जयपुर ‘मिशन बुनियाद’ कार्यक्रम को राजस्थान के सभी जिलों में लागू करने के निर्देश, सीएस उषा शर्मा ने दिए निर्देश

‘मिशन बुनियाद’ कार्यक्रम को राजस्थान के सभी जिलों में लागू करने के निर्देश, सीएस उषा शर्मा ने दिए निर्देश

‘मिशन बुनियाद’ कार्यक्रम को राजस्थान के सभी जिलों में लागू करने के निर्देश, सीएस उषा शर्मा ने दिए निर्देश

जयपुर: डिजिटल शिक्षा को मिले प्रोत्साहन, ‘मिशन बुनियाद’ को डिजिटल शिक्षा पर आधारित ‘मिशन बुनियाद’ कार्यक्रम को प्रदेश के सभी जिलों में लागू करने के निर्देश दिए हैं. सचिवालय में सोमवार को इसे लेकर बैठक की अध्यक्षता करते हुए उन्होंने इस संबंध में चिल्ड्रन्स इनवेस्टमेंट फंड फाउंडेशन-CIFF  को संशोधित प्रस्ताव पर कार्य करने के निर्देश दिए है. इसके साथ ही फाउंडेशन के सहयोग से s.m.s. मेडिकल कॉलेज में गर्भवती महिलाओं को एनीमिया इंजेक्शन लगाने के ट्रायल के बारे में भी सीएस ने समुचित निर्देश दिए.

सचिवालय में सीएस उषा शर्मा ने बैठक की अध्यक्षता करते हुए मिशन बुनियाद कार्यक्रम की समीक्षा की. उन्होंने चिल्ड्रन्स इनवेस्टमेंट फंड फाउंडेशन के प्रतिनिधियों को कार्यक्रम के बारे में प्रस्ताव भेजने के निर्देश दिए है, जिससे कार्यक्रम को शीघ्र राज्य के सभी 33 जिलों में संचालित किया जा सके. सीएस ने फाउंडेशन की गतिविधियों, उपलब्धियों व कार्यक्रमों के विस्तार संबंधी प्रस्तावों पर विभागों के उच्च अधिकारियों से चर्चा कर आवश्यक दिशा-निर्देश भी प्रदान किए। इस समय 6 जिलों में यह कार्यक्रम भीलवाड़ा, धौलपुर, सीकर, करौली, सिरोही व उदयपुर में संचालित है जिसकी शर्मा ने प्रशंसा की.

फाउंडेशन के प्रतिनिधियों ने प्रस्तुतीकरण में बताया कि इसके तहत कक्षा एक से आठवीं तक के बच्चों को टेबलेट देकर डिजिटल शिक्षा दी जा रही है. एक रिसर्च के अनुसार टेबलेट के उपयोग करने से छात्राओं के सीखने के स्तर में 20 प्रतिशत सुधार आया है. फाउंडेशन के प्रतिनिधियों ने एक प्रेजेंटेशन के जरिए यह भी बताया कि गर्भवती महिलाओं को ऑरल आयरन टेबलेट्स के स्थान पर इंजेक्शन -इंट्रावेनस के जरिए आयरन दिया जा रहा है. इससे गर्भवती महिलाओं के हीमोग्लोबिन के स्तर में 30 प्रतिशत तक की वृद्धि की जा सकती है.

और पढ़ें