Live News »

एक ही दिन मनाए जाएंगे स्वतंत्रता दिवस व रक्षाबंधन, 19 साल बाद बन रहा ऐसा संयोग 

एक ही दिन मनाए जाएंगे स्वतंत्रता दिवस व रक्षाबंधन, 19 साल बाद बन रहा ऐसा संयोग 

सिरोही: भाई-बहन के स्नेह का प्रतीक रक्षाबंधन इस बार राष्ट्रीय पर्व के रूप में मनाया जाएगा. 19 साल बाद इस बार दो महत्वपूर्ण पर्व रक्षाबंधन और स्वतंत्रता दिवस एक ही दिन पड़ रहे हैं. इस बार सबसे खास बात है कि रक्षाबंधन पर कोई भद्रा नहीं है. दोपहर में राहुकाल को छोड़कर शुभ मुहूर्त में भाइयों की कलाई पर बहने राखी बांधकर लंबी उम्र की कामना करेंगी.

19 साल बाद रक्षाबंधन 15 अगस्त को
ज्योतिषी पंडित अमृतलाल व्यास के अनुसार रक्षाबधंन 15 अगस्त गुरुवार को मनाया जाएगा, ऐसा 19 साल बाद हो रहा है. इससे पहले वर्ष 2000 में मंगलवार को इस तरह का योग बना था. इसके बाद वर्ष 2084 में मंगलवार को दोनों पर्व एक साथ मनाए जाएंगे. पूर्णिमा तिथि 14 अगस्त, बुधवार को दिन में 2:47 बजे से शुरू होगी, जो 15 अगस्त की शाम 4:23 बजे तक रहेगी. राहुकाल दिन में 1:30 बजे से दोपहर 3 बजे है. इसलिए राहुकाल के समय को छोड़कर शुभ मुहूर्त में रखी बांधना मंगलकारी रहेगा.

देशभक्ति से प्रेरित राखियों की खूब मांग:
रक्षाबंधन और स्वतंत्रता दिवस दोनों पर्व एक साथ पड़ने से तिरंगे के रंगों से सजी राखियों से बाजार गुलजार हो गया है. सिरोही जिले में भी सबसे ज्यादा मांग राष्ट्रीय प्रतीक की राखियों की है. जिन राखियों की डिजाइन स्पेशल तिरंगे में है, उसे लोग खूब पसंद कर रहे हैं. बाजार में कई ब्रांड की राखियां बाजार में बिक्री के लिए उपलब्ध हैं. देशभक्ति की राखियों के अलावा लुम्बा राखी सबसे ज्यादा पसंद की जा रही हैं.

10 रुपये से 300 रुपये तक की राखी:
बाजार में तीन रुपये से लेकर 300 रुपये तक की राखी बिक रही है. सिरोही के बाजारों में राखी के थोक व्यापारी राजेशभाई ने बताया इस वर्ष जिले में राखी का कारोबार अच्छा रहने की संभावना हैं. बाजार में डिजाइनदार राखियां 100 रुपये 300 रुपये तक बिक रही हैं. रेशमी, डायमंड फैशनेबल और चांदी राखियां खूब पसंद की जा रही है. राखियों के दाम में पिछले साल की अपेक्षा 15 से 20 प्रतिशत बढ़ गया है.

... सिरोही से विक्रमसिंह करणोत की रिपोर्ट 

और पढ़ें

Most Related Stories

श्री खोले के हनुमान मंदिर में कोरोना वायरस उन्मूलन यज्ञ

श्री खोले के हनुमान मंदिर में कोरोना वायरस उन्मूलन यज्ञ

जयपुर: श्री न र व र आश्रम सेवा समिति श्री खोले के हनुमान जी मंदिर में कोविड-19 महामारी से बचाव के लिए शनिवार को श्री वाल्मिकी रामायण की चौपाईयों के साथ सुंदरकाण्ड यज्ञ का आयोजन किया गया. श्री न र व र आश्रम सेवा समिति के अध्यक्ष गिरधारी लाल शर्मा ने बताया कि शनिवार प्रात: 9 बजे वाल्मिकी रामायण की चौपाईयों के साथ सुंदरकाण्ड यज्ञ प्रारम्भ हुआ. जिसका पूर्णाहुति के साथ रात्रि 8 बजे समापन हुआ.

