जैसलमेर जेल में फिंगरप्रिंट तकनीक से अब सीधा लगेगा घरवालों को कॉल

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/05/15 11:36

जैसलमेर: महानिदेशक कारगार विभाग जयपुर के आदेशानुसार राजस्थान की समस्त जिला स्तरीय जेलों एवं एक केन्द्रीय कारागृह अजमेर को उच्चस्तरीय तकनीकी से लेस किया जाना सुनिश्चत हुआ है. 25 सितम्बर 2018 में जारी आदेशों की क्रियावन्त स्वरूप कई जेलों को पहले ही आधुनिक तकनीक से लेस जा चुका है लेकिन आज जैसलमेर जेल को भी आधुनिक तकनीकी से परिपूर्ण किया गया. कु़छ समय पूर्व जारी आदेश से जैसलमेर जेल में PICS "prisons inmate calling system"  लगाने का निर्णय हुआ और जैसलमेर जेल को इण्वेडर कम्पनी के साथ हुए टेंडर से अवगत करवाया गया. इसी कड़ी में कम्पनी ले प्रतिनिधि और दक्ष तकनीशियनों ने जैसलमेर जेल पहुंचकर जेल के वीसी रूम में फोन कॉल करने की विशेष मशीन को स्थापित किया.  

मशीन का नाम PICS दिया गया है जिसका मतलब होता है कम्प्यूटरीकृत फोन प्रणाली, जिसके द्वारा बंदियों की उनके परिजनों से सीधी बात होंगी और इसके लिए बन्दी के परिजनों को 1 रुपया प्रति मिनट की दर से शुल्क जिला कारागृह कोष में जमा करवाना होगा जो अग्रिम भुगतान के रूप में देय होगा. प्रत्येक बन्दी को प्रतिदिन केवल पांच मिनट बात करने के लिए मिलेंगे. यह मशीन बंदियों का समस्त रिकॉर्ड रखेगी जिसमें बन्दी के परिजनों के चार मोबाइल नम्बर रजिस्टर्ड होंगे तथा पहले से बन्दी के फिंगरप्रिंट का रिकॉर्ड संधारित होगा ताकि जब भी कोई बन्दी मशीन पर फिंगरप्रिंट स्केनर पर अपना फिंगरप्रिंट देगा मशीन पर लगी स्क्रीन पर चार फोन नंबर दिखाई देंगे जिस पर टच करने मात्र से वह इच्छित व्यक्ति से बात कर सकेगा. 

जैसलमेर जेल में पहली बार PICS प्रणाली होने जा रही शुरू
आदेशानुसार यह भी बताया गया है कि सप्ताह मुलाकत दिवस में प्रातः 8 से 11 एवं शाम 3-4 बजे तक एवं अन्य दिवसों में प्रातः 10-11 बजे तक वीएमएस काउंटर पर शुल्क राशि जमा करवायी जा सकेगी. जेल के जेलर निरंजन शर्मा ने बताया कि जैसलमेर जेल में पहली बार PICS प्रणाली शुरू होने जा रही है जिसका सेटअप कम्पनी द्वारा किया जा चुका है. जल्दी ही इस मशीन में जेल के बंदियो और उनके परिजनों के नाम और कालिंग नम्बर के आंकड़े फीड कर इस कम्प्यूटरीकृत फोन प्रणाली को शुरू कर दिया जाएगा. बन्दी प्रतिदिन एक रुपये प्रति मिनिट के हिसाब से 4 मिनट 58 सेकेंड बात कर सकेंगे. महानिदेशक कारागृह विभाग जयपुर के आदेशानुसार जैसलमेर जेल में इस तरह की ऑटोमेटेड सिस्टम का स्थापित करने का कार्य इनवेड कम्पनी द्वारा किया जा चुका है .  

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in