जयपुर VIDEO: 13 साल से बेजार पड़ा झूलेलाल मार्केट अब होगा गुलजार, RHB ने दी तिब्बती बाजार को नई पहचान, देखिए ये खास रिपोर्ट

VIDEO: 13 साल से बेजार पड़ा झूलेलाल मार्केट अब होगा गुलजार, RHB ने दी तिब्बती बाजार को नई पहचान, देखिए ये खास रिपोर्ट

जयपुर: सर्दी का सीजन शुरू होते ही सबकी जुबान पर तिब्बती शरणार्थी व्यवसायियों का जिक्र आता है, तिब्बती व्यवसाई लंबे समय से जयपुर में सर्द कपड़ों का व्यापार कर रहे हैं, जहां हर बार सर्दी के सीजन में बड़ी संख्या में लोग कपड़े खरीदने पहुंचते हैं, इस बार का तिब्बती बाजार सबसे खास रहने वाला है, क्योंकि इस सीजन का तिब्बती बाजार किसी खुली जगह में नहीं लग कर हाउसिंग बोर्ड की झूलेलाल मार्केट में लगने जा रहा है 

बदल गया है तिब्बती बाजार का पता

अब खुले मैदान में नहीं बल्कि शानदार मार्केट में लगेगा तिब्बती बाजार

17 नवंबर से मानसरोवर के झूलेलाल मार्केट में शुरू होगा तिब्बती बाजार

17 नवंबर को यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल करेंगे तिब्बती मार्केट का शुभारंभ

13 साल से बेकार और अनुपयोगी पड़ा झूलेलाल मार्केट अब होगा गुलजार

हाउसिंग बोर्ड कमिश्नर पवन अरोड़ा के प्रयासों से झूलेलाल मार्केट को मिलेगी नई पहचान

मार्केट में बाजार शुरू करने को लेकर तिब्बती व्यवसायियों में खासा उत्साह

झूलेलाल मार्केट में इन दिनों काफी हलचल दिखाई दे रही है

मानसरोवर में हाउसिंग बोर्ड की ओर से विकसित झूलेलाल मार्केट जो अभी तक कंडम और बेकार नजर आता था वह इन दिनों काफी हलचल दिखाई दे रही है, हलचल इसलिए क्योंकि 17 नवंबर से झूलेलाल मार्केट 13 साल में पहली बार गुलजार होने वाला है, 17 नवंबर से झूलेलाल मार्केट में सर्द कपड़ों का तिब्बती बाजार शुरू होने वाला है, UDH मंत्री शांति धारीवाल 17 नवंबर को तिब्बती बाजार का शुभारंभ करेंगे. जिसे लेकर तिब्बती व्यवसायियों के साथ ही जयपुर शहर के लोगों में भी खासा उत्साह देखा जा रहा है, झूलेलाल मार्केट जो कि 13 साल से बेकार और अनुपयोगी पड़ा हुआ था हाउसिंग बोर्ड कमिश्नर पवन अरोड़ा की विजन और प्रयासों से वह मार्केट अब जयपुर शहर का की नई पहचान बन गया है, कई वर्षों से तिब्बती व्यवसाई जयपुर में खुले मैदान पर सर्द कपड़ों का बाजार लगाते थे, हाउसिंग बोर्ड कमिश्नर पवन अरोड़ा की समझाइश के बाद तिब्बती शरणार्थी झूलेलाल मार्केट में दुकान खरीदने के लिए तैयार हुए, झूलेलाल, बीते 13 साल में इन दुकानों के निस्तारण के लिए अनेक बार प्रयास किए गए, लेकिन इनका निस्तारण नहीं हो सका, 

