ताज नगरी की सड़क पर दौड़ी भारत की पहली सौर ऊर्जा चालित कार 

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/06/10 02:08

आगरा। पर्यावरण सप्ताह में विद्यार्थियों ने ताज नगरी को बड़ा तोहफा दिया है। एसीई कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड मैनेजमेंट के विद्यार्थियों ने ऐसे कार तैयार की है जो सोलर एनर्जी से सड़क पर दौड़ेगी। भारत की पहली सौर ऊर्जा चालित कार मात्र 16 हजार के खर्चे पर पांच वर्ष तक प्रतिदिन 30-40 किमी तक की यात्रा कराएगी। होटल पंचरत्न में विद्यार्थियों ने शिक्षकों के साथ सोलर कार का डेमो दिया। विद्यार्थियों ने दोस्तों संग सोलर कार में बैठ आगरा की सैर की।

कुछ दूर ही सही, आज ताज नगरी की सड़क पर भारत की पहली सौर ऊर्जा चालित कार सवारियों के साथ दौड़ी। अगर सब कुछ ठीक रहा तो वह दिन भी दूर नहीं जब दुनिया में सौर उर्जा चालित कारों का श्रेय ताजनगरी के सिर होगा। प्रदूषण के साथ लगातार घट रहे पेट्रोल और डीजल जैसे ईंधन की समस्या भी दूर हो जाएगी। एसीई कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड मैनेजमेंट के विद्यार्थियों द्वारा बनाई गई सौर ऊर्जा चालित कार की तकनीक को अब कॉलेज पेंटेंट कराने की तैयारी में है। संजय प्लेस स्थित होटल पंचरत्न के बाहर एसीई कॉलेज के विद्यार्थियों ने सोलर का डेमो देते हुए सड़क पर एक राउंड लगाया।

पर्यावरण सप्ताह में एसीई कॉलेज के विद्यार्थियों द्वारा ताजनगरी को दिए गए इस तोहफे का नाम नीजन (नेक्स्ट जेनरेशन) रखा गया है। इस मौके पर संस्था के चेयरमैन संजय गर्ग व सचिव अखिल गोयल ने इसे विद्यार्थियों की विशेष उपलब्धि बताया। कहा कि यह तकनीक किसी भी देश के लिए वरदान साबित होगी। संस्था के निदेशक व सलाहकार प्रो. संयम अग्रवाल ने इसे फैकल्टी व छात्रों की मेहनत का परिणाम बताया। अन्य प्रोजेक्टों पर भी काम चल रहा है। प्रयास हैं वह भी सफल होंगे। मेंटर अहसान सिंह ने इसे छात्रों के अथक प्रयास की विजय बताया। इस तकनीक तो पेटेंट कराने के साथ कार को और बेहतर बनाने का प्रयास किया जा रहा है। 10 माह की कड़ी मेहनत से बनकर तैयार हुई सोलर कार प्रोजेक्ट के डिजाइनिंग लीडर आकाश गुप्ता व टीम लीडर प्रोडक्शन शहरुख मंसूरी के साथ राजू कुमार, रविश प्रताप, रोशन यादव, तारकेश्वर, हृदेश, धीरेन्द्र सेन ने अपने शिक्षकों के दिशा निदेर्शन ने सोलर कार को तैयार किया।

बताया कि 10 महीने की कड़ी मेहनत में तैयार की गई कार की लागत लगभग 80 हजार रुपए है। कार की अधिकतम गति सीमा 30 किमी प्रति घंटा है। एक दिन में कार लगभग 30-40 किमी तक का सफर तय कर सकती है। 900 वॉट मोटर पॉवर की कार में एक बार में तीन लोग सवार हो सकते हैं।पांच वर्ष में मात्र 16 हजार का खर्चा कॉलेज के निदेशक प्रो. संयम अग्रवाल ने बताया कि कार में चार बैटरी का प्रयोग किया गया है, जिसकी कीमत लगभग 16 हजार है।

पांच वर्ष तक चलने वाली बैटरी से कार प्रतिदिन लगभग 30-40 किमी चल सकती है। यानि पांच वर्ष में मात्र 16 हजार के खर्चे पर हम हर रोज 30-40 की यात्रा कर सकते हैं। इस कार का प्रयोग बच्चों को स्कूल लाने-ले जाने, बड़े संस्थानों में पेट्रोल व डीजल के वाहन के बजाय इन्हें प्रयोग में लाकर प्रदूषण स्तर को कम करने के साथ पैट्रोल व डीजल की खपत को भी कम किया जा सकता है। प्रो. संयम अग्रवाल के मुताबिक अभी तक दुनिया में कहीं भी सोलर कार का प्रयोग नहीं किया जा रहा है। ताजनगरी के विद्यार्थियों का यह तोहफा पूरी दुनिया को पर्यावरण संरक्षण का संदेश देगा।
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

राफेल पर मचे संग्राम के बीच रायबरेली में कांग्रेस पर गरजे मोदी

सोनिया के \'गढ़\' में पीएम मोदी
1:00 बजे की सुपर फास्ट खबरें | News 360
11:00 बजे की सुपर फास्ट खबरें
क्या कहता है आपका मूलांक, गुडलक टिप्स के महाएपिसोड में जानिए अपनी समस्याओं के समाधान
5 राज्यों में हार के बाद आज PM की पहली रैली
4 मिनट में 24 खबरे | 15 Dec
राहुल गांधी की तीसरी \'परीक्षा\'
loading...
">
loading...