राजस्थान विधानसभा उपचुनाव मतगणना में सख्ती से लागू होगा कोरोना प्रोटोकॉल, पढ़ें सभी नियम

राजस्थान विधानसभा उपचुनाव मतगणना में सख्ती से लागू होगा कोरोना प्रोटोकॉल, पढ़ें सभी नियम

राजस्थान विधानसभा उपचुनाव मतगणना में सख्ती से लागू होगा कोरोना प्रोटोकॉल, पढ़ें सभी नियम

जयपुर: भारत निर्वाचन आयोग (Election Commission of India) की ओर से विधानसभा उपचुनाव (Assembly by-election) मतगणना (vote counting) को लेकर आई नई गाइडलाइन (Guideline) के तहत अब काउंटिंग के बाद विजय जुलूस नहीं निकाला जाएगा. नई गाइडलाइन के मुताबिक मतगणना के दौरान बिना डबल वैक्सीन प्रमाण पत्र या आरटीपीसीआर टेस्ट की नेगेटिव रिपोर्ट के किसी को भी मतगणना स्थल पर प्रवेश नहीं दिया जाएगा. मतगणना स्थल पर मुख्य भवन और मुख्य भवन के बाहर क्वारंटीन सेन्टर स्थापित किया जायेगा और इन केन्द्रों पर चिकित्सा विभाग के कर्मचारियों की नियुक्ति होगी. 

प्रदेश में सहाड़ा, राजसमंद, सुजानगढ़ सीट पर उपचुनाव हुए थे. तीनों जगह राजकीय पोलोटेक्निक कॉलेज में मतगणना होगी. हर मतगणना स्थल पर काउंटिंग के लिए 2-2 हॉल हैं. एक हॉल में RO, एक में ARO बैठेंगे. यह होगी व्यवस्था.... 

- काउंटिंग के लिए एक हॉल में लगेंगी 7 टेबलें
- पोस्टल बैलेट की गिनती अलग कक्ष में होगी
- ईवीएम को थ्री लेयर सुरक्षा में रखा गया 
- कोविड गाइडलाइन का ध्यान रखते हुए होगी मतणना
- मतगणना स्थल को दो बार किया जाएगा सेनिटाइज
- काउंटिंग एजेंट, मीडियाकर्मियों का होगा आरटीपीसीआर टेस्ट
- 30 अप्रैल को कराया जाएगा टेस्ट
- विजय सर्टिफिकेट लेने के लिए भी उम्मीदवार और दो लोगों को अनुमति
- विजय जुलूस निकालने पर रहेगी पाबंदी
- मतगणना कक्ष में मतगणना दल एवं काउन्टिंग एजेंट्स को विभाजित करने वाली जाली पर पारदर्शी पोलिथीन शीट लगाई जाएगी ताकि किसी भी प्रकार के संक्रमण की आशंका से बचा जा सके.  
- डबल वैक्सीन प्रमाण पत्र या आरटीपीसीआर टेस्ट की नेगेटिव रिपोर्ट के प्रस्तुत किए बिना किसी को भी मतगणना स्थल पर नहीं मिलेगा प्रवेश
- मतगणना के बाद नहीं निकाला जा सकेगा किसी भी तरह का विजय जुलूस.
- मतगणना स्थल पर एक्सपर्ट चिकित्सकों और चिकित्सा कर्मियों को जरूरी दवाओं के साथ नियोजित किया जाएगा.
- साथ ही मतगणना स्थल पर 2 वेंटीलेटर, ऑक्सीजन बैड तथा एम्बुलेंस की भी व्यवस्था की जाएगी ताकि आवश्यकता होने पर उनका तुरंत प्रयोग किया जा सके.
- मतगणना स्थल के मुख्य प्रवेश द्वार पर अधिक संख्या में व्यक्ति एकत्रित नहीं हों इसलिये मुख्य द्वार पर 2-3 जगह डोर फ्रेम मेटल डिटेक्टर लगाये जाएंगे.
- मतगणना स्थल के हर प्रवेश द्वारा पर थर्मल स्केनिंग करने के लिए चिकित्सा व स्वास्थ्य विभाग के अनुभवी कर्मचारियों की नियुक्ति होगी. इसके अलावा मतगणना स्थल में प्रवेश करने वाले सभी वाहनों का भी सैनिटाईजेशन करवाया जाएगा. 
- मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने संबंधित जिला निर्वाचन अधिकारियों को मतगणना के लिए उन्हीं कर्मचारियों और अधिकारियों को लगाने के निर्देश दिए हैं जिन्हें टीके की दोनों डोज लगाई जा चुकी है. 
- ऐसे कर्मचारियों या अधिकारियों को आरटीपीसीआर से मुक्त रखे जाने के लिए कहा है,लेकिन इस बारे में अधिकृत अधिकारी जारी दस्तावेजों को देखकर मतगणना स्थल में प्रवेश की अनुमति दी जाएगी. 
- मतगणना पर्यवेक्षक, मतगणना सहायक, माईको पर्यवेक्षक तथा उम्मीदवार चुनाव एजेन्ट, मतगणना एजेन्ट जैसे
- मतगणना हॉल में नियुक्त किए कर्मचारी या अधिकारी के साथ-साथ रिटर्निंग अधिकारी, सहायक रिटर्निंग अधिकारी और उनकी सहायता के लिए नियुक्त सभी कर्मचारी मास्क, फेस शील्ड एवं ग्लवज पहन कर रहेंगे. 
- हर 5 राउन्ड के बाद कार्मिक हाथों को सैनिटाइजर से सैनिटाइज करेंगे.  ईवीएम को स्ट्रांग रूम से मतगणना हॉल में लाने ले जाने वाले सभी कार्मिकों को मास्क लगाना अनिवार्य होगा.
- मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि सभी मतगणना स्थलों का 1 मई को व 02 मई  को प्रातः 5.30 बजे तक सेनीटाइज करवाया जाएगा, ताकि मतगणना स्थल पर किसी प्रकार से संक्रमण की सम्भावना नहीं रहे. 
- मतगणना समाप्ति के बाद शाम 6 बजे मतगणना स्थल का सैनिटाईजेशन करवाया जाएगा.
- जीत के बाद विजयी उम्मीदवार के साथ केवल दो लोगों को आने की अनुमति होगी. साथ ही प्रमाण पत्र देने के दौरान भी केवल 2 प्रतिनिधि ही उपस्थित रह सकेंगे.

प्रदेश की राजसमंद, सुजानगढ़ और सहाड़ा में हुए विधानसभा उपचुनाव की 2 मई को मतगणना करवाई जाएगी. तीनों विधानसभाओं में 17 अप्रैल को हुए चुनाव में 60.37% मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया था.
              

और पढ़ें