जयपुर महंगाई की मार: आज फिर लगी पेट्रोल-डीजल के दामों में आग, घरेलू गैस सिलेंडर पर भी 25 रुपए की वृद्धि

महंगाई की मार: आज फिर लगी पेट्रोल-डीजल के दामों में आग, घरेलू गैस सिलेंडर पर भी 25 रुपए की वृद्धि

जयपुर: कोरोना से जूझ रही जनता अब पेट्रोलियम के बढ़ते भावों से भी त्रस्त नजर आ रही है. कोरोना का तो वैक्सीन भी आ गया लेकिन पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों का वैक्सीन सरकार के पास भी नहीं है. केंद्र सरकार का पेट्रोलियम के दाम पर से नियंत्रण पूरी तरह हट चुका है. वहीं दूसरी ओर तेल कम्पनियों ने आज घरेलू गैस के भी दाम बढ़ा दिए है. घरेलू गैस सिलेंडर पर ₹25 की वृद्धि की गई है. 

14.2 किलो का सिलेंडर अब हुआ 723 रुपये का:
ऐसे में 14.2 किलो का सिलेंडर अब 723 रुपये का का हो गया है. वहीं 19 किलो का वाणिज्यिक सिलेंडर 6 रुपए सस्ता हुआ है. ऐसे में पहले यह 1550 का था तो अब दाम कम होने के बाद 1544 रुपए का हो गया. गैस डिस्ट्रीब्यूटर एसोसिएशन के महासचिव कार्तिकेय गौड़ ने इस बारे में जानकारी दी है. 

पेट्रोल तेजी से सौ का आंकड़ा छूने को आतुर:  
अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत स्थिर रहने के बावजूद तेल कंपनियां लगातार पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ा रही हैं. पेट्रोल तेजी से सौ का आंकड़ा छूने को आतुर दिखाई दे रहा है. आज पेट्रोल 38 पैसे और डीजल भी 35 पैसे की बढ़त के साथ शुरू हुआ. पिछले 23 दिनों में जिस तरह से पेट्रोल और डीजल की कीमतों में वृद्धि हो रही है उससे ऐसा लगता है कि केंद्र सरकार का तेल कंपनियों पर नियंत्रण पूरी तरह समाप्त हो चुका है. 

राज्य सरकार ने पेट्रोल डीजल पर वैट की दर 2 फ़ीसदी घटा दी:
हालांकि राज्य सरकार ने 28 जनवरी को प्रदेश के उपभोक्ताओं राहत दी और पेट्रोल डीजल पर वैट की दर 2 फ़ीसदी घटा दी. इससे पेट्रोल के दाम 1 रुपए 35 पैसे और डिज़ल के 1 रूपए 32 पैसे कम हुए. अन्यथा केंद्र सरकार के स्तर पर देखें तो इस अवधि में पिछले 23 दिन में पेट्रोल जहां 2 रुपए 61 पैसे  लीटर महंगा हुआ है वहीं डीजल की कीमतों में भी दो रुपए 65 पैसे की वृद्धि हुई है. 

पेट्रोल के दाम पहली बार 94 रुपए के नजदीक पहुंच गए थे:
पेट्रोल के दाम पहली बार 94 रुपए के नजदीक पहुंच गए थे. राज्य सरकार की राहत के चलते पेट्रोल 92.89 रूपए के स्तर पर पहुंच गए हैं. वहीं डीजल के दाम में भी 84.97 रुपए का मुकाम हासिल किया है. इसका सीधा मतलब है कि कोरोना संकट के दौर में जहां लोगों के रोजगार छिन रहे हैं, वेतन भत्तों में कमी आई है उस दौर में पेट्रोल डीजल की दरें बढ़ाकर आम आदमी की मानों कमर तोड़ दी गई है.

और पढ़ें