कोरोना रोकथाम के लिए ग्राम पंचायत स्तर पर कोर ग्रुप का गठन, मुख्य सचिव ने दिए आदेश

जहां होते है यज्ञ अनुष्ठान:
यज्ञवेदी पर सामाजिक दूरी को ध्यान में रखते हुए आहुतियां दी गई. यज्ञ आहुति से उठने वाली धुआं और सुगंध से श्री खोले के हनुमान मंदिर परिसर का वातावरण खुशनुमा हो गया. कहते है जहां यज्ञ अनुष्ठान सम्पन्न होते हैं वहां किसी तरह की महामारी का प्रकोप नहीं होता. यज्ञ कार्यक्रम रविवार को भी कराया जाएगा.

कोरोना वॉरियर्स का हौसला बढ़ाने टोंक पहुंचे पायलट, कहा-जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने मेहनत से किया काम

लॉक डाउन के बाद वीरान हुआ सालासर, दस दिन से बालाजी के दर्शन बंद

लॉक डाउन के बाद वीरान हुआ सालासर, दस दिन से बालाजी के दर्शन बंद

सालासर(चूरू): लॉक डाउन का व्यापक असर धार्मिक नगरी सालासर में भी देखने को मिल रहा है. नियमित दस हजार से अधिक सालासर बालाजी में बालाजी के दर्शनों के लिए आने श्रद्धालुओ की चहल कदमी लॉक डाउन के बाद से थम गई है. 

Coronavirus Updates: देश में अब तक 2900 से ज्यादा लोग संक्रमित, दुनियाभर में 52 हजार लोगों की मौत  

लक्खी मेला भी लॉक डाउन के दौरान स्थगित होता नजर आ रहा:
मन्दिर में चैत्र पूर्णिमा पर भरा जाने वाला लक्खी मेला भी लॉक डाउन के दौरान स्थगित होता नजर आ रहा है. मन्दिर के बाहर की दुकानें बंद है और बालाजी मंदिर के सामने मन्दिर के गार्ड तैनात है. मन्दिर के पुजारी परिवार के सदस्य विश्व व देश को इस संकट की घड़ी से उभारने की प्रार्थना कर रहे हैं.

 Rajasthan Corona Update: राजस्थान में कोरोना पॉजिटिव का आंकड़ा पहुंचा 196, अब तक 18 जिलो में पसारे पैर 

रामनवमी पर भक्तों की भीड़ से गुलजार रहने वाली अयोध्या रही सूनी, घर-घर मनी रामनवमी

रामनवमी पर भक्तों की भीड़ से गुलजार रहने वाली अयोध्या रही सूनी, घर-घर मनी रामनवमी

नई दिल्ली: कोरोना वायरस और लॉकडाउन की वजह से गुरुवार को रामनवमी का पर्व बिना दर्शनार्थियों के मंदिरों में मनाया गया. भगवान राम की मंदिरों में पूजा आराधना की गई. भगवान राम की जन्मस्थली उत्तर प्रदेश के अयोध्या में भी घर-घर ही भगवान राम की पूजा आराधना की गई. कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए किए गए लॉकडाउन से हर साल रामनवमी के मौके पर भक्तों की भीड़ से गुलजार रहने वाली रामनगरी इस बार बिल्कुल सूनी है. 

भाजपा ने उठाई मांग, आम आदमी की स्थिति ठीक नहीं, 3 महिने के बिजली और पानी के बिल हो माफ

नहीं हुए मंदिरों में धार्मिक अनुष्ठान
जिले की सीमाएं सील कर दी गई हैं और पूरे जिले में लॉकडाउन है. 21 दिन के लॉकडाउन की घोषणा के बाद धाम की सीमा को भी सील कर दिया गया है. मंदिरों में ना धार्मिक अनुष्ठानों हुए. ना ही विशेष पूजा आराधना. रामनवमी मेले में यह पहली बार है जब सरयू घाट से लेकर मठ-मंदिरों में सन्नाटा पसरा रहा. इसलिए गुरुवार को राम जन्मोत्सव का पर्व सीमित अनुष्ठानों के बीच मठ-मंदिरों में ही मनाया गया. इसके पहले प्रदेश सरकार ने भी लोगों से रामनवमी पर्व घर पर ही मनाने की अपील की थी.

