैंगरेप किया. नाबालिगों के पिता ने अब पुलिस पर भी गंभीर आरोप लगाएं हैं. उनका आरोप है कि रिपोर्ट दर्ज करने के बाद पुलिस ने दो लड़के पकड़े लेकिन बाद में छोड़ दिए गए. अब आरोपियों की तरफ से पुलिस को कोई जवाब नहीं दिया जा रहा है. 

{related}

ऐसे में सबसे बड़ा सवाल तो यह उठता है कि जिन पर आरोप लगा पुलिस ने उनको पकड़ा तो छोड़ा क्यों? यह पुलिस की कार्यशैली पर सवाल खड़ा करने वाला अपने आप में गंभीर सवाल है, और पीड़ित परिवार यह आरोप लगा रहा है. दुष्कर्म पीड़िताओं की जवाबी सुनिए पूरी दास्तां... 
 

चचेरे भाई पर अपनी ही बहन को हवस का शिकार बनाने का आरोप, 7 माह से इंसाफ के लिए भटक रहा पिता

चचेरे भाई पर अपनी ही बहन को हवस का शिकार बनाने का आरोप, 7 माह से इंसाफ के लिए भटक रहा पिता

अंता(बारां): जिले के अंता में रिश्तों को शर्मशार करने का एक सनसनी मामला सामने आया है जिसमे चचेरे भाई पर अपनी ही बहन को हवस का शिकार बनाने का आरोप लगाया गया है. इस मामले में पीड़िता द्वारा घर मे फांसी का फंदा लगाकर खुदकुशी कर ली गयी थी. वहीं पीड़िता के पिता द्वारा इस्तगासे के आधार पर पुलिस में मामला दर्ज कराया गया है. 

मजबूर पिता गत 7 माह से दर दर की ठोकरे खाने पर मजबूर:
अपनी विवाहिता बेटी की मौत के मामले में इंसाफ की मांग को लेकर एक मजबूर पिता गत 7 माह से पुलिस में मामला दर्ज करने को लेकर दर दर की ठोकरे खाने पर मजबूर हो रहा है. जिला पुलिस अधीक्षक से लेकर आईजी तथा मंत्रियों से गुहार लगा चुका है परन्तु अभी तक उसे इंसाफ मिलता हुआ नजर नही आ रहा है. इस मामले में अब इस्तगासे के आधार पर पुलिस में मामला दर्ज किया गया है. 

7 माह पूर्व एक शादी शुदा युवती ने की थी खुदकुशी: 
बता दें कि शिव कॉलोनी में 7 माह पूर्व एक शादी शुदा युवती द्वारा कमरे में फांसी का फंदा लगाकर खुदकुशी की गई थी उस समय मृतका के माता पिता शादी समारोह में बिहार गए हुए थे तथा बड़ी ओर छोटी बेटी घर मे अकेली थी. मृतका के पिता ने आरोप लगाया कि उसकी बेटी को पहले उसके चचेरे भाई द्वारा शराब पिलाई गयी और बाद में उसके साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया गया जिससे तनाव में आकर उसने खुदकुशी का रास्ता अपना लिया. 

{related}

शराब पिलाकर दुष्कर्म करने का आरोप:
मृतका के पिता का कहना है कि जिस दिन उसकी बेटी ने खुदकुशी की उसी रात उनके भाई का लड़का घर आया था जब कि उस परिवार से 12 वर्षो से कोई लेना देना नहीं है. जिसने घर आकर शराब का सेवन किया तथा छोटी बेटी और बड़ी बेटी को शराब पिलाई. छोटी बेटी अपने कमरे में सो गई तथा बड़ी बेटी के साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया गया जिससे तनाव में आकर बड़ी बेटी ने 4 मार्च को आत्महत्या कर ली. 

कार्यवाही नहीं होने पर कोर्ट में इस्तगासा दायर किया गया:
पीड़िता के पिता ने बताया कि इस घटना को लेकर पुलिस के आलाधिकारियों को भी शिकायत की गई लेकिन कोई कार्यवाही नहीं होने पर कोर्ट में इस्तगासा दायर किया गया है. डीएसपी जिनेन्द्र जैन ने बताया कि न्यायालय से प्राप्त इस्तगासे में मृतका के पिता द्वारा उसकी बेटी के साथ दुष्कर्म करने का आरोप लगाया गया है. जिसे लेकर मामला दर्ज किया गया है. 

काली सिंध नदी के टापू पर फंसे 19 लोगों को निकाला बाहर, 22 घंटे से फंसे थे सभी लोग

काली सिंध नदी के टापू पर फंसे 19 लोगों को निकाला बाहर, 22 घंटे से फंसे थे सभी लोग

अंता(बारां): प्रदेश के बारां जिले के अंता में काली सिंध नदी के बीच टापू पर बने खेत पर मजदूरी करने गए डेढ दर्जन मजदूर काली सिंध नदी में तेज बहाव आ जाने की वजह से फंस गए, जिन्हें शुक्रवार को एसडीआरएफ की टीम द्वारा रेस्क्यू करके 20 घण्टे बाद सुरक्षित निकाला गया. अंता के नागदा के पास काली सिंध नदी के बीचों बीच एक बड़ा सा टापू बना हुआ है, जिस पर खेती की जाती है. गुरुवार को सवेरे 10 बजे लगभग 19 मजदूर खेत पर कार्य करने गए थे. 

