VIDEO: जयपुर बना देश का सियासी केंद्र, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बन रहे संकटमोचक!

जयपुर: मध्यप्रदेश की सियासत का बीते चार दिनों तक जयपुर केन्द्र बना रहा. एमपी के कांग्रेस विधायकों की बाडेबंदी जयपुर के दो रिसोर्टस में की गई थी. इस दौरान जयपुर के प्रमुख जनप्रतिनिधियों और कांग्रेस नेताओं ने 24*7 अपनी जिम्मेदारी निभाई. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत खुद भी ब्यूना विस्टा रिसोर्ट और ट्री हाउस पहुंचे थे. एमपी के विधायक उनकी सरलता और सादगी के कायल दिखे. राजस्थान में एमपी के कांग्रेस विधायकों के ठहरने और तमाम व्यवस्थाओं का जिम्मा निभाया मुख्य सचेतक डॉ महेश जोशी ने.

कोरोना वायरस से जुड़ी राहत की खबर, राजस्थान के पॉजिटिव 3 मरीजों की रिपोर्ट आई नेगेटिव

बीते डेढ़ साल में अन्य राज्यों की सियासत का केंद्र बना रहा जयपुर:
बीते डेढ़ साल में अन्य राज्यों की सियासत का केंद्र बना रहा जयपुर...चाहे महाराष्ट्र और या मध्यप्रदेश ..और अब गुजरात.......कांग्रेस आलाकमान का सबसे अधिक विश्वास मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के प्रति है. यहीं कारण है कि कांग्रेस आलाकमान की नजरों में राजस्थान एक मुफीद राज्य है..वो राज्य जहां अन्य राज्यों में पनपे कांग्रेस के संकटो का समाधान है. जाहिर है कारण है मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उनके सिपसलारों की फौज ...जो बगैर हल्ला किये टास्क को पूरा करते है. 4 दिनों तक जयपुर के समीप ब्यूना विस्टा और ट्री हाउस रिसोर्ट एमपी के कांग्रेस विधायकों की ठहराव स्थली बने रहे. मेहमानवाजी में राज्य के कांग्रेस नेताओं ने कोई कसर नहीं छोड़ी लेकिन जहां कांग्रेस के 22 विधायक टूट कर बेंगलुरु पहुंच चुके थे ऐसे में यहां रुके एमपी के कांग्रेस विधायकों के प्रति सावधानी आवश्यक थी. बेहद निपुण नेताओं ने जिम्मेदारी को संभाला.

------रिसोर्ट पॉलिटिक्स और राजस्थान कांग्रेस----------
--राजस्थान के इन कांग्रेस नेताओं ने 4 दिनों तक मोर्चा संभाले रखा 
--व्यवस्थाओं के नजरिये कैप्टेन की भूमिका में रहे डॉ महेश जोशी
--महेश जोशी के पास संवेदनशील कामों का दायित्व था
--कूल शूटर के तौर पर जोशी ने काम को बखूबी निभाया
--उप मुख्य सचेतक महेन्द्र चौधरी ने उप कप्तान की भूमिका निभाई,चौधरी भी गहलोत के विश्वस्तों में शुमार है
--विधायक रफीक खान और अमीन कागजी ने व्यवस्थाओं को कुशलता से निभाया 
--अब उनके नाम बताते है जो चौबीसों घंटे विधायकों की सेवा में हाजिर रहे
--ब्यूना विस्टा---गिरिराज गर्ग और रोहित जोशी
--ट्री हाउस--संजय बापना और मुकेश वर्मा 
--रोहित जोशी है डॉ महेश जोशी के पुत्र
--एक युवा के नेता के तौर पर मुकेश वर्मा इन दिनों गहलोत कैम्प के प्रमुख शूटर 
--संजय बापना और गिरिराज गर्ग माने जाते है जिम्मेदार नेता

जनता अवेयर हो गई तो राजस्थान कोरोना को हरा देगा, सीएम गहलोत ने की कलक्टर्स से वीसी

मध्यप्रदेश के बाद गुजरात के विधायकों ने जयपुर में डेरा डाल दिया. टीम महेश जोशी फिर सक्रिय हो गई. एअरपोर्ट से लेकर रिसोर्ट तक दायित्व इसी टीम के जिम्मे है. लेकिन रिसोर्ट की सियासत में कुछ नये नेता निखर कर सामने आये है. जिन्होंने बेहद कुशलता के साथ अपने काम को अंजाम दिया. खास बात यहीं है कि देशव्यासी संदेश अच्छा जाये. पॉलिटिकल मैसेज देने में राज्य कांग्रेस माहिर है.

...फर्स्ट इंडिया के लिये योगेश शर्मा की रिपोर्ट

और पढ़ें