नकदी संकट से जूझ रही जेट एयरवेज की अंतरराष्ट्रीय उड़ान पर मंडराया खतरा

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/04/11 05:03

नई दिल्ली। नकदी संकट से जूझ रही जेट एयरवेज की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही है। जेट एयरवेज के लिए बोली की तारीख बढ़ाकर 12 अप्रैल कर दी गई है। अब तक कोई बोली लगाने वाला सामने नहीं आया है। दूसरी तरफ डीजीसीए ने 7 विमानों का रजिस्ट्रेशन भी रद्द कर दिया है। इसी के चलते अब जेट एयरवेज के अंतरराष्ट्रीय उड़ान अधिकार खतरे में आ गए हैं।

Jet Airways international flying rights under threat

Read @ANI Story | https://t.co/vfFjYlMOmh pic.twitter.com/pJviGlwM4s

— ANI Digital (@ani_digital) April 11, 2019

दरअसल सिविल एविएशन सचिव प्रदीप सिंह खारोला ने कहा है कि जेट एयरवेज वर्तमान में 15 से कम विमानों का परिचालन कर रहा है और अंतर्राष्ट्रीय मार्गों पर उड़ान भरने की इसकी पात्रता की जांच की जानी चाहिए। उन्होंने बताया कि अंतरराष्ट्रीय मार्गों पर उड़ान भरने की अनुमति वाली एयरलाइनों के पास सेवा में 20 विमान होने चाहिए।

बता दें कि एयरलाइन के बेड़े में 119 विमान हैं। सार्वजनिक क्षेत्र की इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड ने बुधवार को जेट एयरवेज को ईंधन की आपूर्ति एक बार फिर से रोक दी। पिछले आठ दिन में तीसरी बार आपूर्ति रोकी गई है। ईंधन बकाया का भुगतान नहीं मिलने की वजह से आईओसीएल ने यह कदम उठाया है।

 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in