Live News »

अंतरिक्ष में भारत अपना स्पेस स्टेशन बनाएगा, ISRO प्रमुख के सिवन का बड़ा ऐलान

अंतरिक्ष में भारत अपना स्पेस स्टेशन बनाएगा, ISRO प्रमुख के सिवन का बड़ा ऐलान

नई दिल्ली :ISRO अब ऐसा मिशन करने जा रहा है, जो उसने आज तक नहीं किया. भारत 2029 तक अंतरिक्ष में अपना स्पेश स्टेशन स्थापित करेगा. हाल में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने इसका एलान किया..भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO - Indian Space Research Organisation) इस समय एक साथ कई बड़े प्रोजेक्ट्स पर काम कर रहा है.एक तरफ जहां वैज्ञानिकों ने अब तक चंद्रयान-2 (Chandrayaan 2) के विक्रम लैंडर (Vikram Lander) से संपर्क की कोशिश में हार नहीं मानी है. वहीं दूसरी ओर भारत के पहले मानव मिशन गगनयान (Gaganyaan) की भी तैयारी जारी है.

इस बीच अब इसरो प्रमुख के. सिवन (ISRO Chief K Sivan) ने एक और बड़े प्रोजेक्ट के बारे में जानकारी दी है. यह ऐसा है जो इसरो ने पहले कभी नहीं किया.डॉ. के. सिवन ने अंतरिक्ष में भारत के अपने स्टेशन (Space Station) के बारे में बात की है. 

स्‍पेस स्‍टेशन एक स्‍पेसक्राफ्ट होता है. इसमें अंतरिक्ष यात्री रहकर कई तरह के प्रयोग करते हैं. यह लंबे समय तक अंतरिक्ष में रह सकता है. अंतरिक्ष स्टेशन से दूसरा अंतरिक्षयान भी जुड़ सकता है. अभी इंटरनेशनल स्‍पेस स्‍टेशन (ISS) सबसे लोकप्रिय है. इसे 1998 में अंतरिक्ष में स्‍थापित किया गया थाकुछ महीने पहले के. सिवन ने बताया था कि भारत अपना स्पेस स्टेशन बनाने वाला है.अब इसके लिए इसरो अगले साल स्पेस डॉकिंग एक्सपेरिमेंट (Spadex - Space Docking Experiment) करने जा रहा है.

इस प्रयोग के लिए इसरो दो सैटेलाइट्स को एक पीएसएलवी रॉकेट (PSLV Rocket) की मदद से अंतरिक्ष में भेजेगा. ये दो सैटेलाइट मॉड्यूल इस तरह तैयार किए जाएंगे, कि ये अंतरिक्ष में रॉकेट से बाहर आने के बाद एक दूसरे से जुड़ सकें. यही सबसे जटिल प्रक्रिया भी होगी.भारतीय अंतरिक्ष स्‍टेशन को पृथ्‍वी से 400 किमी की ऊंचाई पर स्‍थापित किया जाएगा. इसमें अंतरिक्ष यात्री 15 से 20 दिन तक रह सकेंगे. इसरो के प्रमुख के सीवन ने बृहस्पतिवार को घोषणा की थी कि भारत के प्रस्तावित अंतरिक्ष स्टेशन का वजन करीब 20 टन होगा.

इसरो प्रमुख के अनुसार जुड़ने की ये प्रक्रिया ठीक वैसी ही होगी जैसे इमारत बनाने के लिए एक ईंट से दूसरी ईंट को जोड़ना. छोटी-छोटी चीजें जुड़कर बड़ा आकार बनाती हैं। स्पेस स्टेशन बनाने के लिए भी ये प्रक्रिया सबसे अहम है.

इस प्रयोग की सफलता से ही पता चलेगा कि हम स्पेस स्टेशन में जरूरी वस्तुओं और अंतरिक्ष यात्रियों को सुरक्षित तरीके से पहुंचा सकेंगे या नहीं. बता दें कि पहले 2025 तक ये रॉकेट छोड़ने की योजना थी
अमेरिका (NASA), रूस (ROSCOSMOS), जापान (JAXA), यूरोप (ESA) और कनाडा (CSA)।.इन सभी को मिलकर आईएसएस बनाने में करीब 13 साल लगे थे. इसके लिए भी डॉकिंग तकनीक का इस्तेमाल किया गया था. ISS के लिए कुल 40 बार डॉकिंग की गई थी.

