जयपुर VIDEO: अब मरुधरा की जमीन उगलेगी बिजली ! CM गहलोत की मंशा के अनुरूप ऊर्जा विभाग को मिली बड़ी उपलब्धि

VIDEO: अब मरुधरा की जमीन उगलेगी बिजली ! CM गहलोत की मंशा के अनुरूप ऊर्जा विभाग को मिली बड़ी उपलब्धि

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की सौर ऊर्जा को बढ़ावा देने की मंशा को पूरा करने में जुटे ऊर्जा विभाग ने देशभर में बड़ा कीर्तिमान स्थापित किया है. केंद्र सरकार की पीएम कुसुम कम्पोनेन्ट-ए योजना के अंतर्गत देश का पहला सौर ऊर्जा संयंत्र जयपुर जिले की कोटपूतली तहसील के भालोजी गांव में गुरुवार से शुरू हुआ है. परियोजना की स्थापना के लिए विद्युत क्रय अनुबंध सितम्बर-2020 को जयपुर विद्युत वितरण निगम की ओर से राजस्थान ऊर्जा विकास निगम तथा किसान देवकरण यादव के मध्य 25 वर्ष की अवधि हेतु किया गया है. इस परियोजना का निर्माण 3.50 एकड़ भूमि पर किया गया है तथा 1 मेगावाट क्षमता की इस परियोजना की लागत लगभग 3.70 करोड़ की है. इस अवसर ऊर्जा मंत्री डॉ0 बी.डी कल्ला ने कहा कि  मुख्यमंत्री की अक्षय ऊर्जा के क्षेत्र में विकास एवं निवेश की महत्वकांक्षी योजनाएं हैं. 

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा दिसम्बर 2019 में सौर ऊर्जा एवं पवन तथा हाईब्रिड ऊर्जा की नवीन नीतियां भी जारी की जा चुकी है. उन्होंने बताया कि  वर्ष 2025 तक कुल 38000 मेगावाट अक्षय ऊर्जा क्षमता की स्थापना का लक्ष्य हैं, जिसमे रूफटाप विकेन्द्रीकृत एवं मेगा सोलर एवं हाईब्रिड पार्को की परियोजनाएं सम्मिलित है. डॉ. कल्ला ने कहा कि यह अत्यंत गौरव का विषय हैं कि राज्य के कृषक द्वारा अपनी बंजर एवं अनुपयोगी भूमि पर कुसुम-ए योजना के अन्तर्गत सौर ऊर्जा से विद्युत उत्पादन की प्रथम परियोजना स्थापित कर राजस्थान देश का प्रथम राज्य बन गया हैं. डॉ. कल्ला ने बताया कि सरकार द्वारा बजट घोषणा 2019-20 के तहत प्रदेश में इस योजना के अन्तर्गत 2600 मेगावाट क्षमता के सौर ऊर्जा संयंत्र स्थापित करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया था जिसमें से अब तक 722 मेगावाट क्षमता की परियोजनाओं हेतु लेटर ऑफ अवार्ड जारी किये जा चुके हैं.

- कुसुम योजना में सोलर प्लांट लगाने में राजस्थान बना अग्रणीय
- पीएम कुसुम कॉम्पोनेन्ट-ए योजना से जुड़ी आज की सबसे बड़ी खबर
- योजना के तहत देश के प्रथम सौर ऊर्जा संयंत्र का जयपुर के ग्राम भालोजी में शुभारंभ
- परियोजना की स्थापना के लिए सितम्बर-2020 में किया गया था विद्युत क्रय अनुबंध
- JVVNL की ओर से राजस्थान ऊर्जा विकास निगम तथा कृषक देवकरण यादव के बीच 25 साल का अनुबन्ध
- इस परियोजना का निर्माण 3.50 एकड़ भूमि पर किया गया है  1 मेगावाट क्षमता की इस परियोजना की लागत लगभग 3.70 करोड़ की है

कुसुम योजना के कंपोनेंट "ए" में लीड रोल में राजस्थान ! 
- ऊर्जा विभाग की मेहनत से राजस्थान में लगा देश का पहला कुसुम योजना कंपोनेंट "ए" का प्लांट
- जयपुर के कोटपुतली स्थित भालोजी गांव में पहले सौर ऊर्जा संयंत्र का शुभारंभ
- राजस्थान अक्षय ऊर्जा निगम के CMD डॉ. सुबोध अग्रवाल ने दी जानकारी
- इस प्रोजेक्ट से अनुमानित 17 लाख यूनिट विद्युत का उत्पादन प्रतिवर्ष होगा 
- जिसे जयपुर विद्युत वितरण निगम द्वारा 3.14 रूपये प्रति यूनिट की दर पर 25 वर्ष तक क्रय किया जाएगा 
- इससे कृषक को प्रतिवर्ष लगभग 50 लाख रूपये का राजस्व प्राप्त होगा           
- डॉ. अग्रवाल ने बताया कि प्रधानमंत्री किसान ऊर्जा सुरक्षा एवं उत्थान महाअभियान पी एम कुसुम योजना भारत सरकार की महत्वाकांक्षी योजना हैं 
- इसके कम्पोनेन्ट ए का राज्य में क्रियान्वयन राजस्थान अक्षय ऊर्जा निगम द्वारा किया जा रहा हैं
- इस योजना के प्रथम चरण में कुल 722 मेगावाट क्षमता की परियोजनाएं स्थापित करने हेतु 623 सौर ऊर्जा उत्पादकों का चयन किया गया हैं
- इस योजना के तहत् आगामी चरणों में कुल 2600 मेगावाट क्षमता स्थापित करने की योजना हैं.

अब अनुपजाऊ भूमि पर नहीं लगेगा बंजर होने का "कलंक" ! 
- राजस्थान में लगा देश का पहला कुसुम योजना कंपोनेंट "ए" का प्लांट
- जयपुर के कोटपुतली स्थित भालोजी गांव में पहले सौर ऊर्जा संयंत्र का शुभारंभ
- प्रमुख ऊर्जा सचिव दिनेश कुमार ने इस योजना के क्रियान्वयन के बारे में दी जानकारी
- राजस्थान अक्षय ऊर्जा निगम, डिस्कॉम तथा राजस्थान ऊर्जा विकास निगम के संयुक्त तत्वावधान से संचालित है योजना
- प्रथम चरण मे 623 सौर ऊर्जा उत्पादको (एसपीजी) का चयन
- इनमें  से 201 सौर ऊर्जा उत्पादकों द्वारा परियोजना सुरक्षा राशि जमा करा दी गई है
- इनमे से 170 एसपीजी ने विद्युत क्रय अनुबन्ध साइन कर लिये है
- उन्होंने बताया कि  प्रदेश में इस योजना के क्रियान्वयन से स्थानीय कृषकों की बंजर एवं  अनुपयोगी भूमि से आय के नए स्त्रोतों का विकास, स्थानीय स्तर पर रोजगार में वृद्धि, विद्युत वितरण निगमों की विद्युत छीजत में कमी के साथ-साथ राज्य में प्रदूषण रहित एवं स्वच्छ ऊर्जा के उत्पादन को भी प्रोत्साहन मिलेगा. 

और पढ़ें