6 विश्वकप खेलने वाले पहले खिलाड़ी जावेद मियांदाद का आज है जन्मदिन 

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/06/12 06:40

लंदन: पाकिस्तान के महान क्रिकेटर जावेद मियांदाद आज अपना 62वा जन्मदिन मना रहे हैं. इस मौके पर उन्हें आईसीसी ने भी बधाई दी है. वह पहले ऐसे खिलाड़ी हैं, जिन्होंने 6 विश्वकप (1975 से 1996) में पाकिस्तान का प्रतिनिधित्व किया है. उनके बाद भारत के मास्टर बलास्टर सचिन तेंदुलकर (1992 से 2011) ने छह विश्वकप खेले हैं. 

गुजरात से पलायन कर गए कराची:
मियादाद का जन्म 12 जून 1961 में कराची शहर में हुआ था. 1947 में भारत-पाकिस्तान विभाजन के बाद उनके माता-पिता पालमपुर, गुजरात से पलायन कर कराची में बस गए थे. उनके तीन भाई अनवर, सोहैल और बशीर फर्स्ट क्लास क्रिकेट खेलते थे. इसका अलावा उनके भतीजे फैज़ल इक़बाल भी पाकिस्तान के लिए खेले. 

डेब्यू और करियर:
पाकिस्तान की टीम में जगह बनाना उनके लिए अपने आप में एक अचीवमेंट थी. जिस समय मियांदाद ने टीम में एंट्री ले, उस समय टीम में  मुश्ताक़ मोहम्मद, मजीद खान, सादिक़ मोहम्मद , ज़हीर अब्बास, आसिफ इक़बाल और वसीम राजा जैसे दिग्गज बल्लेबाज़ टीम का हिस्सा थे. उन्होंने अपना टेस्ट डेब्यू 9 अक्टूबर 1976 को  न्यू ज़ीलैण्ड के खिलाफ किया था. इससे एक साल पहले 11 जून 1975 ( विश्वकप 1975 ) को  वेस्ट इंडीज के खिलाफ वन डे डेब्यू किया. उन्होंने अपना आखिरी टेस्ट मैच 16 दिसंबर 1993 को ज़िम्बाब्वे के खिलाफ खेला और 9 मार्च 1996 ( विश्वकप 1996 क्वाटर फाइनल ) को भारत के खिलाफ खेला था. टेस्ट क्रिकेट में पाकिस्तान के लिए सबसे ज़्यादा रन बनाने वाले मियादाद का रिकॉर्ड सिर्फ यूनिस खान ही तोड़ पाए. 

करियर के आंकड़े:
                       टेस्ट            ओडीआई        फर्स्ट क्लास                 

मैच                  124             233               402                 
रन्स                 8,832         7,381           28,663    

कोचिंग करियर:
मियांदाद उन गिने चुने खिलाडियों में से हैं जिन्होंने अपनी राष्ट्रीय टीम की कोचिंग की कमान तीन बार संभाली है. पहली बार सितम्बर 1998 में पाकिस्तान टीम की कोचिंग की कमान संभाली थी. अप्रैल 1999 में अज्ञात कारणों पाकिस्तान टीम के कोच के पद से इस्तीफा दे दिया था. सन 2000 में मोईन खान को कप्तानी सौंपने के बाद पीसीबी ने मियांदाद को फिर से टीम का कोच बनाया. 2001 में न्यूज़ीलैण्ड के खिलाफ सीरीज हारने के बाद उन्हें पद से इस्तीफा देना पड़ा. 2003 विश्वकप में पाकिस्तान के बाहर होने के बाद टीम में काफी बदलाव हुए. इस वजह से पी.सी.बी को फिर से मियादाद की याद आयी. 2004 में भारत ने पाकिस्तान की सरज़मीं पर टेस्ट सीरीज में ऐतिहासिक जीत दर्ज की जिसके बाद उन्हें बाहर का रास्ते दिखा दिया गया.

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in