इतिहास रचने वाले भारतीय ओलंपिक दल का गर्मजोशी से स्वागत, हवाई अड्डे पर अव्यवस्था

इतिहास रचने वाले भारतीय ओलंपिक दल का गर्मजोशी से स्वागत, हवाई अड्डे पर अव्यवस्था

इतिहास रचने वाले भारतीय ओलंपिक दल का गर्मजोशी से स्वागत, हवाई अड्डे पर अव्यवस्था

नई दिल्ली: ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतकर इतिहास रचने वाले भाला फेंक खिलाड़ी नीरज चोपड़ा के साथ भारतीय ओलंपिक दल का सोमवार को यहां पहुंचने पर गर्मजोशी से स्वागत किया गया लेकिन देश के नायकों की झलक पाने के लिए हवाई अड्डे के बाहर जमा भारी भीड़  से अफरा तफरी जैसी स्थिति हो गयी.

खिलाड़ियों का किया गया माल्यार्पण:
भारतीय खेल प्राधिकरण (साइ) के महानिदेशक संदीप प्रधान की अध्यक्षता में एक प्रतिनिधिमंडल ने खिलाड़ियों का स्वागत किया. उनके साथ भारतीय एथलेटिक्स संघ के प्रमुख आदिल सुमारिवाला भी थे. यहां पहुंचने पर खिलाड़ियों का माल्यार्पण किया गया और गुलदस्ते भेंट किए गए. हवाई अड्डे के कर्मचारियों ने ताली बजाकर उनकी सराहना की और समर्थकों तथा मीडिया कर्मियों की भारी उपस्थिति के कारण बनी अफरा तफरी की स्थिति के बीच उनके लिए बाहर निकलने का रास्ता बनाया.

ऐतिहासिक प्रदर्शन कर लौटे सितारों की एक झलक पाने के लिए जमा हुई भारी भीड़ को महामारी के दौरान लागू सामाजिक दूरी के नियमों की कोई परवाह नहीं थी. हवाई अड्डे के अंदर और बाहर परिवार के सदस्यों के साथ बड़ी संख्या में प्रशंसक और कुछ स्थानीय नेता मौजूद थे. यह प्रशंसक भारतीय तिरंगा लहरा रहे थे और ढोल तथा बैंड की धुनों पर गाने और थिरकने के साथ पदक विजेता खिलाड़ियों का जयघोष कर रहे थे. कुछ प्रशंसक हवाई अड्डे के बाहर उत्साह में पुश-अप्स कर रहे थे और हाथों में खिलाड़ियों के स्वागत में तख्तियां लेकर खड़े थे. हवाई अड्डे के अंदर चोपड़ा और अन्य पदक विजेताओं के साथ सेल्फी लेने की होड़ मची थी जिससे उन्हें परेशानी का सामना करना पड़ा.

खुद को उभरती हुई एथलीट बताने वाली एक छोटी लड़की ने कहा कि हम यहां अपने नायकों का समर्थन करने आये है. हमें उन पर गर्व हैं. सबसे नाटकीय तरीके से कांस्य-पदक विजेता पहलवान बजरंग पूनिया बाहर निकले. वह एक एसयूवी के ‘सनरूफ’ से बाहर निकल कर हाथ हिलाते हुए प्रशंसकों का अभिवादन कर रहे थे, इस दौरान कई प्रशंसक यातायात नियमों की अनदेखी करते हुए उनके साथ चल रहे थे.

बजरंग को इन खेलों से पहले स्वर्ण पदक का दावेदार माना जा रहा था लेकिन वह कांस्य पदक के साथ लौटे. उन्होंने कहा कि हम अगली बार बेहतर करने की कोशिश करेंगे, मेरे घुटने में समस्या थी. बीस किलोमीटर पैदल चाल स्पर्धा में भाग लेने वाले केटी इरफान ने कहा कि यह पहली बार है जब हम इस तरह का स्वागत देख रहे हैं, यह बहुत खुशी की बात है. खेल मंत्री अनुराग ठाकुर शाम में एक कार्यक्रम में खिलाड़ियों को सम्मानित करेंगे.

भारत ने तोक्यो ओलंपिक में सात पदक जीतकर अब तब का अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया है. इस दौरान चोपड़ा स्वर्ण पदक जीतने वाले पहले भारतीय एथलीट बने. भारोत्तोलक मीराबाई चानू और पहलवान रवि कुमार दहिया ने रजत पदक जीते. मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन, बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु, पुरुष हॉकी टीम और पहलवान बजरंग पुनिया ने कांस्य पदक जीते.

पदक विजेताओं में से चानू और सिंधु अपने खेल के पूरा होने के बाद देश लौट आए थे क्योंकि कोविड-19 प्रोटोकॉल के कारण खिलाड़ियों को पदक वितरण समारोह के 48 घंटों के भीतर तोक्यो छोड़ना था. हवाई अड्डे पर खिलाड़ियों के स्वागत के लिए मौजूद कांग्रेस नेता दीपेन्द्र सिंह हुड्डा ने कहा कि यह देश और हरियाणा राज्य के लिए गर्व का क्षण है. नीरज और रवि दोनों हरियाणा से हैं. दूध, दही का खाना, नंबर एक हरियाणा. (भाषा) 

और पढ़ें