VIDEO: पर्यटकों से गुरजार पिंकसिटी, रौनक देख खिले पर्यटन व्यवसायियों के चेहरे

VIDEO: पर्यटकों से गुरजार पिंकसिटी, रौनक देख खिले पर्यटन व्यवसायियों के चेहरे

जयपुर: लंबे समय बाद आज राजधानी फिर से पर्यटकों से गुलजार नजर आई. जिस तरफ देखो सैलानी ही सैलानी दिखाई दिए. कनक घाटी से आमेर, नाहरगढ़ और बायोलॉजिकल पार्क तक वाहनों की लंबी कतारें देखने को मिली. जल महल, जंतर मंतर, हवा महल और झालाना लेपर्ड सफारी में भी पर्यटकों की खासी रौनक दिखाई दी.

खासकर आमेर देखने वालों का हुजूम उमड़ पड़ा: 
बारिश और अवकाश के खुशनुमा संयोग से रविवार को गुलाबी नगर पर्यटकों से गुलजार रहा. गुलाबी नगर पिकनिक मनाते नजर आया. रविवार सुबह से ही जल महल से कनक घाटी और कनक घाटी से आमेर, नाहरगढ़, जयगढ़ और नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क तक पर्यटकों के वाहन दिखाई दिए. खासकर आमेर देखने वालों का हुजूम उमड़ पड़ा. महल में पर्यटकों की आवक से कोरोना संक्रमण का भय दूर होता दिखा और पर्यटकों से महल गुलजार हो गया. 

पर्यटन एक बार फिर मुख्यधारा में तेजी से आगे आ रहा: 
रविवार को कुल 1297 पर्यटकों ने आमेर देखा. हालांकि यह वह संख्या है जिन्होंने टिकट खरीदकर आमेर महल देखा लेकिन जिस तरह से राजधानी में रविवार को सुहावने मौसम के बीच पर्यटकों की भीड़ दिखाई दी उससे साफ नजर आया कि पर्यटन एक बार फिर मुख्यधारा में तेजी से आगे आ रहा है. इन पर्यटकों ने यहां पर इलेक्ट्रिक कार्ट और सैग वे का आनंद उठाया. साथ ही बरसात के मौसम में भुट्टों की भी काफी बिक्री देखने को मिली. मावठे से लेकर हाथी स्टैंड तक वाहनों की लंबी कतारें लगी रही. लोगों ने मानसिंह महल और शीश महल के बाहर जमकर सेल्फ़ी ली.

रविवार को आमेर महल को 57 हजार से ज्यादा की आय भी हुई:
पर्यटकों के आगमन से रविवार को आमेर महल को 57 हजार से ज्यादा की आय भी हुई. आमेर के अलावा नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क और रेस्क्यू सेंटर 500 से ज्यादा पर्यटक पहुंचे. जल महल से लेकर कनक घाटी तक पर्यटक दिनभर पिकनिक मनाते रहे. नाहरगढ़ पहुंचने वाले पर्यटकों की संख्या भी 300 से ज्यादा रही. जंतर मंतर, अल्बर्ट हॉल और हवा महल पर भी पर्यटकों को ज्यादा देखा गया. देखा जाए तो राजस्थान में पर्यटन के लिहाज से अभी ऑफ सीजन चल चल रहा है. लेकिन पिछले 1 सप्ताह में जिस तरह से बारिश हुई है और राजधानी के चारों और हरियाली छाई हुई है उससे पर्यटक गुलाबी नगर की ओर आकर्षित हो रहे हैं. 

पर्यटकों की आवक से ट्रैवल ट्रेड में भी उत्साह का माहौल:
वैसे भी शहर में इस समय हाथी सफारी, लॉयन सफारी और लेपर्ड सफारी कराई जाती है जो जो देश में सिर्फ जयपुर में ही संभव है. झालाना के जंगल हो या नाहरगढ़, कूकस और ढंड की पहाड़ियां हर तरफ पर्यटक पहुंच रहे हैं. पर्यटकों की आवक से ट्रैवल ट्रेड में भी उत्साह का माहौल है और 1 सितंबर से शुरू होने अगले पर्यटन सत्र को लेकर ट्रैवल ट्रेड की आंखों में चमक साफ दिखाई देती है पर्यटन निगम और पर्यटन विभाग को भी पर्यटकों की आवक से उम्मीद है कि आने वाले सत्र में पर्यटकों की संख्या सभी रिकॉर्ड तोड़ देगी. 

और पढ़ें