VIDEO: रिंग रोड परियोजना में जेडीए लापरवाही जारी, क्लोवर लीफ के लिए नहीं दे पाया जमीन 

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/09/10 09:41

जयपुर: जयपुर की सबसे महत्वाकांक्षी रिंग रोड परियोजना के मामले में जयपुर विकास प्राधिकरण की भारी लापरवाही बदस्तूर जारी है. रिंग रोड बना रहे भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) की ओर से काफी समय दिए जाने के बावजूद आगरा रोड पर क्लोवर लीफ के लिए जमीन उपलब्ध कराने में जेडीए पूरी तरह नाकाम रहा है, खास रिपोर्ट:

एनएचएआई कर रहा रिंग रोड का निर्माण:
अजमेर रोड से टोंक रोड और टोंक रोड से आगरा रोड तक 47 किलोमीटर लम्बाई में रिंग रोड का निर्माण एनएचएआई की ओर से किया जा रहा है. अजमेर रोड, टोंक रोड और आगरा रोड पर जंक्शन प्वाइंट पर रिंग रोड को राष्ट्रीय राजमार्ग से सीधे जोड़ने के लिए क्लोवर लीफ का निर्माण किया जाना प्रस्तावित है. क्लोवर लीफ बनने से वाहनों का राष्ट्रीय राजमार्ग और रिंग रोड के बीच बिना ट्रेफिक सिग्नल के आवागमन हो सकेगा. आपको बताते हैं कि क्लोवर लीफ के निर्माण के मामले में अब तक क्या हुआ. 

क्लोवर लीफ के निर्माण के मामले में अब तक का घटनाक्रम:
—जेडीए व एनएचएआई के बीच हुए समझौते के मुताबिक क्लोवर लीफ की भूमि जेडीए उपलब्ध कराएगा
—जेडीए ने इसके लिए भूमि अवाप्ति की प्रकिया शुरू कर दी थी
—जेडीए खातेदारों को बतौर मुआवजा अन्य प्रकरणों की तरह जमीन के बदले जमीन देना चाहता था
—प्रभावित खातदेारों ने मुआवजे में विकसित भूखण्ड के बजाए नकद मुआवजा लेने की मांग की
—नकद मुआवजा देने पर जेडीए पर करीब दो सौ करोड़ रुपए का आर्थिक भार आ गया
—परियोजना के लिए हुए समझौते के मुताबिक 35 करोड रु.वार्षिक एनएचएआई से जेडीए को मिलने हैं
—जेडीए की ओर से मांग करने पर एडवांस के तौर पर एनएचएआई ने करीब 200 करोड़ रुपए दे दिए

क्लोवर लीफ के लिए जमीन उपलब्ध नहीं:
जयपुर विकास प्राधिकरण की मांग पर एनएचएआई ने पिछले वर्ष नवम्बर में ही करीब दो सौ करोड़ रुपए जेडीए को दे भी दिए. इसके बावजूद आठ महीने बीतने के बाद भी जेडीए आगरा रोड पर क्लोवर लीफ के लिए जमीन उपलब्ध नहीं करा पाया है. यही कारण है कि एनएचएआई अब केवल अजमेर रोड व टोंक रोड पर क्लोवर लीफ बनाने के लिए निविदा जारी करने की तैयारी कर रहा है. आपको बताते हैं कि आगरा रोड पर भूमि मिलने पर क्या पेच फंसा है और टोंक रोड व अजमेर रोड पर भूमि की उपलब्धता कितनी है. 

भूमि मिलने पर क्या पेच फंसा है:
—आगरा रोड पर 32 सौ वर्गमीटर पर चल रहे पेट्रोल पम्प की भूमि जेडीए नहीं ले पाया है
—यह भूमि क्लोवर लीफ की डिजाइन में बिल्कुल मध्य में आ रही है
—भूमि लेने के लिए प्रभावित पक्ष व जेडीए के बीच केवल नेगाेसिएशन ही चल रहा है
—इसके अलावा आगरा रोड पर एक निर्माण पर कोर्ट का स्टे है
—अजमेर रोड पर 0.63 हैक्टेयर भूमि के खातेदार नकद मुआवजे पर आयकर में छूट मांग रहे हैं
—यह मामला केन्द्रीय वित्त मंत्रालय की स्वीकृति के लिए लम्बित चल रहा है
—इस मामले में भी जेडीए अधिकारियों की लापरवाही रही पहले भेजे प्रस्ताव में इस भूमि को शामिल ही नहीं किया
—जेडीए की ओर से केन्द्रीय वित्त मंत्रालय भेजे गए पहले प्रस्ताव पर अन्य खातेदारों को आयकर में छूट दी गई थी
—टोंक रोड पर एनएचएआई को जमीन को सुर्पद कर दी गई लेकिन इस बारे में कागजी औपचारिकता अब भी लंबित है

रिंग रोड पर राष्ट्रीय राजमार्ग जंक्शन पर अगर क्लोवर लीफ नहीं बनाते हैं तो ट्रेफिक सिग्नल लगाया जाएगा. इससे वाहनों का लम्बा जाम लग जाएगा. इस समस्या से निजात पाने के लिए ही क्लोवर लीफ बनाया जाना प्रस्तावित है. लेकिन जेडीए की लापरवाही के चलते रिंग रोड परियोजना मूर्त रूप नहीं ले पा रही है. 

... संवाददाता निर्मल तिवारी के साथ अभिषेक श्रीवास्तव की रिपोर्ट 


First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in