Live News »

किसान दुर्घटना बीमा की अटकी हुई राशि शीघ्र जारी करने के हुए निर्देश

किसान दुर्घटना बीमा की अटकी हुई राशि शीघ्र जारी करने के हुए निर्देश

जयपुर: किसान दुर्घटना बीमा प्रकरण में 'फर्स्ट इंडिया न्यूज़' पर खबर चलने के बाद सहकारिता विभाग आज हरकत में आया. श्रीराम जनरल इंश्योरेंस कंपनी के प्रतिनिधियों की रजिस्ट्रार नीरज के पवन ने क्लास ले डाली. रजिस्ट्रार ने कंपनी को निर्देश दिया कि शीघ्र ही दुर्घटना बीमा क्लेम पारित किए जाएं अन्यथा उन पर सख्त कार्रवाई की जाएगी. 

दुर्घटना बीमा के क्लेम के लिए मजलूम किसानों के 300 परिवार दर-दर भटक रहे थे इस मामले को 26 मई को फर्स्ट इंडिया न्यूज़ ने प्रमुखता से उठाया इसके बाद सहकारिता विभाग हरकत में आया और मंगलार को श्रीराम जनरल इंश्योरेंस कंपनी के प्रतिनिधियों के साथ रजिस्ट्रार नीरज के पवन अपेक्स बैंक के एमडी इंदर सिंह व अन्य अधिकारियों ने बैठक की. रजिस्ट्रार डॉ. नीरज के पवन ने बताया कि पीडित किसान परिवारों के साथ अन्याय नहीं होने दिया जाएगा. सहकारी बैंकों से फसली ऋण लेने वाले जिन बीमित किसानों की दुर्घटना में मृत्यु हो गयी है ऐसे किसान परिवारों को दुर्घटना बीमा के तहत बीमा क्लेम के रूप में 10 लाख रूपये तक की राशि बीमा करने वाली कम्पनी से दिलवायी जाएगी.

बीमा कम्पनी शीघ्र किसानों को लंबित क्लेम का भुगतान करें
डॉ. पवन ने इस संबंध में मंगलवार को सहकार भवन में श्रीराम जनरल बीमा कम्पनी के प्रतिनिधियों के साथ आयोजित बैठक में निर्देश देते हुए कहा कि बीमा कम्पनी शीघ्र किसानों को लंबित क्लेम का भुगतान करें. उन्होंने कहा कि कम्पनी द्वारा 15.30 लाख किसानों का बीमा किया गया जिसके पेटे 28.63 करोड़ रूपये का भुगतान प्रीमियम के रूप में कम्पनी को दिया गया है. कम्पनी द्वारा पीडित किसान परिवार को बीमा क्लेम के भुगतान में देरी की गई है और अब तक मात्र 11 क्लेम पास किये है. उन्होंने कहा कि लगभग 300 क्लेम कम्पनी के पास लंबित है जिनका भुगतान किसान परिवारों को होना है. उन्होंने निर्देश दिये कि यदि किसी भी स्तर पर क्लेम से संबंधित दस्तावेजों में कमी है तो उन्हें शीघ्र पूरा कर पीडित परिवार को क्लेम की राशि जारी करें.

क्लेम के दस्तावेजों में कुछ कमियां है तो संबंधित बैंक के अधिकारियों के साथ समन्वय बनाकर उसे पूरा करें 
डॉ. पवन ने स्पष्ट निर्देश दिये की जिन क्लेम में सभी दस्तावेज सही है उनका क्लेम शीघ्र बीमा कम्पनी जारी करे. उन्होंने कहा कि जिन क्लेम के दस्तावेजों में कुछ कमियां है तो संबंधित बैंक के अधिकारियों के साथ समन्वय बनाकर उसे पूरा करे ताकि पीडित परिवार को राहत दी जा सके. बैठक में अपैक्स बैंक के प्रबंध निदेशक इन्दर सिंह ने बीमा क्लेम की वस्तुस्थिति से रूबरू कराया. दरअसल क्लेम की राशि जारी करने के लिए बीमा कम्पनी से लगातार संपर्क किया गया. यदि किसी क्लेम के दस्तावेजों में यदि कमी है तो कम्पनी को शीघ्र ही सूचित करना चाहिए ताकि समय पर पीडित किसान परिवार को बीमा क्लेम का लाभ मिल सके. सूत्रों का कहना है कि कंपनी को सात दिवस का समय दिया गया है कि वह बीमा दावों का निस्तारण करें अन्यथा उस पर सख्त कार्रवाई की जाएगी.

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें
और पढ़ें

Stories You May be Interested in