रमेश मीणा की कांग्रेस कैंप में एंट्री की इनसाइड स्टोरी, 2 दिन से चल रहा था मनाने का दौर

जयपुर: खाद्य और नागरिक मंत्री रमेश मीना के कांग्रेस कैम्प में आगमन के साथ ही नाराजगी के सुरों का अंत हो गया. मैरियट में कांग्रेस के कैम्प को सात दिन बीत चुके थे लेकिन नाराजगी के कारण रमेश मीना नहीं आये.इसके बाद उन्होंने मनाने की रणनीति बनी. अविनाश पांडे ,टी एस सिंहदेव और देवेन्द्र यादव ने अहम भूमिका निभाई. अब कांग्रेस का कुनबा पूरा हो गया. खाद्य नागरिक आपूर्ति मंत्री रमेश मीना ने कांग्रेस कैम्प में आकर कैम्प का कोरम पूरा कर दिया. दो दिन से रणनीति पर काम तेजी से शुरु हो गया था. 

पीएम मोदी की वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग, कहा-दूसरे देशों के मुकाबले भारत में कोरोना से मौत कम

कांग्रेस कैंप में आ गए रमेश मीणा:
रमेश मीना को कैम्प में वापसी की पटकथा लिखी प्रमुख नेताओं ने. इनमें प्रमुख रहे टी एस सिंहदेव और देवेन्द्र यादव. टीएस सिंहदेव और देवेन्द्र यादव ने रमेश मीना के घर जाकर बात की. कांग्रेस पर्यवेक्षक के नाते सिंहदेव ने माना था कि रमेश मीना नाराज है ,वहीं देवेन्द्र यादव को कांग्रेस प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे ने इस कार्य में लगाया. देवेन्द्र यादव के रमेश मीना से दोस्ताना सम्बंध रहे. यादव के ने जब दिल्ली विधानसभा का चुनाव लड़ा तो पूरे समय रमेश मीना वहीं रहे. राजस्थान के विधानसभा चुनाव के समय देवेन्द्र यादव ने पूर्वी - मत्स्य - ढूंढाड की करीब एक दर्जन सीटों पर उम्मीदवार उतारने में रमेश मीना का परामर्श लिया. डिप्टी सीएम सचिन पायलट के दिल्ली से जयपुर मेरियट में लौटने के बाद रमेश मीना की नाराजगी दूर होने को बल मिला था.

LAC पर भारत-चीन के बीच हिंसक झड़प, 3 भारतीय सैनिक शहीद, चीनी सैनिकों के भी मारे जाने की खबर

कांग्रेस में प्रखर वक्ता और तेज तर्रार नेता:
रमेश मीना को कांग्रेस में प्रखर वक्ता और तेज तर्रार नेता माना है. वे कुछ दिनों से कई कारणों को लेकर नाराज थे. राज्यसभा चुनाव के समय नाराजगी खुलकर सामने आ गया लेकिन कांग्रेस के प्रति आस्था को कम नहीं रही ,ये अलग बात है कि उनके तेवरों को पार्टी के कई नेताओं ने ठीक नहीं माना था. उधर रमेश मीना ने अपनी समस्याओं को ऊपर तक पहुंचा दिया था. जयपुर आने के बाद अविनाश पांडे ने केसी वेणुगोपाल को आश्वस्त कर दिया था कि रमेश मीना को नाराजगी दूर कर दी जाएगी ,पांडे पहले भी ऐसा कर चुके थे. कल रात ही उनके कैम्प में आगमन को लेकर पुख्ता सूचना शीर्ष नेताओं को थी और आज सुबह मेरियट में उनका कक्ष बुक हो गया था. कहा जा रहा है कि पार्टी के प्रति वफादारी के मनोविज्ञान को टीएस सिंहदेव ने इस्तेमाल किया,उन्होंने रमेश मीना से कहा कि मैं छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री की रेस में मेरा नाम था लेकिन नहीं बन पाया था लेकिन इससे निराश नहीं हुआ,राजनीति उतार चढाव आते रहते है.

...फर्स्ट इंडिया के लिए नरेश शर्मा के साथ योगेश शर्मा की रिपोर्ट

और पढ़ें