झालावाड़ Jhalawar: महिला पुलिस कर्मियों ने सरहद पर तैनात सैनिक भाइयों को भेजी राखी

Jhalawar: महिला पुलिस कर्मियों ने सरहद पर तैनात सैनिक भाइयों को भेजी राखी

Jhalawar: महिला पुलिस कर्मियों ने सरहद पर तैनात सैनिक भाइयों को भेजी राखी

झालावाड़: रक्षा बंधन (Raksha Bandhan) भाई-बहन के प्यार-दुलार का त्योहार होता है. इस मौके पर बहने अपने भाई की कलाई पर रक्षा सूत्र बांधती है और उनकी सलामती की दुआ  करती है तो भाई भी बहनों को रक्षा के वचन के साथ उनको उपहार स्वरूप गिफ्ट भी देता है. लेकिन उन बहनों का क्या जिनके भाई देश के लिए बॉर्डर (Border) पर जुटे है और अपनी ड्यूटी कर रहे हैं. उनकी बहने भी यहां उनकी सलामती की दुआएं तो करती ही है साथ ही उनको रक्षा सूत्र भी भेजती है जो उनको बॉर्डर पर मिलते है. जिससे भाइयों को बहन का प्यार रक्षा सूत्र के रुप में मिलता है.

ऐसा ही नजारा द्वारिकाधीश मन्दिर मे ड्यूटी कर रही महिला सुशीला चोधरी का देखने को मिला है. जिन्होंने अपने भाई जो चाइना बॉर्डर पर तैनात है उनको खूबसूरत रक्षा सूत्र राखी भेजी है. साथ ही 51 राखियों को भी भेजा है जो अन्य भाइयों की कलाई पर सजेगी. सुशीला चोधरी के भाई राहुल चौधरी है जो बोर्डर पर तैनात है. राहुल चौधरी निशानेबाजी में माहिर है. वह राष्ट्रपति अवार्ड से भी सम्मानित हो चुके हैं. उनको 1 लाख रुपए नगद राशि भी मिल चुकी है. राहुल चौधरी की जब पोस्टिंग जम्मू-कश्मीर में थी तब उन्होंने आतंकवादियों से मुठभेड़ में कई आतंकवादियों को मार गिराया था. अभी वह चाइना बार्डर पर तैनात है.

राखियों को कोरियर द्वारा भाई को भेजती:

सुशीला चौधरी 17 साल में 2 ही बार भाई की कलाई पर राखी बांध सकी. हर बार राखियों को कोरियर द्वारा भाई को भेजती है. झालरापाटन के भगवान द्वारकाधीश मंदिर पर महिलाएं देश के सैनिकों के लिए राखियों को एकत्र उन्हें भेजती है. साथ ही मन्दिर परिसर में आजादी के 75 वर्ष अमृत महोत्सव मनाया गया. इस दौरान महिलाओं ने तिरंगा लहरा कर आजादी का घर-घर तिरंगा (Har Ghar Tiranga) अभियान की शुरुआत भी की.

और पढ़ें