close ads


VIDEO: ये कैसा प्रतिबंध! इंटरनेशनल फ्लाइट पर 31 अक्टूबर तक रोक, लेकिन रोज 2 से 3 फ्लाइट्स का हो रहा संचालन

जयपुर: इसे आश्चर्यजनक ही कहा जाएगा कि केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने इंटरनेशनल फ्लाइट्स के संचालन पर 31 अक्टूबर तक रोक लगा रखी है, लेकिन इसके बावजूद देश में बड़ी संख्या में इंटरनेशनल फ्लाइट्स संचालित हो रही हैं. जयपुर एयरपोर्ट से ही मई माह से शुरू हुई इंटरनेशनल फ्लाइट अब तक संचालित हो रही हैं और कई एयरलाइंस को तो बकायदा फ्लाइट संचालन के लिए अगले माह तक के लिए शेड्यूल जारी किए जाए रहे हैं. आखिर कैसा है यह प्रतिबंध, पड़ताल करती फर्स्ट इंडिया न्यूज़ की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट...

इन दिनों रोज 2 से 3 फ्लाइट्स का हो रहा संचालन:
कोरोना महामारी के कारण देश में 25 मार्च से जब लॉकडाउन लागू हुआ था, तब सभी तरह की घरेलू और इंटरनेशनल फ्लाइट्स का संचालन भी बंद कर दिया गया था. इसके बाद विदेशों में फंसे प्रवासी भारतीयों को स्वदेश वापस लाने के लिए वंदे भारत मिशन शुरू किया गया. इसकी शुरुआत मई माह के पहले सप्ताह से की गई. जयपुर अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर इसकी औपचारिक शुरुआत 22 मई से हुई, जब लंदन से पहली फ्लाइट जयपुर आई थी. लेकिन प्रवासी भारतीयों को स्वदेश लाने का यह सिलसिला कब व्यवसाय के रूप में बदल गया, इसे एयरलाइंस और सरकारी नियामक एजेंसियों के गठजोड़ से समझा जा सकता है. क्योंकि स्वदेश वापसी के दौरान केवल एयर इंडिया को ही फ्लाइट संचालन की अनुमति दी गई थी. लेकिन धीरे-धीरे सभी निजी एयरलाइंस को इसकी अनुमति दी गई और अब न केवल स्वदेशी निजी एयरलाइंस, बल्कि कई विदेशी एयरलाइंस भी जयपुर समेत देश के 25 प्रमुख इंटरनेशनल एयरपोर्ट से फ्लाइट संचालित कर रही हैं.
हालांकि इंटरनेशनल फ्लाइट्स के संचालन पर अभी भी केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने 31 अक्टूबर तक के लिए रोक लगा रखी है. लेकिन कहा ये जा रहा है कि 2 देशों के बीच आपसी एयर बबल समझौते के तहत इंटरनेशनल फ्लाइट संचालित की जा रही हैं. स्पष्टीकरण दिया जा रहा है कि दोनों देशों के यात्रियों को एक से दूसरे देश भेजने के लिए समझौता कर यह फ्लाइट संचालित की जा रही हैं. जयपुर एयरपोर्ट से रोजाना औसतन दो से तीन इंटरनेशनल फ्लाइट संचालित हो रही हैं.

रोक, फिर भी कितनी इंटरनेशनल फ्लाइट्स का आवागमन ?
- अप्रैल माह में 6 इंटरनेशनल फ्लाइट ने भरी उड़ान, 3 यात्रियों का हुआ आवागमन
- मई में 12 फ्लाइट के जरिए 1046 यात्रियों का आवागमन
- औपचारिक रूप से जयपुर एयरपोर्ट पर 22 मई से शुरू हुआ इंटरनेशनल फ्लाइट्स का अराइवल
- जून में 70 फ्लाइट का आगमन, 5739 रहे यात्री
- जुलाई में 103 फ्लाइट के जरिए 7982 यात्रियों का आवागमन हुआ
- अगस्त में 60 फ्लाइट के जरिए 5183 यात्रियों का आवागमन हुआ
- सितंबर में 85 फ्लाइट्स के जरिए 9209 यात्रियों का आवागमन हुआ
- 13 अक्टूबर तक 25 फ्लाइट्स के जरिए करीब 2900 यात्रियों का आवागमन

