जम्मू-कश्मीर PM नरेंद्र मोदी बोले, भारत को बदलती दुनिया, युद्ध के बदलते तरीकों के अनुरूप अपनी सैन्य क्षमताएं बढ़ानी होंगी

PM नरेंद्र मोदी बोले, भारत को बदलती दुनिया, युद्ध के बदलते तरीकों के अनुरूप अपनी सैन्य क्षमताएं बढ़ानी होंगी

PM नरेंद्र मोदी बोले, भारत को बदलती दुनिया, युद्ध के बदलते तरीकों के अनुरूप अपनी सैन्य क्षमताएं बढ़ानी होंगी

जम्मू-कश्मीर: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को कहा कि भारत को बदलती दुनिया और युद्ध के बदलते तरीकों के अनुरूप अपनी सैन्य क्षमताएं विकसित करनी होंगी. प्रधानमंत्री मोदी ने जम्मू-कश्मीर में सीमावर्ती राजौरी जिले के नौशेरा सेक्टर में दीपावली के अवसर पर जवानों को संबोधित करते हुए कहा कि संचार सुविधाएं एवं सेना की तैनाती बढ़ाने के लिए सीमावर्ती क्षेत्रों में आधुनिक बुनियादी ढांचे विकसित किए गए हैं. मोदी ने सर्जिकल हमले में यहां ब्रिगेड द्वारा निभाई भूमिका की प्रशंसा की. भारत ने जम्मू-कश्मीर के उरी सेक्टर में एक सैन्य अड्डे पर आतंकवादी हमले के जवाब में नियंत्रण रेखा (LOC) के पार 29 सितंबर, 2016 को सर्जिकल हमला किया था.

मोदी ने कहा कि सर्जिकल हमले के बाद यहां आतंकवाद फैलाने की कई कोशिशें की गईं, लेकिन उनका करारा जवाब दिया गया. प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत को बदलती दुनिया और युद्ध के बदलते तरीकों के अनुरूप अपनी सैन्य क्षमताएं विकसित करनी होंगी. उन्होंने कहा कि लद्दाख से लेकर अरुणाचल प्रदेश तक और जैसलमेर से लेकर अंडमान-निकोबार तक देशभर के सीमावर्ती इलाकों में संचार सुविधाओं में सुधार किया गया है. मोदी ने कहा कि जिन सीमावर्ती एवं तटीय क्षेत्रों में संपर्क एवं संचार की सामान्य सुविधाएं नहीं थीं, वहां अब सड़कें एवं ऑप्टिकल फाइबर हैं तथा इससे सेना की तैनाती की क्षमता और जवानों के लिए सुविधाएं बढ़ती हैं. उन्होंने कहा कि पहले देश को रक्षा क्षेत्र में मुख्तय: आयात पर निर्भर रहना पड़ता था, लेकिन उनकी सरकार की कोशिशों के कारण स्वदेशी क्षमताओं को बढ़ावा मिला है. उन्होंने जवानों के साहस की सराहना करते हुए कहा कि उनकी क्षमताओं और ताकत ने देश में शांति एवं सुरक्षा सुनिश्चित की है. 

प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं अपने परिवार के सदस्यों के साथ दीपावली मनाना चाहता हूं, इसलिए मैं इस त्योहार पर आपसे मिलने आया हूं. प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी ने 2014 में सियाचिन का दौरा किया था. वह तभी से हर साल दीपावली पर किसी सीमावर्ती क्षेत्र में जाकर जवानों से मुलाकात करते हैं. आधिकारिक सूत्रों ने नौशेरा में सेना की चौकी पर मौजूद प्रधानमंत्री की तस्वीरें साझा कीं. आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि जब मोदी सुबह अपने आवास से निकले, तो सुरक्षा के न्यूनतम इंतजाम थे और इस दौरान यातायात के मार्ग में किसी प्रकार का बदलाव नहीं किया गया, ताकि लोगों को असुविधा नहीं हो. सेना प्रमुख जनरल एम एम नरवणे ने बुधवार को राजौरी समेत अग्रिम क्षेत्रों का हवाई दौरा किया था और इस दौरान उन्हें जम्मू क्षेत्र में नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पास वर्तमान सुरक्षा परिस्थितियों से अवगत कराया गया. पुंछ और राजौरी जिलों के जंगल में आतंकवादियों के खिलाफ जारी अभियान के बीच सेना प्रमुख ने पिछले करीब दो सप्ताह में दूसरी बार जम्मू का दौरा किया. यह अभियान हालिया समय में सबसे लंबा अभियान है जो बृहस्पतिवार को 26वें दिन भी जारी है. सोर्स- भाषा

और पढ़ें