इस प्रयोग की सबसे जटिल प्रक्रिया होगी अंतरिक्ष में दो सैटेलाइट्स की गति कम कर उन्हें एक-दूसरे से जोड़ना. क्योंकि अगर गति कम नहीं हुई, तो वे आपस में टकरा जाएंगे. इस प्रयोग के लिए इसरो को सरकार ने फिलहाल 10 करोड़ रुपये दिए हैं.स्‍पेस स्‍टेशन भारत के लिए कई तरह से फायदेमंद होगा. इससे भारत की न केवल अंतरिक्ष में बल्कि पृथ्‍वी की निगरानी की क्षमता कई गुना बढ़ जाएगी

स्पेश स्टेशन की मदद से भारत अपने दुश्‍मन देशों पर आसानी से नजर रख सकेगा. इससे अंतरिक्ष में बार-बार निगरानी उपग्रह भेजने की जरूरत नहीं रह जाएगी. इससे खर्च में भी कमी आएगी.स्‍पेस स्‍टेशन को बनाने से 15 हजार लोगों को रोजगार भी मिलेगा.

और पढ़ें

Most Related Stories

PLAY STORE से हटाया गया PAYTM, गूगल ने लगाया आरोप, कहा-नियमों का किया उल्लंघन

 PLAY STORE से हटाया गया PAYTM, गूगल ने लगाया आरोप, कहा-नियमों का किया उल्लंघन

नई दिल्ली: भारत की डिजिटल पेमेंट ऐप पेटीएम (Paytm) को गूगल ने अपने प्ले स्टोर (Play Store) से हटा दिया है. कंपनी पर नियमों के उल्लंघन के आरोप लगे हैं. पेटीएम (Paytm) की तरफ से एक ट्वीट कर बताया गया है कि प्लेस्टोर (Play Store) पर फिलहाल यह एप कुछ समय के लिए उपलब्ध नहीं रहेगा. पेटीएम (Paytm) का Paytm First Games एप भी प्लेस्टोर से हटा दिया गया है.

पेटीएम ने किया ट्वीट:
पेटीएम (Paytm) ने शुक्रवार को एक ट्वीट कर लिखा, 'डियर पेटीएमर्स, पेटीएम (Paytm) एंड्रॉयड एप नए डाउनलोड और अपडेट्स के लिए उपलब्ध नहीं है. हम जल्द ही वापस आएंगे. आपका पूरा पैसा सुरक्षित है और आप पेटीएम (Paytm) सामान्य तरीके से यूज कर पाएंगे.

एंड्रॉयड के लिए प्ले स्टोर से हटाया:
आपको बता दें कि पेटीएम (Paytm) की ओर से हाल ही में फैंटेसी क्रिकेट टूर्नामेंट शुरू किया था, जिसके बाद यह दोनों ही एप हटा दिए गए हैं. पेटीएम (Paytm) को एंड्रॉयड के लिए प्ले स्टोर (Play Store) से हटाया गया है, लेकिन यह iOS यूज़र्स के लिए Apple के App Store पर उपलब्ध रहेगा. वहीं, जिनके फोन में पहले से पेटीएम (Paytm) है, वो अपना एप और मोबाइल वॉलेट पहले की तरह यूज कर पाएंगे.

{related}

गूगल ने किया बयान जारी:
मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक गूगल (Google) ने अपनी गैंबलिंग पॉलिसी को लेकर एक बयान जारी किया है. कंपनी ने अपने बयान में कहा है कि हम ऑनलाइन कसीनो या फिर किसी भी तरह के अनियमित गैंबलिंग एप जो स्पोर्ट्स में सट्टा लगाने की सुविधा देते हैं, को प्लेटफॉर्म पर रहने की अनुमति नहीं देते हैं. इसमें ऐसे ऐप्स भी शामिल हैं, जो यूजर्स को ऐसी बाहरी वेबसाइटों पर ले जाते हैं, जो उन्हें किसी पेड टूर्नामेंट में नकद पैसे या फिर कैश प्राइज़ जीतने के लिए भाग लेने को कहती हैं. यह हमारी पॉलिसीज का उल्लंघन है.साथ ही गूगल (Google) ने यह भी कहा है कि जब कोई एप इन नीतियों का उल्लंघन करता है, तो उसके डेवलपर को इस बारे में सूचित किया जाता है, और जब तक डेवलपर ऐप को नियमों के अनुरूप नहीं बनाता है, उसे तब तक गूगल प्ले स्टोर (Play Store) से हटा दिया जाता है.

