जयपुर Jaipur: RHB ने 250 करोड़ रुपए की जमीन से अतिक्रमण हटाकर लिया कब्जा

Jaipur: RHB ने 250 करोड़ रुपए की जमीन से अतिक्रमण हटाकर लिया कब्जा

जयपुर: राजस्थान हाउसिंग बोर्ड ने बुधवार को जयपुर के प्रताप नगर इलाके में बड़ी कार्रवाई करते हुए 9 बीघा 5 बिस्वा जमीन को अतिक्रमण से मुक्त कराते हुए कब्जे में लिया है. कब्जे में ली गई जमीन का बाजार मूल्य करीब ढाई सौ करोड़ रुपए है.  

हाउसिंग बोर्ड ने अपनी जमीनों को कोर्ट में चल रहे विवादों से मुक्त कराकर कब्जा लेने का जो अभियान चलाया है उस अभियान को आगे बढ़ाते हुए हाउसिंग बोर्ड ने बुधवार को प्रताप नगर इलाके में जयपुर की सबसे प्रमुख महल रोड के नजदीक 9 बीघा 5 बिस्वा जमीन से अतिक्रमण हटाकर उसे कब्जे में लिया है. हाउसिंग बोर्ड के कमिश्नर पवन अरोड़ा खुद कार्रवाई के दौरान मौके पर मौज़ूद रहे. जयपुर पुलिस के सहयोग से हुई कार्रवाई के बाद हाउसिंग बोर्ड ने कब्जे में ली गई जमीन पर अपनी संपत्ति के बोर्ड भी लगाए हैं.

प्रताप नगर इलाके में बुधवार को हुई हाउसिंग बोर्ड की कार्रवाई इसलिए बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि जिस जमीन पर हाउसिंग बोर्ड ने आज कब्जा लिया है उसकी बाजार कीमत करीब 250 करोड़ रुपए है. हाउसिंग बोर्ड कमिश्नर पवन अरोड़ा ने बताया कि इस जमीन का मामला काफी समय से कोर्ट में लंबित में था. बीते कुछ समय से हाउसिंग बोर्ड ने अपने अधिवक्ताओं से कोर्ट में प्रभावी पैरवी कराई. जिसके बाद हाईकोर्ट ने 17 नवंबर को हाउसिंग बोर्ड के पक्ष में फ़ैसला देते हुए सभी रिट याचिकाओं को ख़ारिज कर दिया था. हाउसिंग बोर्ड ने आज कुल 24 हजार वर्गमीटर जमीन पर कब्जा लिया है जिसमे 10 हजार वर्गमीटर जमीन आवासीय है तो वहीं 14 हजार वर्गमीटर जमीन व्यावसायिक है. 

मामला कोर्ट में जाने के संबंधित जमीन पर अतिक्रमण ओं की संख्या बढ़ती गई:
हाउसिंग बोर्ड प्रताप नगर में आज जिस जमीन को अतिक्रमण से मुक्त कराया है उसका मुआवजा हाउसिंग बोर्ड 2009 में ही कोर्ट में जमा करा चुका है, लेकिन मिथ्या तथ्यों के आधार पर काश्तकारों ने इस जमीन को लेकर कई याचिकाएं कोर्ट में दाखिल की जिसके बाद जमीन पर अतिक्रमण हो गया. मामला कोर्ट में जाने के संबंधित जमीन पर अतिक्रमण ओं की संख्या बढ़ती गई लेकिन बीते कुछ महीनों में हाउसिंग बोर्ड कमिश्नर के निर्देशों के बाद हाउसिंग बोर्ड के अधिवक्ताओं ने इस जमीन से जुड़े नए तथ्य कोर्ट के सामने रखे और प्रभावी पैरवी कर फैसला हाउसिंग बोर्ड के पक्ष में कराया. 

जमीन की अच्छी प्लानिंग करने के बाद इसका ऑक्शन किया जाएगा:
इससे पहले भी हाउसिंग बोर्ड कई प्रमुख जमीनों को कोर्ट में चल रहे या अन्य विवादों को निपटा कर जमीनों पर कब्जा ले चुका है. 250 करोड रुपए बाजार मूल्य की जमीन हाउसिंग बोर्ड को मिलना बोर्ड के लिए काफी अच्छे संकेत हैं. हाउसिंग बोर्ड कमिश्नर पवन अरोड़ा ने बताया कि अब इस जमीन की अच्छी प्लानिंग करने के बाद इसका ऑक्शन किया जाएगा. इस जमीन के पास में ही हाउसिंग बोर्ड ने पूर्व में जिस जमीन का ऑप्शन किया था उसे बहुत अच्छा रिस्पांस मिला था और वहां पर कई प्रोजेक्ट भी आ चुके हैं ऐसे में जिस जमीन पर हाउसिंग बोर्ड ने आज कब्जा लिया है इस जमीन से भी हाउसिंग बोर्ड के खजाने में काफी बढ़ोतरी होगी.  

कोर्ट की तारीख को से मुक्त करा कब्जा लिया: 
सरकारी संस्थानों से जुड़ी जमीनों का विवाद अगर एक बार कोर्ट में चला जाए तो ऐसे विवाद लंबे समय तक तारीखों में उलझे रहते हैं और सरकारी संस्थाएं ऐसी जमीनों पर कब्जा नहीं ले पाती है लेकिन हाउसिंग बोर्ड ने एक बार फिर दूसरे विभागों के लिए मिसाल पेश करते हुए एक बेशकीमती जमीन को कोर्ट की तारीख को से मुक्त करा कर उस पर कब्जा लिया है. 

...फर्स्ट इंडिया न्यूज के लिए शिवेंद्र परमार की रिपोर्ट

और पढ़ें