प्रतापगढ़ पुलिस ने गिरफ्तार किए 3 इनामी शूटर, हत्या के आरोप में चल रहे थे फरार

श्री खोले के हनुमान मंदिर में रामनवमी उत्सव सम्पन्न, दशमी को होगी हवन-पूजा

श्री खोले के हनुमान मंदिर में रामनवमी उत्सव सम्पन्न, दशमी को होगी हवन-पूजा

जयपुर: श्री नरवर आश्रम सेवा समिति श्री खोले के हनुमान जी मंदिर परिसर में बने श्रीराम मंदिर में गुरूवार को रामनवमी मनाई गई. इसके साथ ही अखण्ड वाल्मिकी रामचरितमानस के पाठ भी सम्पन्न हुए. दशमी के अवसर पर वैदिक मंत्रोच्चार पूर्णाहुति के साथ हवन किया जाएगा. 

भगवान श्रीराम का अभिषेक:
इससे पहले गुरूवार को रामनवमी के अवसर पर सुबह 6 बजे 101 जड़ी-बूटी, विभिन्न तीर्थों से लाए गए जल, पंचामृत तथा दुग्ध से भगवान श्रीराम का अभिषेक किया गया.इसके बाद सुबह 7 बजे हनुमान जी महाराज का दुग्धाभिषेक एवं रूद्री के पाठ का आयोजन किया गया.

भरतपुर में कोरोना पॉजिटिव मिलने पर प्रशासन में मचा हड़कंप, जुरहरी में कर्फ्यू के आदेश

56 भोग की झांकी सजाई गई:
श्री न र व र आश्रम सेवा समिति के महामंत्री बृजमोहन शर्मा ने बताया कि भगवान श्रीराम और हनुमान जी का अभिषेक के बाद सुबह 10 बजे षोडशोपचार पूजा कर श्री सियारामजी को सपरिवार नई पोशाक धारण करवाई और सियाराम मंदिर में 56 भोग की झांकी सजाई गई. जिसके बाद मंदिर पंडितों की ओर से भगवान श्रीराम की आरती की गई. महामंत्री ने बताया कि दशमी को सायंकाल 4 बजे मंत्रोच्चारण के साथ हवन किया जाएगा.

CORONA: रामनवमी आज, बिना दर्शनार्थियों के मंदिरों में मनेगी रामनवमी, भगवान राम की होगी पूजा-आराधना

CORONA: रामनवमी आज,  बिना दर्शनार्थियों के मंदिरों में मनेगी रामनवमी, भगवान राम की होगी पूजा-आराधना

जयपुर: कोरोना और लॉकडाउन के बीच मंदिरों में बिना भक्तों के आज रामनवमी का पर्व मनाया जा रहा है. ऐसा कई वर्षो बाद हुआ होगा जब बिना भक्तों के मंदिरों में रामनवमी मनाई जा रही है. मंदिरों में पुजारी ही भगवान रामलला की पूजा आराधना करेंगे. लॉकडाउन और कोरोना के चलते मंदिरों में भक्तों का प्रवेश बंद है. श्री नरवर आश्रम सेवा समिति श्री खोले के हनुमान जी प्रन्यास में रामनवमी के उपलक्ष्य में श्रीराम मंदिर में प्रात: 6 बजे 101 जड़ी-बूटी, विभिन्न तीर्थों से लाए गए जल, पंचामृत तथा दुग्ध से अभिषेक किया जाएगा. 

पीएम मोदी की सीएम गहलोत के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से होगी बैठक, कोरोना वायरस से उपजे हालातों पर करेंगे चर्चा

रूद्री के पाठ का आयोजन:
इसके पश्चात् प्रात: 7 बजे श्री हनुमान जी महाराज का दुग्धाभिषेक एवं रूद्री के पाठ का आयोजन किया जाएगा. प्रात: 10 बजे षोडशोपचार पूजा के पश्चात् श्री सियारामजी को सपरिवार नई पोशाक धारण कराई जाएगी और 11 बजे सियाराम मंदिर में 56 भोग की झांकी सजाई जाएगी. इसके पश्चात् 11.30 बजे मंदिर पंडितों द्वारा आरती की जाएगी. 