प्रधानमंत्री मोदी की पर्सनल वेबसाइट का ट्विटर अकाउंट हैक, हैकर ने बिटक्वॉइन में मांगा दान

प्रधानमंत्री मोदी की पर्सनल वेबसाइट का ट्विटर अकाउंट हैक, हैकर ने बिटक्वॉइन में मांगा दान

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की निजी वेबसाइट का ट्विटर अकाउंट गुरुवार को हैकरों ने हैक कर लिया. हैकर ने कोरोना वायरस रिलीफ फंड के लिए दान में बिटक्वॉइन की मांग की है. हालांकि तुरंत इन ट्वीट्स को डिलीट कर दिया गया. हैकर ने पीएम मोदी की पर्सनल वेबसाइट के ट्विटर हैंडल से एक के बाद एक कई ट्वीट किए और क्रिप्टों करेंसी से जुड़े कई ट्वीट किए गए. 

पीएम रिलीफ फंड में दान करने की अपील की: 
पीएम मोदी की पर्सनल वेबसाइट के टि्वटर अकाउंट पर हैकर ने लिखा कि मैं आप लोगों से अपील करता हूं कि कोविड-19 के लिए बनाए गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रिलीफ फंड में दान करें. एक अन्य ट्वीट में हैकर ने लिखा, 'यह अकाउंट जॉन विक ([email protected]) ने हैक किया है. हमने पेटीएम मॉल हैक नहीं किया है. 

जुलाई के महीने में कई प्रतिष्ठित हस्तियों के अकाउंट हुए थे हैक:
यह घटना ऐसे समय पर सामने आई है जब जुलाई के महीने में कई प्रतिष्ठित हस्तियों के ट्विटर अकाउंट को हैक किया गया था. अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा, एमेजन सीईओ जेफ बेजोस, वारेन बफेट, बिल गेट्स, एलन मस्क, जो बिडेन समेत कई लोग हैकर्स का शिकार हो चुके हैं.

{related}

ट्वीटर ने की पुष्टि: 
बता दें कि पीएम मोदी की निजी वेबसाइट के ट्विटर अकाउंट के 25 लाख से ज्यादा फॉलोवर्स हैं.  प्रधानमंत्री की निजी वेबसाइट के ट्विटर अकाउंट के हैक होने की गुरुवार को ट्वीटर ने पुष्टि करते हुए कहा कि भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की निजी वेबसाइट के एक खाते को कई ट्वीट्स के साथ हैक किया गया. 


 

चीन पर भारत की एक और डिजिटल स्ट्राइक, PUBG समेत 118 चीनी एप किए बैन

चीन पर भारत की एक और डिजिटल स्ट्राइक, PUBG समेत 118 चीनी एप किए बैन

नई दिल्ली: चीन पर भारत ने एक और डिजिटल स्ट्राइक की है. जानकारी के अनुसार PUBG समेत 118 और चीनी मोबाइल ऐप्स को बैन किया गया है. सरकार ने कहा है कि ये चीनी एप भारत की संप्रभुता और सुरक्षा के लिए खतरा है. 118 एप में PUBG के अलावा CamCard, Baidu, Cut Cut, VooV, Tencent Weiyun, Rise of Kingdoms, Zakzak आदि शामिल है. सरकार ने हाल ही में पहले 59 ऐप को बैन किया था जिसमें लोकप्रिय ऐप TikTok भी शामिल था. बाद में सरकार ने 47 और ऐप को बैन किया था. 

संस्कृत शिक्षा विभाग का ऑनलाइन पढ़ाई के लिए एप लॉन्च, संस्कृत शिक्षा मंत्री डॉ.सुभाष गर्ग ने की एप लॉन्च

संस्कृत शिक्षा विभाग का ऑनलाइन पढ़ाई के लिए एप लॉन्च, संस्कृत शिक्षा मंत्री डॉ.सुभाष गर्ग ने की एप लॉन्च

जयपुर: संस्कृत शिक्षा विभाग ने विद्यार्थियों की ऑनलाइन पढाई के लिए देववाणी मोबाइल एप जारी किया हैं. इस एप की लांचिंग आज शिक्षा संकुल में संस्क़त शिक्षा मंत्री डॉ.सुभाष गर्ग ने की. यह एप कक्षा 3 से 12 के विद्यार्थियों के लिए संस्कृत विषय के लिए एसएस आईईआरटी महापुरा की ओर से तैयार किया गया हैं. यह एप विद्यार्थी गूगल प्ले स्टोर से भी डाउनलोड कर सकेंगे.

