भारतीय टीम की बढ़ी मुश्किले, चोटिल विहारी आखिरी टेस्ट से बाहर, जडेजा की जगह शार्दुल 

भारतीय टीम की बढ़ी मुश्किले, चोटिल विहारी आखिरी टेस्ट से बाहर, जडेजा की जगह शार्दुल 

भारतीय टीम की बढ़ी मुश्किले, चोटिल विहारी आखिरी टेस्ट से बाहर, जडेजा की जगह शार्दुल 

नई दिल्लीः ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट श्रृंखला में भारत की फिटनेस समस्यायें बढ़ती ही जा रही है और सिडनी में ड्रॉ रहे तीसरे टेस्ट के नायक हनुमा विहारी हैमस्ट्रिंग चोट के कारण ब्रिसबेन में चौथा टेस्ट नहीं खेल सकेंगे. समझा जाता है कि मैच के बाद विहारी को स्कैन के लिए ले जाया गया. इसकी रिपोर्ट मंगलवार की शाम तक आने की उम्मीद है.

स्कैन की रिपोर्ट आने के बाद ही विहारी की चोट का लग सकेगा पताः 
बीसीसीआई के एक सूत्र ने हालांकि बताया कि विहारी अगले मैच तक फिट नहीं हो सकेंगे जो 15 जनवरी से शुरू हो रहा है. आंध्र के इस खिलाड़ी ने 161 गेंद में 23 रन बनाकर आर अश्विन के साथ मिलकर मैच बचाया. एक सूत्र ने कहा कि स्कैन की रिपोर्ट आने के बाद ही विहारी की चोट के बारे में पता चल सकेगा लेकिन ग्रेड वन चोट होने पर भी उसे चार सप्ताह बाहर रहना होगा और उसके बाद रिहैबिलिटेशन से गुजरना होगा. सिर्फ ब्रिसबेन टेस्ट ही नहीं बल्कि इंग्लैंड के खिलाफ घरेलू श्रृंखला से भी वह बाहर रह सकते हैं .’’

रविंद्र जडेजा की जगह शारदुल ठाकुर लेंगे ब्रिसबेन टेस्ट के लिए टीम में हिस्साः
वहीं ब्रिसबेन में रविंद्र जडेजा की जगह शारदुल ठाकुर ले सकते हैं. जडेजा भी चोटिल हैं. बीसीसीआई ने इसकी पुष्टि की कि जडेजा ब्रिसबेन टेस्ट नहीं खेलेंगे. बोर्ड ने एक बयान में कहा कि रविंद्र जडेजा को सिडनी टेस्ट के तीसरे दिन बायें अंगूठे में चोट लगी थी. उनके अंगूठे की हड्डी खिसक गई है जो स्कैन में पता चला है. विज्ञप्ति में कहा गया कि अब वह भारत लौटने से पहले सिडनी में विशेषज्ञ को दिखाएंगे. इसके बाद बेंगलुरू में राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी जाएंगे.

विकेटकीपर के तौर पर रिधिमान साहा को चुना जा सकता हैः
विहारी के विकल्प के तौर पर रिधिमान साहा को विकेटकीपर के तौर पर और ऋषभ पंत को बल्लेबाज के तौर पर उतारा जा सकता है या मध्यक्रम में मयंक अग्रवाल को जगह दी जा सकती है. पंत ने भी 97 रन की पारी खेली थी. समझा जाता है कि बल्लेबाजी जारी रखने के लिए विहारी और पंत दोनों को दर्द निवारक दवाएं दी गई थी.

घरेलू श्रृंखला में विहारी का टीम में शामिल होने की संभावना कमः
वैसे घरेलू श्रृंखला में भारतीय टीम एक अतिरिक्त गेंदबाज को लेकर उतरना पसंद करती है लिहाजा विहारी के अंतिम एकादश में चुने जाने की संभावना कम ही थी. उनकी जरूरत इंग्लैंड दौरे पर पड़ेगी जहां अंतिम ग्यारह में एक अतिरिक्त बल्लेबाज की जरूरत होगी.
सोर्स भाषा

और पढ़ें