सीकर VIDEO: बोरवेल में फंसे मासूम बच्चे को निकाला गया सकुशल, सीकर जिला प्रशासन ने ली राहत की सांस

VIDEO: बोरवेल में फंसे मासूम बच्चे को निकाला गया सकुशल, सीकर जिला प्रशासन ने ली राहत की सांस

सीकर: खेलते समय बोरवेल में गिरे 4 साल के मासूम को बचाने के लिए चलाया गया अभियान आखिरकार सफल हुआ. 26 घंटे तक चले रेस्क्यू अभियान के बाद बच्चे को सकुशल निकाल लिया गया. कल दोपहर खेलते समय रविंद्र बोरवेल में गिर गया था. बच्चे तक पाइप के जरिए ऑक्सीजन पहुंचाई गई. इसके अलावा बच्चे तक बिस्किट भी पहुंचाए गए. बोरवेल में कैमरा पहुंचाकर बच्चे की लोकेशन मॉनिटर की गई. पुलिस और जिला प्रशासन के अधिकारी मौके पर मौजूद रहे.

एसडीआरएफ के बाद एनडीआरएफ की टीम भी मौके पर पहुंची. बच्चे को रेस्क्यू करने के लिए एसडीआरएफ के बाद अलवर से एनडीआरएफ की टीम भी मौके पर पहुंच गई. इधर मौके पर दांतारामगढ़ विधायक चौधरी वीरेन्द्र सिंह, कलक्टर अविचल चतुर्वेदी, एडीएम धारा सिंह मीणा, एसपी कुंवर राष्ट्रदीप, एसडीएम राजेश मीणा सहित कई प्रशासनिक अधिकारी व स्थानीय जनप्रतिनिधी भी मौके पर जुटे रहे. अच्छी बात ये है कि बोरवेल में फंसा रविन्द्र को काफी मशक्कत के बाद सकुशल बाहर निकाल कर अस्पताल भेजा गया बच्चे के बाहर निकलते ही परिजनों में खुशी की लहर दौड़ गई.
  
ऐसे हुआ हादसा:
सीकर के खाटूश्यामजी के नजदीकी गांव चारणका बास की बिजारणियां की ढाणी में गुरुवार शाम 4 बजे चार साल का रविंद्र खेलते हुए बोरवेल में गिर गया था. बोरवेल की गहराई करीब 400 फीट थी. इलाके के लोगों ने बताया कि बोरवेल को 350 फीट से ज्यादा भर दिया था. बाेरवेल भरने वाले मजदूर बीच में खाना खाने चले और इसी दौरान रविंद्र खेलते-खेलते खुले बोरवेल के पास पहुंच गया. संतुलन बिगड़ने से वह बोरवेल में गिर गया था. बच्चे के गिरने पर आस-पास के लोग मौके पर पहुंच गए. सूचना पर दांतारामगढ़ एसडीएम राजेश कुमार मीणा, थानाधिकारी रिया चौधरी और तहसीलदार विपुल चौधरी टीम के साथ मौके पर पहुंचे. बच्चे को निकालने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया गया. कैमरे से टीम बच्चे की हरकत पर नजर रखी गई. 

50 फीट पर अटका हुआ था मासूम:
मौके पर मौजूद लोगों का कहना है कि रविद्र बोरवेल में करीब 50 फीट पर अटका हुआ था. कैमरे के जरिए उसकी लोकेशन मॉनिटर की जा रही थी. बच्चे को सकुशल निकालने पर प्रशासनिक अधिकारियों ने रेस्क्यू टीम को धन्यवाद ज्ञापित किया.

...फर्स्ट इंडिया के लिए रमेश शर्मा की रिपोर्ट

और पढ़ें