शारजाह, मस्कट, दुबई, कुवैत सिटी से रोज आ रही फ्लाइट्स:
जयपुर एयरपोर्ट की बात करें तो प्रमुख रूप से जयपुर से दुबई, आबूधाबी, शारजाह, मस्कट और कुवैत सिटी के लिए इंटरनेशनल फ्लाइट संचालित हो रही हैं. हालांकि शुरू में कजाकिस्तान, तुर्की, रूस, यूक्रेन, जॉर्जिया आदि देशों में पढ़ने वाले छात्रों के लौटने की संख्या अधिक थी. लेकिन अब दुबई, मस्कट, शारजाह, आबूधाबी, कुवैत सिटी आदि जगहों पर काम के सिलसिले में आने-जाने वाले कामगारों की संख्या अधिक है. हालांकि शुरू में दुबई या कुवैत सिटी से जयपुर आने के लिए 25 से 35 हजार रुपए तक किराया लिया जा रहा था. लेकिन अब यात्रियों की संख्या में अपेक्षाकृत रूप से गिरावट देखी जा रही है और फ्लाइट भी बढ़ी हैं. ऐसे में हवाई किराया भी कम होने लगा है. अब हवाई किराए की दरें लॉकडाउन से पहले लग रहे किराए के समकक्ष हैं.

इन दिनों विदेश जाने का इतना लग रहा किराया:
- 14 अक्टूबर को जयपुर से शारजाह जाने के लिए एयर अरबिया फ्लाइट में किराया 7752 रुपए
- 14 अक्टूबर को जयपुर से दुबई जाने के लिए एयर इंडिया फ्लाइट में किराया 8163 रुपए
- 20 अक्टूबर को जयपुर से दुबई जाने के लिए स्पाइसजेट की फ्लाइट में किराया 7806 रुपए
- 14 अक्टूबर को दुबई से जयपुर आने के लिए एयर इंडिया एक्सप्रेस की फ्लाइट में किराया 7472 रुपए
- शारजाह से जयपुर आने के लिए एयर अरबिया की फ्लाइट में किराया 7156 रुपए
- 15 अक्टूबर को दुबई से जयपुर आने के लिए स्पाइस जेट की फ्लाइट में किराया 7958 रुपए
- 15 अक्टूबर को दुबई से जयपुर आने के लिए एयर इंडिया की फ्लाइट में किराया 8057 रुपए

कई एयरलाइंस के लिए तो बकायदा शेड्यूल जारी किए गए:
किराए की दरें अगस्त माह तक काफी ज्यादा थी और इस कारण कई विदेशी एयरलाइंस जैसे फ्लाई दुबई, जजीरा एयरवेज, सलाम एयर जयपुर से खाड़ी देशों के लिए फ्लाइट संचालित कर रही थी. लेकिन अब यात्रियों के कम रुझान को देखते हुए केवल इंडिगो, एयर इंडिया और स्पाइसजेट ही फ्लाइट संचालित कर रही हैं. इनके अलावा एयर अरबिया शारजाह के लिए नियमित रूप से सप्ताह में 4 दिन फ्लाइट संचालित कर रही है. इन सभी एयरलाइंस को नवंबर माह तक के शेड्यूल भी जारी हो चुके हैं, जिसके मुताबिक एयरलाइंस टिकट बुक कर रही हैं. एविएशन सेक्टर से जुड़े विशेषज्ञों का कहना है कि एयर बबल समझौते के तहत केवल चुनिंदा एयरलाइंस को छूट देने के बजाय अब लॉकडाउन से पहले की तरह इंटरनेशनल फ्लाइट्स को शुरू किया जाना चाहिए. जिससे एयरलाइंस के बीच प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी और यात्रियों को भी राहत मिल सकेगी.

....फर्स्ट इंडिया के लिए काशीराम चौधरी की रिपोर्ट 

और पढ़ें