अब शहरी क्षेत्रों में भी जल्द लगाए जाएंगे स्वास्थ्य मित्र, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने दी जानकारी

मोबाइल एप तैयार करने में निभाई भूमिका:
संस्कृत शिक्षक इमरान खान ने भी संस्कृत के इस मोबाइल एप्प तैयार करने में भूमिका निभाई हैं. इस पर मंत्री ने उनके प्रयास की सराहना की. लांचिंग के बाद मंत्री सुभाष गर्ग ने कहा कि कोरोना काल में विद्यार्थियों की पढाई के लिए विभाग ने इस दिशा में प्रयास किया हैं.

संस्कृत शिक्षा विभाग की वीडियो कॉन्फ्रेंस:
हालांकि ग्रामीण क्षेत्रों में मोबाइल और लैपटॉप और इंटरनेट की अनुउपलब्धता की परेशानी जरूर सामने आएगी, लेकिन इसके लिए स्थानीय स्कूलों में भी व्यवस्था कराई जाएगी. मंत्री ने आज संस्कृत शिक्षा विभाग की वीडियो कॉन्फ्रेंस भी ली. जिसमें उन्होंने संभागीय अधिकारियों को ज्यादा से ज्यादा दौरे करने और गांवों की स्कूलों में नामांकन और मॉनटरिंग को प्रभावी बनाने के लिए दिशा निर्देश जारी किए.

कोरोना वार्ड में गुंजी किलकारी, सुजानगढ़ की महिला ने कोरेंटाइन सेंटर में दिया बच्चे को जन्म

भारत की चीन पर एक और डिजिटल स्ट्राइक, अब 47 एप्स पर लगाया बैन

भारत की चीन पर एक और डिजिटल स्ट्राइक, अब 47 एप्स पर लगाया बैन

नई दिल्ली: भारत सरकार ने चीन पर एक और डिजिटल स्ट्राइक करते हुए 47 एप्स बैन करने सा फैसला किया है. मिली जानकारी के अनुसार ये ऐप्स कुछ समय पहले बैन हुए 59 एप्स के क्लोन हैं. वहीं इन एप्स पर प्रतिबंध को लेकर सरकार की ओर से अभी कोई आधिकारिक बयान भी नहीं आया है. 

विधानसभा स्पीकर सीपी जोशी ने वापस ली अपनी SLP, सुप्रीम कोर्ट में कपिल सिब्बल ने कहा- मसले पर सुनवाई की जरूरत नहीं

नई लिस्ट में कुछ टॉप गेमिंग ऐप्स भी शामिल: 
सरकार के सूत्रों की माने तो 250 ऐसे चीनी ऐप्स हैं जिन्हें नेशनल सिक्योरिटी के वॉयलेशन को लेकर जांच की जा सकती है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस पर चीनी एप्स की हटाने की नई लिस्ट में कुछ टॉप गेमिंग ऐप्स भी शामिल हैं. ऐसे में मुमकिन है अगली लिस्ट आने के बाद भारत में कई पॉपुलर चीनी गेम्स भी बैन किए जा सकते हैं.

कुल 106 एप्स को भारत में प्रतिबंधित कर दिया गया: 
ऐसे में भारत सरकार ने कुल 106 एप्स को भारत में प्रतिबंधित कर दिया गया है. इस सूची में पबजी और अली एक्सप्रेस जैसे पॉपुलर ऐप्स शामिल हैं. सूत्रों के मुताबिक सरकार इन मोबाइल एप की जांच कर यह पता लगाएगी कि कहीं यह प्राइवेसी के नियमों का उल्लंघन तो नहीं कर रहे हैं. इसके अलावा कई चीनी इंटरनेट कंपनियों पर भी प्रतिबंध लगाया जा सकता है. 

Coronavirus in India: देश में पहली बार मिले 50 हजार के करीब मरीज, संक्रमितों की संख्या 14 लाख के पार 

ये ऐप्स चीन के साथ कथित तौर पर डेटा शेयर कर रहे:
मिली जानकारी के अनुसार ये ऐप्स चीन के साथ कथित तौर पर डेटा शेयर कर रहे हैं और इस वजह से सरकारी एजेंसियां इनका रिव्यू कर रही हैं. फिलहाल सरकार की तरफ से नए ऐप्स बैन को लेकर कोई स्टेटमेंट जारी नहीं किया गया है.

