रूसी वैक्सीन स्पूतनिक V की पहली खेप पहुंची भारत, देश को मिला कोरोना के खिलाफ तीसरा हथियार 

रूसी वैक्सीन स्पूतनिक V की पहली खेप पहुंची भारत, देश को मिला कोरोना के खिलाफ तीसरा हथियार 

रूसी वैक्सीन स्पूतनिक V की पहली खेप पहुंची भारत, देश को मिला कोरोना के खिलाफ तीसरा हथियार 

नई दिल्ली: रूसी वैक्सीन स्पूतनिक V (Russian Vaccine Sputnik V) की पहली खेप पहुंची भारत पहुंच गई है. 1.5 लाख डोज लेकर रूसी विमान (Russian Aircaft) शनिवार को करीब 4 बजे हैदराबाद में लैंड किया. इसके साथ ही देश कोकोरोना के खिलाफ तीसरा हथियार मिल गया है. आज ही देश में टीकाकरण के पहले फेज की शुरुआत हुई है, जिसे स्पूतनिक वी के आने से तेजी मिलेगी.

स्पूतनिक-वी की पहली खेप से कोरोना अभियान में तेजी आएगी:
आपकों बता दें कि भारत में कोविशील्ड और कोवैक्सिन (Covshield and Covaxin) के साथ कोरोना के खिलाफ जंग जारी है. आज से 18 साल से अधिक उम्र के लोगों के लिए भी टीकाकरण (Vaccination) अभियान की शुरुआत कर दी गई है. स्पूतनिक-वी की पहली खेप से इस अभियान में तेजी आएगी. आपके बता दें कि भारत ने हाल ही में रूसी वैक्सीन के आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी दी थी. 

स्पुतनिक वी मानव एडेनोवायरल वैक्टर (Human Adenoviral Vectors) पर आधारित है, तीन वैक्सीन में से एक है (अन्य दो फाइजर और मॉडर्ना की बनाई हुई हैं) जिनमें कोरोनोवायरस बीमारी के खिलाफ 90 प्रतिशत से अधिक प्रभावकारिता है, जो एसएआरएस-सीओवी -2 (SARS-COV-2) के कारण होती है. इसे 12 अप्रैल को भारत में विनियामक अनुमोदन या आपात इस्तेमाल की मंजूरी दी गई थी.

और पढ़ें