झूलेलाल मार्केट की कनेक्टिविटी के लिए तीन संपर्क ब्रिज बनाए हैं
इन दुकानों का आकर भी मात्र 6 वर्ग मीटर ही था और इस बाज़ार तक पहुँचने के लिए मुख्य सड़क से कोई लिंक रोड भी नहीं था. इसलिए ये दुकानें बिक नहीं पाई थी, हाल ही में हाउसिंग बोर्ड ने इस बाजार की कनेक्टिविटी के लिए तीन संपर्क ब्रिज बनाए हैं जिसके बाद मुख्य सड़क से बाजार तक की कनेक्टिविटी बहुत आसान और बेहतर हो गई है, झूलेलाल मार्केट में तिब्बती व्यवसायियों को शिफ्ट करने का आईडिया इतना सुपरहिट रहा कि बाकी की दुकानों को जरा उसे वोट ने नीलाम किया तो उन्हें खरीदने के लिए लोगों में होड़ मच गई हाउसिंग बोर्ड को झूलेलाल मार्केट के निस्तारण से 22 करोड़ रुपये का राजस्व भी मिला है, हाउसिंग बोर्ड कमिश्नर पवन अरोड़ा ने बताया कि झूलेलाल मार्केट  में से 266 दुकानों को तिब्बती रिफ्यूजी होजरी रेडीमेड सेलर यूनियन को आवंटित किया गया है, जो दुकाने शेष रह गई थीं, उन्हें स्थानीय लोगों को उपलब्ध करवाया गया. खास बात यह है कि इन दुकानो को बोर्ड की ओर से  वर्ष 2014 की आरक्षित स्थिर दर पर पांच वर्ष की मासिक किस्त पर उपलब्ध कराई गई हैं, आपको बतादें कि इस बाजार में कई दुकानों को फूड कोर्ट के लिए आरक्षित किया गया था, जिन्हें नीलामी किया गया है, इन दुकानों को स्थानीय लोगों ने खरीदा है, जल्द ही यहां भव्य फूड कोर्ट भी शुरू हो जाएगा. जिससे खरीददारी करने वाले लोग यहां क्वालिटी टाईम भी बिता सकेंगे.

झूलेलाल मार्केट के अंदर रीजनेबल दरों पर मिल रही है दुकान 
झूलेलाल मार्केट के अंदर रीजनेबल दरों पर दुकान मिलना तिब्बती व्यवसायियों के लिए सपने के साकार होने जैसा है, क्योंकि कई वर्षों से खुले में दुकान लगाने वाले तिब्बती व्यवसाईयों ने  कभी सोचा ही नहीं था जयपुर जैसे बड़े शहर में उन्हें इतनी आसानी से अच्छी जगह पर व्यवसाय करने के लिए मालिकाना हक के साथ दुकानें मिल सकेंगी, ऐसे में इस बार दुकानें शुरू करने को लेकर तिब्बती व्यवसायियों में खासा उत्साह है, स्थाई दुकानें मिलने से जयपुर के लोगों को अब यह फायदा भी होगा कि उन्हें पूरे वर्ष में ऊनी कपडे खरीदने के लिए मिल सकेंगे, तिब्बिति शरणार्थी एसोसिएशन की अध्यक्ष अध्यक्ष ल्हामो ने इन दुकानों के आवंटन के लिए मुख्यमंत्री  अशोक गहलोत, नगरीय विकास एवं आवासन मंत्री  शांति कुमार धारीवाल और हाउसिंग बोर्ड कमिश्नर पवन अरोड़ा का आभार  जाताया  है, तिब्बबतत  शरणार्थी एसोसिएशन के कैशियर डॉजी  ने बताया कि उन्हें मार्केट  के अंदर दुकानें आवंटित कर सरकार और हाउसिंग बोर्ड ने एक नई पहचान दी है, अब तिब्बती व्यवसायी अब सुविधाजनक और सम्मान से अपना व्यपार कर सकेंगे, 17 नवंबर से शुरू हो रहे तिब्बती बाजार के लिए व्यवसायियों ने तैयारियां शुरू कर दी है व्यवसाई अपनी-अपनी दुकानों में पूजा अर्चना कर ऊनी कपड़े रखने की शुरुआत कर रहे हैं, तिब्बती व्यवसायियों को उम्मीद है कि इस बार मार्केट के अंदर बाजार शुरू होने से उनकी अच्छी आय हो सकेगी
जो झूलेलाल मार्केट 13 वर्ष से अनुपयोगी और खंडहर बनती जा रही थी वही झूलेलाल मार्केट इस सर्दी में जयपुर की सबसे व्यस्त जगह बनने जा रही है, सर्दी में तिब्बती व्यवसायियों से ऊनी कपड़े खरीदने के लिए जयपुर शहर के अलग-अलग इलाकों से लोग झूलेलाल मार्केट में पहुंचेंगे

...फर्स्ट इंडिया न्यूज़ के लिए शिवेंद्र सिंह परमार की रिपोर्ट जयपुर

और पढ़ें