वाशिंगटन भारतीय-अमेरिकी सांसदों ने स्कूल में भारतीय मूल के छात्र पर हमले की घटना पर जताई चिंता

भारतीय-अमेरिकी सांसदों ने स्कूल में भारतीय मूल के छात्र पर हमले की घटना पर जताई चिंता

भारतीय-अमेरिकी सांसदों ने स्कूल में भारतीय मूल के छात्र पर हमले की घटना पर जताई चिंता

वाशिंगटन: अमेरिका की मौजूदा संसद के सभी चारों भारतीय-अमेरिकी सदस्यों ने टेक्सास के एक स्कूल में भारतीय मूल के एक छात्र के साथ की गई दुर्व्यवहार की एक हालिया घटना पर गहरी चिंता व्यक्त की है.

भारतीय अमेरिकी सांसदों अमी बेरा, रो खन्ना, राजा कृष्णमूर्ति और प्रमिला जयपाल ने सोमवार को जारी एक संयुक्त बयान में कहा कि हम ‘कोपेल इंडिपेंडेंट स्कूल डिस्ट्रिक्ट’ (सीआईएसडी) के ‘कोपेल मिडल स्कूल नॉर्थ’ में हुई हालिया घटना पर अपनी गंभीर चिंता को व्यक्त करने के लिए यह पत्र लिख रहे हैं. जैसा कि आप जानते हैं, घटना के व्यापक स्तर पर प्रसारित वीडियो में दिख रहा है कि 14 वर्षीय किशोर के साथ मार-पीट की जा रही है और अंतत: कथित रूप से कुश्ती के एक दांव के कारण उसका दम घुटने लगा, जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो सकता था.

एक भारतीय अमेरिकी युवा को इस तरह निशाना बनाए जाने की आशंका बहुत परेशान कर रही: 

यह पहली बार है, जब चारों भारतीय-अमेरिकी सांसदों ने संयुक्त रूप से पत्र लिखा है. उन्होंने लिखा कि इस वीडियो ने भारतीय अमेरिकी समुदाय में व्यापक आक्रोश पैदा कर दिया है. भारतीय अमेरिकी सांसद और अपने विविध समुदायों के प्रतिनिधि होने के नाते हमें, एक भारतीय अमेरिकी युवा को इस तरह निशाना बनाए जाने की आशंका बहुत परेशान कर रही है. यह पत्र टेक्सास ब्राड हंट में सीआईएसडी के अधीक्षक और स्कूल के प्रधानाचार्य ग्रेग अक्सेलसन को संबोधित करके लिखा गया है.

एक कुर्सी पर बैठे भारतीय-अमेरिकी छात्र की गर्दन को एक श्वेत छात्र ने काफी देर तक दबाए रखा: 

खन्ना ने ट्वीट किया कि कोपेल मिडल स्कूल नॉर्थ में एक भारतीय अमेरिकी युवा छात्र को निशाना बनाए जाने की हालिया घटना अस्वीकार्य है और इसने पूरे देश को झकझोर दिया है.

इंटरनेट पर प्रसारित एक वीडियो में दिख रहा है कि एक कुर्सी पर बैठे भारतीय-अमेरिकी छात्र की गर्दन को एक श्वेत छात्र ने काफी देर तक दबाए रखा. वीडियो में एक श्वेत छात्र को भारतीय-अमेरिकी छात्र को अपनी कुर्सी से उठने के लिए कहते हुए सुना और देखा जा सकता है. जब भारतीय-अमेरिकी छात्र ने ऐसा करने से मना कर दिया, तो उसका गला दबा दिया गया और उसे कुर्सी से जबरदस्ती हटाया गया. सोर्स-भाषा 

और पढ़ें