Jaisalmer: मरुधरा में पीने के पानी पर पुलिस का कड़ा पहरा, पानी की चोरी रोकने के लिए इंतजाम

Jaisalmer: मरुधरा में पीने के पानी पर पुलिस का कड़ा पहरा, पानी की चोरी रोकने के लिए इंतजाम

Jaisalmer: मरुधरा में पीने के पानी पर पुलिस का कड़ा पहरा, पानी की चोरी रोकने के लिए इंतजाम

जैसलमेर: देश के पश्चिमी छोर पर बसे थार के मरुस्थलीय जिले जैसलमेर मे पीने के पानी पर अब पुलिस का पहरा रहेगा. ये नजारा इन दिनों जैसलमेर जिले के विभिन्न इलाकों की नहरों में देखने को मिल रहा है. यहां पर नहर विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों के साथ पुलिस के जवान पानी की निगरानी कर रहे हैं. 40 दिन तक पुलिस को पानी की एक-एक बूंद की रक्षा करने का काम सौंपा गया है. इसके लिए पुलिस के साथ ही आरएसी जवान भी तैनात रहेंगे. नहर पर संबंधित क्षेत्र के अधिशासी अभियंता, अधीक्षण अभियंता रेगुलेशन गश्त करेंगे. स्थिति बिगड़ने पर मुख्य अभियंता नहर, संबंधित क्षेत्र के एसडीएम और जिल के एसपी-कलेक्टर भी मैदान में उतरेंगे.

दरअसल, इस बार 22 मार्च से 30 मई तक यानी कुल 70 दिन नहरबंदी रहेगी. 30 मई को पंजाब राजस्थान नहर में पानी छोड़ेगा, जो जून के पहले सप्ताह तक जैसलमेर पहुंच पाएगा. नहरबंदी के बावजूद राजस्थान के नौ जिलों को 30 अप्रैल तक पीने का पानी मिलता रहेगा. 30 अप्रैल से नहर में पूरी तरह पानी बंद हो जाएगा. बावजूद इसके क्षेत्र में कुछ ऐसी नहरें हैं, जहां किसानों की गेहूं की फसलें खड़ी हैं. किसान पीने के पानी से चोरी कर सिंचाई करने का प्रयास करेंगे. इसी चोरी को रोकने के लिए ये सारी कवायद की जा रही है. अगर पीने के पानी की चोरी हुई तो नहर से जुड़े शहरों में पेयजल किल्लत बढ़ जाएगी. 

जनता को परेशानी से बचाने के लिए ये लवाजमा तैयार किया: 
प्रशासन ने जनता को परेशानी से बचाने के लिए ये लवाजमा तैयार किया है. पुलिस अधीक्षक डॉ अजय सिंह ने कहा कि नहर विभाग की मांग पर रामगढ़ व मोहनगढ़ थाने से दस-दस आरएसी के जवान दिए गए है. आगे जरूरत पड़ने पर और जवान मुहैया कराए जाएंगे. 

और पढ़ें