ट्विटर्स पर हैकर्स का सबसे बड़ा हमला, ओबामा, बिल गेट्स, जेफ बेजोस समेत कई बड़ी हस्तियों अकाउंट हुआ हैक

ट्विटर्स पर हैकर्स का सबसे बड़ा हमला, ओबामा, बिल गेट्स, जेफ बेजोस समेत कई बड़ी हस्तियों अकाउंट हुआ हैक

नई दिल्ली: ट्विटर के लिए बुधवार की रात पूरी तरह से भयावह रही जब नामी गिरामी लोगों ने इसमे सेंध लगने की शिकायत की. बराक ओबामा, एमेजन सीईओ जेफ बेजोस, वारेन बफेट, बिल गेट्स और एलन मस्क समेत दुनिया के कई दिग्गजों के ट्विटर अकाउंट को हैक कर लिया गया, जिसके बाद कई घंटों तक ट्विटर ने ब्लू टिक वाले सभी अकाउंट को बंद कर दिया. ट्विटर के इतिहास में ये अब तक की सबसे बड़ी सुरक्षा में सेंध मानी जा रही है.

अशोक गहलोत-अविनाश पांडे का बड़ा फैसला ! 19 बागी कांग्रेस विधायकों के क्षेत्रों में उपचुनाव कराने की तैयारियां शुरू 

ट्वीट कर बिटक्वाइन के रूप में पैसा मांगा जा रहा था:
अकाउंट हैक करने के बाद सभी अकाउंट्स से ट्वीट कर बिटक्वाइन के रूप में पैसा मांगा जा रहा था, हालांकि अभी फौरी तौर पर इस मुश्किल को दूर कर लिया गया है. हालांकि ट्विटर ने कहा है कि यह उसके लिए एक कठिन दिन है और वह इस समस्या को जल्द ही सुधारने के लिए काम कर रही है.

आप मुझे एक हज़ार डॉलर भेजिए मैं आपको दो हज़ार डॉलर वापस भेजूंगा:
बिल गेट्स के अकाउंट से किए गए ट्वीट में कहा गया कि हर कोई मुझसे समाज को वापस लौटाने के लिए कहता रहा है, अब वो समय आ गया है. आप मुझे एक हज़ार डॉलर भेजिए मैं आपको दो हज़ार डॉलर वापस भेजूंगा. कई अन्य लोगों ने भी इसी से मिलती जुलती शिकायत की.

कुछ ही मिनट बाद डिलीट हो गए:
इन मशहूर हस्तियों के अकाउंट से पोस्ट किए गए यह ट्वीट कुछ ही मिनट बाद डिलीट हो गए. परंतु इसके बाद तो जैसे एक लहर सी चल पड़ी और कई अन्य प्रमुख लोगों के अकाउंट धड़ाधड़ हैक होने लगे. 

रणदीप सुरजेवाला बोले, भाजपा का षड्यंत्र औंधे मुंह गिर गया, साजिश हो गई फेल 

बिटक्वाइन क्या है?
आपको बता दें कि रुपये और डॉलर बिटक्वाइन एक डिजिटल करेंसी है, जिसे डिजिटिल बैंक में ही रखा जा सकता है. अभी इसे कुछ ही देशों में लागू किया गया है और हर जगह एक बिटक्वाइन की कीमत काफी अधिक है. इन्वेस्टमेंट के हिसाब से लोगों को ये काफी लुभावना लगता है.
 

रिलायंस जियो 5जी का ऐलान, मुकेश अंबानी बोले, यह तकनीक आत्मनिर्भर भारत अभियान को समर्पित

रिलायंस जियो 5जी का ऐलान, मुकेश अंबानी बोले, यह तकनीक आत्मनिर्भर भारत अभियान को समर्पित

नई दिल्ली: रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड ग्रुप के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने रिलायंस जियो 5जी तकनीक का ऐलान किया है. रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड की 43वीं आमसभा को संबोधित करते हुए मुकेश अंबानी ने कहा कि इस तकनीक को पूरी तरह से भारत में ही तैयार किया गया है. ग्रुप के चेयरमैन ने कहा कि यह तकनीक पीएम नरेंद्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत अभियान को समर्पित है. 

मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने बी​जेपी पर लगाए आरोप, कहा-बीजेपी षड्यंत्र करके हमारे साथियों को ले गई

50 करोड़ उपभोक्ताओं तक बनाई अपनी पहुंच:
इसके साथ ही मुकेश अंबानी ने सर्च इंजन गूगल की ओर से रिलायंस जियो की पैरेंट कंपनी जियो प्लेटफॉर्म्स में 33,737 करोड़ रुपए के निवेश की भी घोषणा की.उन्होंने कहा कि गूगल ने जियो प्लेटफॉर्म्स में 7.7 प्रतिशत हिस्सेदारी के बदले यह निवेश किया है. रिलायंस जियो ने 50 करोड़ उपभोक्ताओं तक अपनी पहुंच बनाई है. 

