जयपुर डेयरी क्षेत्र में स्थापित होगा सेन्टर ऑफ एक्सीलेंस, सीएम गहलोत से डेनमार्क के राजदूत की मुलाकात

डेयरी क्षेत्र में स्थापित होगा सेन्टर ऑफ एक्सीलेंस, सीएम गहलोत से डेनमार्क के राजदूत की मुलाकात

डेयरी क्षेत्र में स्थापित होगा सेन्टर ऑफ एक्सीलेंस, सीएम गहलोत से डेनमार्क के राजदूत की मुलाकात

जयपुर: प्रदेश में डेनमार्क के सहयोग से डेयरी क्षेत्र में सेंटर ऑफ एक्सीलेंस खुलेगा. मुख्यमंत्री आवास पर आज सीएम अशोक गहलोत और डेनमार्क के राजदूत फ्रेड्डी स्वाने के बीच मुलाकात के दौरान डेयरी क्षेत्र में सेंटर ऑफ एक्सीलेंस पर चर्चा की गई. डेनमार्क डेयरी तकनीक में अव्वल माना जाता है. डेनमार्क के राजदूत स्वाने ने कहा कि पशुपालकों को बेहतर सुविधाएं देने के लिए डेयरी साइंस और डेयरी तकनीक के क्षेत्र में डेनमार्क की विशेषज्ञता का लाभ राजस्थान को देने में पूरा सहयोग दिया जाएगा.

विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग पर चर्चा:

मुख्यमंत्री आवास पर हुई इस मुलाकात में कृषि व पशुपालन मंत्री लालचंद कटारिया व सीएम के मुख्य सचिव कुलदीप रांका भी मौजूद थे. सीएम गहलोत ने डेनमार्क के राजदूत के साथ विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग पर चर्चा की. जल संरक्षण और जल शुद्धिकरण के क्षेत्र में भी डेनमार्क के सहयोग की संभावनाओं पर चर्चा की गई. उदयपुर के शहरी क्षेत्र में जल संरक्षण और शुद्धिकरण के काम में डेनमार्क की कम्पनियों का तकनीकी सहयोग मिल रहा है. पेयजल इंजीनयिरिंग के क्षेत्र में राजस्थान और डेनमार्क के बीच सहयोग की रूपरेखा पर भी चर्चा हुई. गहलोत ने स्वाने से राजस्थान और डेनमार्क के बीच कृषि और पशुपालन, खाद्य, ग्रीन टेक्नोलॉजी और वस्त्र उद्योग जैसे क्षेत्रों में सहयोगव निवेश के बारे में चर्चा की.

डेनामार्क की कंपनियों को दिया राजस्थान में निवेश का निमंत्रण:

गहलोत ने डेनामार्क की कंपनियों को दिया राजस्थान में निवेश का निमंत्रण गहलोत ने डेनमार्क के राजदूत को प्रदेश में निवेश के क्षेत्रों के बारे में अवगत करवाया. गहलोत ने डेनमार्क की कम्पनियों को प्रदेश में निवेश के लिए निमंत्रण दिया. गहलोत ने कहा कि राजस्थान सरकार ने दो साल में कई इंडस्ट्री फ्रेंडली फैसले किए हैं. उद्यमियों को सभी जरूरी स्वीकृतियां एक ही छत के नीचे मिल सकें इसके लिए वन स्टॉप शॉप प्रणाली लागू की गई है. सीएम से मिलने से पहले डेनिश राजदूत ने राज्यपाल कलराज मिश्र से भी मुलाकात की थी. माना जा रहा है कि राजदूत की मुख्यमंत्री से मुलाकात के बाद न केवल डेयरी के क्षेत्र में राजस्थान में नई तकनीकी से काम के दरवाजे खुलेंगे, साथ ही डेनमार्क के कुछ उद्द्योगपति राजस्थान में निवेश के लिए भी आकर्षित हो सकते हैं. 

और पढ़ें