जयपुर  फ्लाइट संचालन के लिए तैयार जयपुर एयरपोर्ट, लॉक डाउन के दौरान भी मेडिकल फ्लाइट्स का हो रहा संचालन

 फ्लाइट संचालन के लिए तैयार जयपुर एयरपोर्ट, लॉक डाउन के दौरान भी मेडिकल फ्लाइट्स का हो रहा संचालन

 फ्लाइट संचालन के लिए तैयार जयपुर एयरपोर्ट, लॉक डाउन के दौरान भी मेडिकल फ्लाइट्स का हो रहा संचालन

जयपुर: देशभर में लॉक डाउन की इस अवधि के दौरान भी जयपुर एयरपोर्ट पर फ्लाइट संचालन से जुड़ी तमाम व्यवस्थाएं सुचारू चल रही हैं. इन दिनों जहां शेड्यूल्ड फ्लाइट्स का संचालन जयपुर एयरपोर्ट पर पूरी तरह से बंद है. इसके बावजूद इमरजेंसी सेवाओं में शामिल मेडिकल फ्लाइट जयपुर से संचालित हो रही हैं. लॉक डाउन की इस अवधि में अब तक तीन मेडिकल फ्लाइट जयपुर एयरपोर्ट से संचालित हो चुकी हैं. मुंबई, नागपुर और हैदराबाद के लिए संचालित हुई मेडिकल फ्लाइट्स के सुचारू संचालन में एयर ट्रैफिक कंट्रोल और नेविगेशन विभाग, ग्राउंड हैंडलिंग एजेंसी और सुरक्षा से जुड़ी सीआईएसएफ ने अहम भूमिका निभाई है.

जानिए हरियाणा राज्य में कोरोना के हालात, 2 नए मामले आये सामने, मरीजों की संख्या हुई 166

एयरलाइंस कम संख्या में करेंगी फ्लाइट संचालित:
जयपुर एयरपोर्ट से जुड़े सूत्रों ने बताया कि अभी 15 अप्रैल से हालांकि फ्लाइट्स के संचालन की संभावना काफी कम है, लेकिन यदि ऐनवक्त पर भी फ्लाइट शुरू करने के निर्देश आते हैं तो जयपुर एयरपोर्ट प्रशासन इसके लिए पूरी तरह तैयार है. हालांकि लॉक डाउन के बाद एयरलाइंस कम संख्या में फ्लाइट संचालित करेंगी. फ्लाइट संचालन शुरू होने पर एयरलाइंस और एयरपोर्ट प्रशासन के लिए स्टाफ और यात्रियों की सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखना बड़ी चुनौती साबित होगा. दरअसल फ्लाइट के डिपार्चर के दौरान डिपार्चर एरिया में चेक इन काउंटर और सिक्योरिटी होल्ड एरिया में यात्रियों की अक्सर कतारें देखी जाती हैं.

कोरोना के खिलाफ़ जंग, यूथ कांग्रेस की जनता रसोई का आगाज, विरोध के बीच मुकेश भाकर ने सेवा कार्य किए शुरू

सीटों को दूर-दूर रखने के इंतजाम:
ऐसे में यह संभावना है कि फ्लाइट पकड़ने के लिए 2 घंटे पहले पहुंचने के समय को और ज्यादा बढ़ाया जा सकता है. यानी यात्रियों को 3 या 4 घंटे पहले एयरपोर्ट पहुंचने की अपील की जा सकती है. वहीं एयरपोर्ट के बोर्डिंग गेट से पहले स्थित वेटिंग एरिया में भी सीटों को दूर-दूर रखने के इंतजाम करने होंगे. हालांकि जयपुर एयरपोर्ट पर वेटिंग एरिया में पहले ही सीटों की संख्या पर्याप्त नहीं है. एयरपोर्ट प्रशासन को उम्मीद है कि शुरुआत में यात्रियों की संख्या कम रहेगी, ऐसे में भीड़ को व्यवस्थित करना संभव हो सकेगा.

...फर्स्ट इंडिया के लिए काशीराम चौधरी की रिपोर्ट
 

और पढ़ें