मजदूरों ने पूरी रात टापू पर गुजारी:
परन्तु सायं को काली सिंध नदी में तेज बहाव आ जाने की वजह से सभी मजदूर टापू पर फंस गए. ऐसे में मजदूरों ने पूरी रात टापू पर बने खेत पर ही गुजारी.  सुबह इसकी सूचना गांव वालों द्वारा प्रशासन को दी गई. एसडीएम रजत विजयवर्गीय और थानाधिकारी उमेश मेनारिया ने घटना स्थल पर पहुंच कर एसडीआरएफ की टीम को रेस्क्यू के लिए बुलाया गया. 

{related}

SDRF टीम ने सभी को निकाला सुरक्षित बाहर:
SDRF टीम ने घटना स्थल पर पहुंच कर सभी मजदूरों को सुरक्षित बाहर निकाला. मजदूरों ने टापू से बाहर आने के बाद राहत की सांस ली, वहीं दूसरी ओर काली सिंध नदी के टापू में मजदूरों के फंसे होने की सूचना के बाद नदी पर लोगों की की भीड़ जमा हो गई. वहीं एसडीओ रजत विजयवर्गीय ,थानाधिकारी उमेश मेनारिया व नायाब तहसीलदार भी घटना स्थल पर मौजूद रहे. 

बारां में बजरी खदान ढहने से 3 मजदूरों की मौत, एक दर्जन से अधिक मजदूर दबे होने की सूचना, रेस्क्यू जारी

बारां में बजरी खदान ढहने से 3 मजदूरों की मौत, एक दर्जन से अधिक मजदूर दबे होने की सूचना, रेस्क्यू जारी

बारां: प्रदेश के बारां जिले में अवैध बजरी खनन के दौरान एक बड़ा हादसा घटित हो गया. यह हादसा गुरुवार दोपहर घटित हआ, जब मजदूर अवैध बजरी खनन कर रहे थे. तब खदान ढहने की वजह से 3 मजदूरों की मौत हो गई. जबकि अभी तक एक दर्जन मजदूर दबे होने की खबर मिल रही है. 

राजीव गांधी की जयंती: PCC में हुआ पुष्पांजलि कार्यक्रम का आयोजन, गोविन्द डोटासरा ने दी श्रद्धांजलि

पुलिस और प्रशासन मौके पर:
घटना की सूचना मिलने पर पुलिस और प्रशासन सहित ग्रामीणों की भीड़ मौके पर एकत्रित हो गई. दबे लोगों को बाहर निकालने के लिए रेस्क्यू जारी है. आपको बता दें कि बारां में अवैध बजरी खनन के दौरान खदान ढहने से 1 दर्जन लोग दब गए है. जबकि 3 मजदूरों के शव बाहर निकाले गए है. कुछ घायलों को अस्पताल भेजा गया. दबे लोगों को निकालने के लिए रेस्क्यू जारी है. यह हादसा अटरू क्षेत्र में पार्वती नदी किनारे पर घटित हुआ. 

दिल्ली-NCR में बारिश से कई इलाकों में जलभराव, गुरुग्राम में सड़कों पर भरा पानी, आमजन हुए परेशान

बारां के शाहाबाद में नदी में बहे तीन लोग, संतुलन बिगड़ने की वजह से हुआ हादसा, एक की मौत

 बारां के शाहाबाद में नदी में बहे तीन लोग, संतुलन बिगड़ने की वजह से हुआ हादसा, एक की मौत

शाहाबाद (बारां): देवरी क्षेत्र के पठारी गांव के रहने वाले देवर, भाभी और एक अन्य व्यक्ति शुक्रवार देर शाम को खेत से लौटते वक्त नदी पार करके अपने घर जा रहे थे. इसी दौरान नदी में तेज बहाव होने की वजह से संतुलन बिगड़ने से तीनों जने बह गए, जिनका देर रात तक कोई सुराग नहीं लग सका. 

नदी पार करते वक्त हुआ हादसा:
ग्रामीणों ने बताया कि पठारी निवासी महिला फूलवती सहरिया उम्र 40 साल और देवर लख्खी सहरिया निवासी पठारी उम्र 45 साल और एक अन्य व्यक्ति खिरखीरी के पास से देर शाम को अपने खेतों से लौट रहे थे कि रास्ते में पड़ने वाली नदी को पार करते समय उक्त घटना में तीनों बह गए, जिसमें से एक व्यक्ति सकुशल वापस निकल आया, लेकिन देवर और भाभी दोनों नदी में बह गए देर रात तक दोनों का सुराग नहीं लग सका. 

