वाशिंगटन ZEV Collaboration: भारत और कैलिफोर्निया शून्य-उत्सर्जन वाहनों पर सहयोग करने के लिए सहमत

ZEV Collaboration: भारत और कैलिफोर्निया शून्य-उत्सर्जन वाहनों पर सहयोग करने के लिए सहमत

ZEV Collaboration: भारत और कैलिफोर्निया शून्य-उत्सर्जन वाहनों पर सहयोग करने के लिए सहमत

वाशिंगटन: भारत ने अपने इलेक्ट्रिक वाहन (ईवी) उद्योग की वृद्धि को बढ़ावा देने और जलवायु परिवर्तन संबंधी जोखिमों को दूर करने के लिए अमेरिकी राज्य कैलिफोर्निया के साथ गठजोड़ किया है.

इस गठजोड़ के तहत दोनों पक्ष शून्य-उत्सर्जन वाले वाहनों के क्षेत्र में अनुसंधान और नवाचार के लिए काम करेंगे. कैलिफोर्निया में दुनिया की सबसे उन्नत शून्य-उत्सर्जन वाहन (जेडईवी) नीतियां हैं. इसमें 2035 तक 100 प्रतिशत जेडईवी को हासिल करने का महत्वाकांक्षी लक्ष्य भी शामिल है. गठजोड़ के तहत कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय, अनुसंधान संस्थान डेविस इंस्टीट्यूट ऑफ ट्रांसपोर्टेशन स्टडीज ने एक नया भारत जेडईवी शोध केंद्र स्थापित किया.

भारत की औद्योगिक वृद्धि को गति देना:
कैलिफोर्निया-भारत जेडईवी नीति कार्यक्रम का मकसद भारत में जेडईवी को बढ़ावा देना, भारत में ईवी उद्योग की वृद्धि में योगदान करना और भारत की औद्योगिक वृद्धि को गति देना है. इस गठजोड़ का एक मकसद भारत को जेडईवी संक्रमण में वैश्विक स्तर पर रणनीतिक नेतृत्वकर्ता के रूप में उभरने में मदद करना भी है. पिछले सप्ताह पिट्सबर्ग में केंद्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री जितेंद्र सिंह की उपस्थिति में स्वच्छ ऊर्जा मंत्रिस्तरीय बैठक के मौके पर कैलिफोर्निया-भारत जेडईवी साझेदारी की घोषणा हुई थी. सोर्स-भाषा 

और पढ़ें