दर्शनार्थियों के लिए बंद:
श्री नरवर आश्रम सेवा समिति के महामंत्री बृजमोहन शर्मा ने बताया कि कोरोना की वजह से पूरे देश में लॉकडाउन है और हनुमान मंदिर भी पिछले 10 दिनों से दर्शनार्थियों के लिए बंद है. जिससे मंदिर पंडितों द्वारा ही हनुमान जी महाराज की नियमित आरती की जा रही है. रामनवमी के अवसर पर भी मंदिर दर्शनार्थियों के लिए बंद रहेगा. मंदिर प्रशासन की ओर से प्रयास किए जा रहे है कि भक्तजन रामनवमी पर ऑनलाईन आरती का लाभ उठा सकें.

Rajasthan Corona Update: प्रदेश में कोरोना का कहर, पॉजिटिव मरीजों की संख्या हुई 129, चूरू और सरदारशहर में लगा कर्फ्यू 

कोरोना वायरस के चलते अष्टमी पर पसरा मंदिरों में सन्नाटा, वीरानी आई नजर

कोरोना वायरस के चलते अष्टमी पर पसरा मंदिरों में सन्नाटा, वीरानी आई नजर

भरतपुर: कोरोनावायरस के खौफ से जहां पूरा विश्व भयभीत है तो वहीं भगवान के मंदिरों में भी सन्नाटा पसरा हुआ है. नवरात्रा के तहत आज अष्टमी पर्व है और दुर्गा मंदिरों में जहां आज के दिन भक्तों का जनसैलाब उमड़ पड़ता था वहां आज वीरानी नजर आई. 

VIDEO- Rajasthan Corona Update: पिछले 12 घंटे में राजस्थान में नहीं आया कोई नया पॉजिटिव केस, भीलवाड़ा से राहत की खबर

राजराजेश्वरी देवी मंदिर में पसरा सन्नाटा:     
फर्स्ट इंडिया न्यूज़ की टीम ने भरतपुर के प्राचीन श्री राजराजेश्वरी देवी मंदिर का जायजा लिया तो देखा कि जिस मंदिर में आज मेले जैसा नजारा होना चाहिए था वहां सन्नाटा पसरा हुआ था. माता रानी के दर्शन करने के लिए इक्का-दुक्का भक्त ही मंदिर आ रहे थे और दरवाजे से ही माता रानी को दंडवत कर वापस लौट रहे थे. 

VIDEO- WHO ने की कोरोना वायरस की हवा में मौजूदगी की पुष्टि, अपने पहले के बयान को बदला 

माता रानी जल्दी ही पूरे विश्व को वायरस से मुक्त करेगी:
फर्स्ट इंडिया न्यूज़ के जरिए आप भी श्री राजराजेश्वरी देवी के दर्शन कर सकते हैं. मंदिर के महंत अजय शर्मा ने फर्स्ट इंडिया न्यूज़ को बताया की कोरोना वायरस के खौफ ने जिंदगी की रफ्तार को रोक दिया है लेकिन उन्हें पूरी उम्मीद है की माता रानी जल्दी ही पूरे विश्व व भारत को इस वायरस से मुक्त करेंगी. महंत अजय शर्मा ने आमजन से अपील की है कि इस गंभीर महामारी से सतर्क व सावधान रहने की आवश्यकता है और इससे बचने के लिए सभी अपने घरों में ही रहे. 

CORONA: दुर्गाष्टमी पर घर-घर होगी मां महागौरी की पूजा, देवी मंदिरों में बिना श्रद्धालुओं के पुजारी ही करेंगे पूजा

CORONA: दुर्गाष्टमी पर घर-घर होगी मां महागौरी की पूजा, देवी मंदिरों में बिना श्रद्धालुओं के पुजारी ही करेंगे पूजा

नई दिल्ली: आज चैत्र नवरात्रि के आठवां दिन है, यह दिन दुर्गाष्टमी के नाम से जाना जाता है. इस दिन मां दुर्गा के आठवें स्वरूप मां महागौरी की पूजा आराधना होती है. आज के दिन माता महागौरी की आराधना करने से व्यक्ति को सौभाग्य की प्राप्ति होती है, साथ ही सुख-समृद्धि में कोई कमी नहीं होती है. वहीं दो अप्रैल को श्रीराम नवमी मनाई जाएगी. अष्टमी, नवमी पर लोग कुल देवी की पूजा करेंगे. कोरोना से बचाव के लिए देशभर में लागू लॉकडाउन के चलते घर से बाहर जाने पर पाबंदी है. 