PHOTOS: राज्य स्तरीय समारोह में सीएम गहलोत ने फहराया तिरंगा, प्रदेशवासियों को दी स्वाधीनता दिवस की बधाई

घटना की सूचना मिलने पर पुलिस पहुंची मौके पर:
घटना की सूचना मिलने पर परिजन विलख उठे. थाना प्रभारी मानसिंह मय जाब्ते के मौके पर पहुंचे. थाना प्रभारी ने बताया कि सरपंच द्वारा फोन पर उनको घटना की सूचना दी गई है. दोनों महिला और पुरुष नदी में बहने की सूचना के बाद सुबह लापता देवर भाभी की तलाश की गई. जिसमें देवर लक्खी सरिया का शव 1 किलोमीटर दूरी पर झाड़ियों से बरामद कर लिया गया है. वहीं महिला का अभी तक कोई सुराग नहीं लगा है. 

स्वतंत्रता दिवस पर जयपुर बड़ी चौपड़ पर झंडारोहण, देखिए फोटोज

19 वर्षीय युवती के साथ दुष्कर्म,आरोपी के खिलाफ दुष्कर्म का मामला दर्ज

19 वर्षीय युवती के साथ दुष्कर्म,आरोपी के खिलाफ दुष्कर्म का मामला दर्ज

अंता(बारां): बारां जिले के अंता के समीप हनोतिया गांव में 19 वर्षीय युवती के साथ उसी गांव के एक युवक द्वारा घर में घुस कर दुष्कर्म करने का सनसनी मामला सामने आया है. पुलिस द्वारा दुष्कर्म को लेकर मामला दर्ज किया गया है. अंता कस्बे के समीप हनोतिया में  रात्रि को घर में सो रही 19 वर्षीय युवती के साथ प्रदीप नामक युवक द्वारा घर में घुसकर मुंह को साफी से ढक कर दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया गया. 

जयपुर में आफत की बारिश, कानोता बांध में बोलेरो बहने से 3 लोगों की मौत, बारिश ने पूरे शहर को किया जाम   

पीड़िता का कराया मेडिकल मुआयना:
इसी बीच पीड़िता की मां और भाई के जाग जाने की वजह से आरोपी दोनों से मारपीट करता हुआ भाग खड़ा हुआ. पीड़िता द्वारा इस मामले को लेकर थाने में मामला दर्ज कराया गया है पुलिस द्वारा पीड़िता का मेडिकल मुआयना करवाया गया है. घटना स्थल पर पंहुचकर जांच शुरू कर दी गई है. 

आरोपी की तलाश जारी:
थानाधिकारी उमेश मेनारिया ने बताया कि हनोतिया में प्रदीप नामक युवक द्वारा रात्रि को कमरे में सो रही 19 वर्षीय युवती के साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया गया. पीड़िता की रिपोर्ट पर मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है. वहीं घटना के बाद से आरोपी फरार चल रहा है जिसकी सरगर्मी से तलाश की जा रही है. 

जालोर में पटवारी चढ़ा एसीबी के हत्थे, 5 हजार रुपए की रिश्वत लेते किया ट्रेप

रेत के नीचे दबने से 2 युवकों की मौत, रेत का खनन करते समय बजरी के नीचे दबे थे दोनों मृतक

 रेत के नीचे दबने से 2 युवकों की मौत, रेत का खनन करते समय बजरी के नीचे दबे थे दोनों मृतक

छबड़ा (बारां): गुगोर पार्वती नदी के समीप किले के नीचे रेती का अवैध खनन करते समय कढार के ढह जाने से दो युवकों की मौत हो गई. तो वहीं मृतक के गुस्साए परिजनों और ग्रामीणों ने मृतकों के शवों को पहले वन विभाग और बाद में थाने के समक्ष रख जमकर प्रदर्शन कर आरोपियों के विरुद कार्यबाही की मांग की है. मृतक रवि और सोनू के परिजनों ने बताया कि गुगोर किले के नीचे प्रतिदिन खनन माफियाओं द्वारा बिना रोक टोक के जमकर बजरी खन्न किया जा रहा है. 

सियासी घमासान के बीच देर रात 97 RAS अधिकारियों के तबादले, यहां देखें पूरी सूची

अवैघ खनन करते वक्त हुआ हादसा:
आज भी अवैध खनन करते समय रेती की कढार ढहने से रवि 22 वर्षीय और सोनू 19 वर्षीय मजदूर रेत के नीचे दब गए और मौके पर मौजूद ट्रेक्टर चालक दोनों दबे मजदूरों को छोड़ भाग गए. ग्रामीणों द्वारा बे मुश्किलों से दोनों मजदूरों को रेती के नीचे से निकाला गया तब तक दोनों की मौत हो गई.

पुलिस ने की समझाइश:
दर्जनों की संख्या में ग्रामीणों ने छबड़ा पहुंच वन विभाग और थाने के बहार शवों को रख प्रदर्शन कर खनन माफियाओं के विरूद्ध कार्यवाही की मांग कर रहे हैं. घटना की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंचे एडिशनल एसपी विजय स्वर्णकार ने प्रदर्शनकारी से समझाइश कर शवों को उठवाया और दोनों मृतकों के शवों को छबड़ा चिकित्सालय की मोर्चरी में पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया. 

5 अगस्त को होगा अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन, पीएम मोदी होंगे शामिल