जैसलमेर सीमावर्ती क्षेत्र में BSF द्धारा दो संदिग्धों को पकड़ने का मामला, कोरोना जांच के बाद सुरक्षा एंजेन्सियां करेगी संयुक्त पूछताछ

सीमावर्ती क्षेत्र में BSF द्धारा दो संदिग्धों को पकड़ने का मामला, कोरोना जांच के बाद सुरक्षा एंजेन्सियां करेगी संयुक्त पूछताछ

सीमावर्ती क्षेत्र में BSF द्धारा दो संदिग्धों को पकड़ने का मामला, कोरोना जांच के बाद सुरक्षा एंजेन्सियां करेगी संयुक्त पूछताछ

जैसलमेर: जिले की भारत-पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास शाहगढ़ क्षेत्र स्थित कर्मावाली ढ़ाणी के पास गत बुधवार 3 फरवरी को प्रतिबंधित इलाके में घूम रहे दो संदिग्ध व्यक्तियों को बीएसएफ जवानों ने पकड़ा था और उनसे प्रतिबंधित क्षेत्र में आने की वैध अनुमति के बारे में पूछा जो उनके पास नहीं थी. 

बीएसएफ की 18वीं बटालियन के जवानों ने पकड़ा: 
जानकारी के अनुसार जैसलमेर जिले के सांकड़िया क्षेत्र के 21 वर्षीय युवक मजीत खान और इंदिरानगर निवासी 29 वर्षीय युवक मजीद खान बिना वैध अनुमति के सीमावर्ती क्षेत्र में घूम रहे थे तो बीएसएफ की 18वीं बटालियन के जवानों ने उन्हें पकड़ा और उनसे पूछताछ की तो दोनों ने बताया कि वे वहां भेड़-बकरियां ख़रीदने आए थे लेकिन युवकों के पास कोई वैद्य अनुमति नहीं होने के चलते बीएसएफ द्वारा उन्हें पकड़ कर उन्हें शाहगढ़ पुलिस को सुपूर्द कर दिया गया. 

यहां भेड़-बकरियां खरीदने आये थे:
पुलिस अधीक्षक डॉ. अजयसिंह ने इस पर जानकारी देते हुए बताया कि बीएसएफ ने दो लोगों को संदिग्ध स्थिति में पकड़ा जिनका कहना है कि वो यहां भेड़-बकरियां खरीदने आये थे. उन्होनें बताया कि शाहगढ़ क्षेत्र प्रतिबंधित क्षेत्र है यदि वहां किसी को जाना होता है तो उसके लिए एक प्रक्रिया के तहत अनुमति लेनी होती है साथ ही बीएसएफ की चैक पोस्ट पर एंट्री करवाकर जाना होता है. लेकिन इन दोनों के द्धारा बिना बीएसएफ चैक पोस्ट पर जानकारी दिये ही प्रतिबंधित क्षेत्र में जाने के कारण संदिग्ध मानते हुए बीएसएफ ने पकड़ कर पुलिस को सौंपा है. हांलाकि अभी कोरोना काल है इसलिए इनकी कोरोना जांच करवा ली गयी है और रिर्पोट नेगेटिव आने के बाद इनसे संयुक्त पुछताछ की जाएगी.

और पढ़ें