VIDEO: दिवाली पर ट्रेनें फुल, फ्लाइट खाली ! फ्लाइट्स में दिवाली पर अपेक्षाकृत रूप से कम रहा यात्रीभार

जयपुर: दिवाली का पर्व समाप्त हो चुका है. हालांकि अभी भी यात्रियों के आवागमन का सिलसिला जारी है. इस बार दिवाली पर कोरोना के चलते हालांकि पिछले सालों की तुलना में फ्लाइट्स और ट्रेनों में यात्रियों की संख्या कम ही रही है. लेकिन अगर बात की जाए सफर के दोनों ही माध्यमों की, तो यह सामने आया है कि फ्लाइट्स के बजाय ट्रेनों में रौनक लौटी है. फ्लाइट्स की संख्या पिछले साल के मुकाबले 50 फीसदी तक होने के बावजूद यात्रियों की संख्या करीब 40 प्रतिशत ही रही है. 

रेलवे द्वारा देशभर में फिलहाल लगभग 650 ट्रेनों का संचालन किया जा रहा:
प्रदेश में कोरोना के बढ़ते प्रकोप के बीच हवाई यात्रा और ट्रेनों का संचालन पिछले वर्षों की तरह नहीं हो पा रहा है. दिवाली पर भी ट्रेनों व फ्लाइट्स में अपेक्षाकृत रूप से यात्रियों की संख्या काफी कम रही है. रेलवे द्वारा देशभर में फिलहाल लगभग 650 ट्रेनों का संचालन किया जा रहा है. इनमें से करीब 60 यानी 30 जोड़ी ट्रेनें जयपुर से होकर संचालित की जा रही हैं. तो वहीं जयपुर एयरपोर्ट से रोजाना औसतन 28 फ्लाइट्स का संचालन किया जा रहा है. लेकिन दोनों में से यात्रियों का रुझान ट्रेनों में अधिक देखने को मिल रहा है. 

जयपुर से दिवाली के दौरान लोगों ने ट्रेनों में अधिक यात्रा की:
जयपुर से दिवाली के दौरान लोगों ने ट्रेनों में अधिक यात्रा की. जबकि फ्लाइट्स में यात्रियों का रुझान कम रहा. रेलवे द्वारा अभी जिन ट्रेनों का संचालन किया जा रहा है, उनमें से करीब 40 फीसदी ट्रेनें लोकप्रिय रूट की नहीं हैं. ऐसे में उनमें त्यौहार पर भी यात्रियों का रुझान देखने को नहीं मिला. जयपुर से जुड़ी कोटा-हिसार, दिल्ली-जयपुर डबल डेकर ट्रेन में त्यौहार के बावजूद यात्री भार 15 से 20 फीसदी ही रहा. हालांकि त्यौहार स्पेशल ट्रेनों में यात्रियों का आवागमन काफी अच्छा रहा. हवाई यात्रा की बात करें तो जयपुर एयरपोर्ट से पिछले साल के मुकाबले इन दिनों रोजाना औसतन 50 प्रतिशत फ्लाइट चल रही हैं, लेकिन यात्रीभार करीब 40 फीसदी तक ही पहुंचा है. यानी कि अभी भी कुछ फ्लाइट्स में काफी सीटें खाली रही हैं.

दिवाली पर जयपुर एयरपोर्ट से आवागमन:
- बीते साल के मुकाबले महज 40 फीसदी ही रहा यात्रीभार
- 16 नवंबर को सर्वाधिक 6508 यात्रियों ने जयपुर एयरपोर्ट से की यात्रा
- 31 फ्लाइट का हुआ आगमन और 31 फ्लाइट्स का हुआ डिपार्चर
- कोरोना काल में 16 नवंबर को रहा है अब तक का सर्वाधिक यात्रीभार
- इससे पहले 12 नवंबर को 64 फ्लाइट और 6225 यात्रियों का आवागमन
- 13 नवंबर को 54 फ्लाइट और 5694 यात्रियों का आवागमन
- 14 नवंबर को 54 फ्लाइट्स और 5287 यात्रियों का आवागमन
- 15 नवंबर को 54 फ्लाइट और 4851 यात्रियों का आवागमन
- जबकि पिछले साल दिवाली पर औसतन 112 फ्लाइट रोज हुई संचालित
- और औसतन 16000 यात्रियों का रहा था आवागमन

जयपुर जंक्शन पर इन दिनों रोजाना औसतन 25 हजार यात्रियों का आवागमन हो रहा है. 12 और 13 नवंबर को यह आंकड़ा 35 हजार के पार चला गया था. जबकि लॉक डाउन के शुरुआती दिनों में जंक्शन पर श्रमिक ट्रेनों के संचालन के चलते औसतन यात्रीभार 10 हजार था. जयपुर आने और जाने वाली करीब 60 ट्रेनों में से 17 ट्रेनों में त्यौहार के चलते यात्री भार 100 फीसदी से भी अधिक रहा. इनमें आश्रम सुपरफास्ट, बॉम्बे सुपरफास्ट, प्रयागराज-जयपुर, हावड़ा-जोधपुर सहित कुल 17 ट्रेनें शामिल हैं. तो वहीं जबलपुर-अजमेर, दिल्ली सराय रोहिल्ला-अजमेर सहित 9 ट्रेनों में 75 फीसदी तक यात्रीभार रहा. इसके अलावा नई दिल्ली-अहमदाबाद, जयपुर-प्रयागराज सहित पांच ट्रेनों में 50 से 75 फीसदी यात्रीभार और श्रीगंगानगर-कोटा, डबल डेकर सहित 9 ट्रेनों में 25 से 50 फीसदी तक यात्रीभार रहा. कुलमिलाकर दिवाली पर एक तरफ जहां ट्रेनों में काफी हद तक अच्छा यात्रीभार रहा, वहीं फ्लाइट्स में यात्रा अभी भी यात्रियों को बहुत अधिक रास नहीं आ रही है.
...काशीराम चौधरी, फर्स्ट इंडिया न्यूज, जयपुर

और पढ़ें