Jaisalmer: मरू महोत्सव का आज दूसरा दिन, सोनार दुर्ग से निकली भव्य शोभा यात्रा

Jaisalmer: मरू महोत्सव का आज दूसरा दिन, सोनार दुर्ग से निकली भव्य शोभा यात्रा

Jaisalmer: मरू महोत्सव का आज दूसरा दिन, सोनार दुर्ग से निकली भव्य शोभा यात्रा

जैसलमेर: कलात्मक सुन्दरता व बारीक नक्काशी कार्य के कारण विश्व स्तरीय पहचान बना चुकी स्वर्णनगरी में जग विख्यात मरू महोत्सव 2021 का आगाज कल नगर आराध्य लक्ष्मीनाथ में महा आरती से हुआ तो आज दूसरे दिन सोनार दुर्ग से भव्य शोभा यात्रा निकली गई. दुनिया के पर्यटन मानचित्र पर पहचान दिलाने वाले मरू महोत्सव का आगाज राजस्थान पर्यटन विभाग के निदेशक प्रशांत जैन, जिला कलक्टर आशीष मोदी, विधायक रूपाराम, पुलिस अधीक्षक अजय सिंह सहित कई जनप्रतिनिधियों एवं प्रशासनिक अधिकारीयों ने हरी झंडी दिखाकर की. इस दौरान शोभा यात्रा में अन्तर्राष्ट्रीय कलाकारों के साथ राजस्थानी लोक नृत्य शुरू हो गया. इन सबके बीच सीमा सुरक्षा बल के अनुशासित बैंड ने भी लोगों को खासा आकर्षित किया. 

पर्यटन का महाकुंभ कहे जाने वाले इस मरू महोत्सव को लेकर  स्वर्णनगरी जैसलमेर की छटा पर्यटन रंगों में सरोबार नजर आ रही है. देश विदेश से आये हजारों सैलानियों से आज स्वर्णनगरी की सडकें गुलजार है और जहां देखो वहां लोक संस्कृतिक के रंग बिखरे दिखाई दे रहे हैं. कालबेलिया सहित अन्य नृत्य देखकर सैलानी व स्थानिय लोगों में उत्साह दिखा और वे कलाकारों के कला प्रदर्शन को एकटक निहारते रहे. गोपा चौक व सोनार दुर्ग के आगे कलाकारों ने जमकर नृत्य व अपनी अनुठी कलकाओं आ प्रदर्शन कर सैलानियों का दिल जीत लिया. 

1989 में ‘डेजर्ट फेस्टिवल’ का पहला आयोजन हुआ:
गौरतलब है कि वर्ष 1980 के बाद ‘क्लासिक टूरिज्म’ के प्रेमी विदेशियों के पांव जैसलमेर में पडऩे शुरू हुए. इसके बाद पर्यटकों की आवक से मरुस्थलीय जिले की तस्वीर संवरने लगी. सरकारी तंत्र ने जल्द ही जैसलमेर के पर्यटन महत्व को भांप लिया और 1989 में यहां ‘डेजर्ट फेस्टिवल’ का पहला आयोजन हुआ. 

कार्निवाल’ के रूप में जैसलमेर पहचान बना चुका:
आज विश्व जगत में देशी-विदेशी सैलानियों के बीच प्रमुख ‘कार्निवाल’ के रूप में जैसलमेर पहचान बना चुका है और यह देन है विश्व विस्तरीय ख्याति अर्जित कर चुके मरू महोत्सव की. मिस्टर डेजर्ट व मिस मूमल के प्रतिभागी आकर्षण शोभायात्रा के साथ चल रहे मरु श्री व मिस मूमल के प्रतिभागी आकर्षण का केन्द्र रहे. रौबदार मूंछ व दाड़ी के बीच राजस्थानी वेशभूषा में देहाती ग्रामीण का वैसभूषा में युवाओं ने लोगों को अपनी ओर आकर्षित किया. 

सैलानियों में फोटो का क्रेज:   
शोभायात्रा के दौरान देसी-विदेशी सैलानियों में फोटो का क्रेज रहा. हर कोई अपने मोबाइल व फोटो कैमरा से फोटो शूट करता नजर आया. पुलिस की और सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम दिखाई दे रहे हैं. 

और पढ़ें