Corona Update: पूरे देश में कोरोना का प्रकोप, 1,590 हुई पॉजिटिव मरीजों की संख्या, 47 लोगों की मौत

सादगी से होगी पूजा:
इसलिए मंदिरों में बिना श्रद्धालुओं के पुजारी ही माता की पूजा करेंगे.इस बार कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के चलते लॉकडाउन की स्थिति है. ऐसे में देवी मंदिरों में पूजा-अर्चना का कार्य सादगी पूर्ण ढंग से किया जा रहा है. ना भक्त होंगे, बस पुजारी ही माता की पूजा आराधना करेंगे. 

कोरोना संकट: 20 महिलाओं के साथ थाईलैंड के राजा का जर्मनी पलायन, आइसोलेशन के लिए चुना शाही होटल 

मंदिरों में पूजा अर्चना:
मंदिरों में एक या दो दीप जलाकर पूजा-अर्चना की जा रही है. ऐसे में अष्टमी तिथि पर भी सादगीपूर्ण ढंग से पूजा हो रही है. ऐसे में अष्टमी तिथि पर कन्या भोज के लिए कोई आवश्यक नहीं कि नौ कन्याओं को ही भोज कराया जाए. इसकी जगह नौ कन्याओं के नाम से भी जरूरतमंदों को भोजन कराकर अष्टमी तिथि पर कन्या भोज की रीति निभाई जा सकती है.

बाबा रामदेव का 668 वां जन्मोत्सव, लॉकडाउन की वजह से नहीं होगा कोई कार्यक्रम 

बाबा रामदेव का 668 वां जन्मोत्सव, लॉकडाउन की वजह से नहीं होगा कोई कार्यक्रम 

रामदेवरा: जन-जन के आराध्य लोक देवता बाबा रामदेव का 668 वां जन्मोत्सव रविवार को है. तंवर समाज की भाट बही के मुताबिक बाबा रामदेव का जन्म चैत्र शुक्ला पंचमी को हुआ हैं. इस मौके हर रोज कि तरह रविवार को सिर्फ बाबा रामदेव समाधि का अभिषेक कर पूजा अर्चना के साथ आरती की गई. कोरोना और लॉक डाउन के चलते कोई आयोजन नहीं हैं. बाबा रामदेव समाधि के दर्शन श्रद्धालुओं के लिए गत 22 मार्च 2020 से कोरोना वायरस के चलते बन्द हैं. 

Rajasthan Corona Update: राजस्थान में कोरोना पॉजिटिव का आंकड़ा पहुंचा 55, भीलवाड़ा में एक नए पॉजिटिव केस की पुष्टि

667वां जन्मोत्सव हर्षोल्लास के साथ मनाया गया:
गत वर्ष पहली बार 10 अप्रैल 2019 शुक्ल पंचमी को बाबा रामदेव का 667वां जन्मोत्सव  हर्षोल्लास के साथ मनाया गया था. बाबा रामदेव जन्मोत्सव समिति का गठन किया गया था. उल्लेखनीय है कि जन-जन के आराध्य लोक देवता बाबा रामदेव का जन्म दिवस तंवर समाज की अधिकृत भाट बही वंशावली के मुताबिक चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी को होना उल्लेखनीय है. ऐसे में गत वर्ष पहली बार चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी 10 अप्रैल 2019 को बाबा रामदेव का जन्म उत्सव समारोह धूमधाम के साथ मनाया गया. 

दुष्कर्म पीड़िता ने हाईकोर्ट से लगायी गर्भपात की गुहार, हाईकोर्ट ने मेडीकल बोर्ड से पीड़िता की जांच कर रिपोर्ट की तलब

Open Covid-19