VIDEO: विधानसभा में उठा बाढ़ प्रभावित किसानों को मुआवजा नहीं मिलने का मुद्दा 

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/07/11 07:28

जयपुर: कल बजट पेश होने के बाद आज राजस्थान विधानसभा में आज ध्यानाकर्षण प्रस्ताव के ज​रिए बाढ़ प्रभावित किसानों को मुआवजा नहीं मिलने और कोटा दुग्ध उत्पादन सहकारी संघ में भ्रष्टाचार का मामला उठा. मामले में आखिरकार विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी की मध्यस्तता के बाद आपदा प्रबंधन मंत्री को संभागीय आयुक्त से जांच कराने की मांग माननी पड़ी. मंत्री मास्टर भंवरलाल ने दोनों ही मामलों में जांच कराने का आदेश दिया है. एक रिपोर्ट

मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल ने दिए जांच के आदेश:
विधानसभा में आज शून्यकाल में दो ध्यानाकर्षण प्रस्ताव आये. सिरोही विधायक संयम लोढ़ा ने सिरोही जिले में खरीफ फसल 2017 में बाढ़ प्रभावित किसानों को आदान-अनुदान प्राप्त नहीं होने का मामला उठाया. संयम लोढ़ा ने कहा कि पैसा आने के बावजूद किसानों को पैसा नहीं दिया जा रहा है. स्पीकर सीपी जोशी ने भी इस मामले की ठीक से जांच कराने के लिए कहा. इस मामले पर जवाब देते हुए मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल ने कहा कि मामले की जांच संभागीय आयुक्त, जोधपुर से कराई जाएगी और जांच में दोषी व्यक्तियों के विरूद्ध कार्यवाही की जाएगी.  

मेघवाल ने कहा कि जिले में बाढ़ प्रभावित किसानों को आदान-अनुदान वितरण के लिए 106 करोड़ 22 लाख रुपये की मांग प्राथमिक आकलन के आधार पर की गई थी. इसी आधार पर मार्च 2018 में 106 करोड़ 22 लाख रुपये का बजट भी आवंटित कर दिया गया. जिला कलेक्टर द्वारा 23 करोड़ 85 लाख रुपये का वितरण किसानों को कर दिया गया, परन्तु भुगतान से शेष रहे काश्तकारों की बैंक खाता एवं आधार संख्या की सूचियां तैयार करने में समय लगने तथा लेखा नियमों की पालना हेतु जिला कलेक्टर द्वारा बकाया राशि राजकोष में जमा करा दी गई. 

कोटा दुग्ध उत्पादन सहकारी संघ में भ्रष्टाचार का मामला:
वहीं कोटा विधायक संदीप शर्मा ने कोटा दुग्ध उत्पादन सहकारी संघ में भ्रष्टाचार एवं अनियमितता का मामला उठाया. उन्होंने कहा कि कोटा दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ में एक फर्म को लाभ पहुंचाया गया और अधिकारियों द्वारा लेबर सप्लाई का ठेका दिलाने में भ्रष्टाचार किया गया. इसका जवाब देते हुए मंत्री मेघवाल ने कहा कि संबंधित अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस जारी किया जा चुका है. किसी भी प्रकार की अनियमितता सामने आने पर दोषियों के विरूद्ध कार्यवाही की जाएगी।प्राथमिक जांच में मैसर्स चित्रांशु पूर्व सैनिक बहुउद्देशीय सहकारी समिति के साथ दुग्ध संघ कोटा के प्रबंध संचालक तथा लेखाधिकारी को दोषी माना गया. प्राथमिक जांच रिपोर्ट पर कार्यवाही करते हुये दोनों अधिकारियों को कारण बताओं नोटिस जारी कर 7 दिन में स्पष्टीकरण मांगा गया है.

खास बात यह है कि किसानों के मामले पर स्पीकर सीपी जोशी ने भी नई पहल करते हुए मंत्री से कहा कि किसानों की समस्या दूर करने के लिए कदम उठाएं और किसानों तक अनुदान पहुचाने की व्यवस्था करें. अब उम्मीद की जा रही है कि सदन में उठे भ्रष्टाचार के मामलों में त्वरित कार्रवाई होगी. 

... संवाददाता योगेश, ऐश्वर्य, ऋतुराज के साथ नरेश शर्मा की रिपोर्ट 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in