जियो ग्लास भी हुआ लॉन्च:
इसके अलावा 5 करोड़ दफ्तरों तक भी रिलायंस पहुंचा है. इसके अलावा मुकेश अंबानी की बेटी ईशा अंबानी ने रिलायंस के रिटेल प्लेटफॉर्म जियो मार्ट के फ्यूचर प्लान के बारे में जानकारी दी. यही नहीं ईशा अंबानी और आकाश अंबानी ने जियो ग्लास भी लॉन्च किया. यह एक प्रकार का चश्मा है, जिसे पहनकर आप किसी भी मीटिंग में थ्रीडी व्यूजुअल के साथ जुड़ सकते हैं.

नागौर के लाडनूं में हुई 2 ट्रकों में भीषण भिड़ंत, 4 व्यक्ति जिंदा जले

बैन के बाद टिकटॉक ने दी सफाई- नहीं शेयर की जानकारी, चीन को भी नहीं दिया डेटा

बैन के बाद टिकटॉक ने दी सफाई- नहीं शेयर की जानकारी, चीन को भी नहीं दिया डेटा

नई दिल्ली: भारत और चीन विवाद के चलते सोमवार को मोदी सरकार ने देश में टिकटॉक समेत 59 ऐप्स पर पाबंदी लगा दी है. इस बैन के बाद वीडियो मेकिंग ऐप टिक टॉक इंडिया ने एक बयान जारी करते हुए सफाई दी है. कहा है कि किसी भी यूजर की जानकारी दूसरे देश, यहां तक कि चीन को भी नहीं दी गई है.

TikTok, UC Browser सहित 59 चीनी ऐप्स बैन, यहां देखें पूरी लिस्ट  

किसी भी भारतीय यूजर की जानकारी साझा नहीं की:  
टिकटॉक के हवाले से समाचार एजेंसी पीटीआई ने लिखा है कि सरकार के आदेश का पालन किया जा रहा है, लेकिन उनकी तरफ से किसी भी भारतीय यूजर की जानकारी किसी भी दूसरे देश साझा नहीं की गई है, यहां तक की चीन के साथ भी नहीं. वहीं ट्विटर पर एक पोस्ट के जरिए टिक टॉक इंडिया के हैड निखिल गांधी ने कहा है कि हम भारत सरकार के आदेश को मान रहे हैं. इसके लिए हम सरकारी एजेंसियों से मुलाकात भी करेंगे और अपनी सफाई पेश करेंगे. 

टिक टॉक भारत के कानून का सम्मान करता है:
उन्होंने आगे कहा कि टिक टॉक भारत के कानून का सम्मान करता है. टिक टॉक ने भारत के लोगों का डाटा चीनी सरकार सहित किसी भी विदेशी सरकार को नहीं भेजा है. अगर हमे ऐसा करने के लिए कहा भी जाता तो भी हम ऐसा नहीं करते. इससे पहले कल ही मोदी सरकार ने टिकटॉक समेत 59 ऐप पर पाबंदी लगाई है. सरकार के इस फैसले को लद्दाख में तनाव के बीच चीन के लिए कड़े संदेश के तौर पर देखा जा रहा है.

Coronavirus Updates: देश में 24 घंटे में कोरोना के 18522 मामले आए सामने, अब तक 16,893 लोगों की मौत  

14 भारतीय भाषाओं में उपलब्ध टिक टॉक पर लाखों-करोड़ों यूजर्स:
वहीं टिक टॉक ने यह भी दावा किया है कि 14 भारतीय भाषाओं में उपलब्ध टिक टॉक पर लाखों-करोड़ों यूजर्स हैं, जिनमें आर्टिस्ट, स्टोरी टेलर, टीचर हैं जो अपनी रोजमर्रा की रोजी रोटी के लिए इस पर निर्भर हैं. इसके साथ ही यह भी कहा कि इनमें से बहुत सारे लोग तो ऐसे भी हैं जो पहली बार इंटरनेट का इस्तेमाल कर रहे हैं. सरकार के बैन के बाद गूगल ने टिक टॉक समेत सभी बैन किए गए ऐप्स को प्ले स्टोर से हटा दिया है. 


 

Open Covid-19